पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

मंदबुद्धि युवक की हत्या कर वीडियो बनाई, शराब के नशे में खुद ही जारी की, पकड़ा गया

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

पानीपत. रेरकलां गांव के मंदबुद्धि युवक तरुण की करीब 10 दिन पहले हुई हत्या का सीआईए-टू ने खुलासा किया है। वारदात को आशीष पुत्र ओमप्रकाश ने अंजाम दिया था। 29 जुलाई की रात को तरुण ने स्कूटी लेकर जा रहे आशीष को धर्मगढ़ गांव के पास रोक लिया और घर पर छोड़ने की जिद की। इस पर कहासुनी हो गई। आशीष शराब के नशे में था। वह तरुण को स्कूटी से खेत पर ले गया। वहां पर शराब पी और पत्थर से वार करके तरुण की हत्या कर दी। इसके बाद मोबाइल से वीडियो बनाए, जिसमें वह गालियां देते हुए कह रहा है कि इसको मार दिया। खुद ही वीडियो लोगों के पास भेज दिए। वीडियो पुलिस के पास पहुंचे तो आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया। धर्मगढ़ गांव का रहने वाला आरोपी आशीष अभी मॉडल टाउन के शांति नगर में रहता है। उसने अपने साथियों के साथ पिछले दिनों सिविल अस्पताल में भी डॉक्टर पर गंडासी से हमला कर दिया था।

 

वीडियाे में आरोपी कहता दिखा- मैंने इसको मार दिया: डीएसपी जगदीप सिंह दूहन ने बताया कि एसपी मनबीर सिंह ने इस ब्लाइंड मर्डर केस के आरोपियों को गिरफ्तार करने के लिए सीआईए-टू प्रभारी योगेश कुमार को दी थी। पुलिस के पास आरोपी द्वारा बनाया गया वीडियो हाथ लग गया। सिटी थाना पुलिस ने रविवार को सिविल अस्पताल में डॉक्टर व मरीज पर हमला करने के मामले में आरोपी आशीष को गिरफ्तार किया। तभी पूछताछ में उससे तरुण हत्याकांड की गुत्थी भी सुलझ गई। 

 

अपने खेत पर जा रहा था आरोपी: आरोपी 29 जुलाई की रात को स्कूटी से धर्मगढ़ में जा रहा था। वह नशे में था। रास्ते में तरुण मिला। वहां पर कहासुनी होने के बाद वह खेत पर जाकर शराब पीने लगा। इसके बाद पत्थर से वार करके उसने तरुण की हत्या की। शव को स्कूटी पर रखकर रोड किनारे डालकर भाग गया। गिरफ्तारी के बाद पुलिस आरोपी को ले खेत पर पहुंची। कोठड़े में खून के निशान मिले हैं। 

 

तरुण की आदत थी रात को घर से जाने की: मंदबुद्धि  तरुण रात को घर से बाहर आ जाता था। इधर-उधर घूमने के बाद वह फिर से घर पर जाकर सो जाता था। 29 जुलाई की रात को वह घर से बाहर आ गया। सुबह घर नहीं मिला तो मां शांति ने ताऊ को फोन करके बताया कि तरुण घर पर नहीं आया। तलाश की तो उसका शव धर्मगढ़ गांव के पास खेत में मिला था। मतलौडा थाना पुलिस ने दादा कश्मीरी लाल की शिकायत पर अज्ञात पर हत्या व सबूत मिटाने का केस दर्ज किया था। 

 

आरोपी आशीष इन दो वारदात में भी गिरफ्तार: 6 जुलाई की रात को सिविल अस्पताल के इमरजेंसी वार्ड में हथियार लेकर घुसे। वहां पर तोड़फोड़ करके उत्पात मचाया और डॉ. राजीव मान के साथ हाथापाई कर जान से मारने की धमकी दी। डॉ. मान ने केस दर्ज कराया। मारपीट के बाद इमरजेंसी वार्ड में इलाज करा रहे वधावाराम कॉलोनी के सुभाष और भगत नगर के प्रिंस के साथ भी मारपीट की। इस पर दो केस दर्ज हुए थे। दोनों पर आशीष को गिरफ्तार किया गया।

 

एक आरोपी का काम नहीं, और भी लोग शामिल: दादा कश्मीरी लाल ने कहा कि वारदात में और भी लोग शामिल हैं। हत्या के समय वीडियो बनाई गई। इसके बाद शव को दूसरी जगह पटका। एक व्यक्ति यह नहीं कर सकता है। बुधवार को पुलिस अधिकारियों से मिलेंगे। 

 

खबरें और भी हैं...