--Advertisement--

45 साल तक बिना प्राइवेट पार्ट के रहा ये शख्स, डॉक्टर्स ने 10 घंटे में बदल कर रखी लाइफ, अब हनीमून पर निकल रहा है कपल

करोड़ों में से एक को होती है ये दुर्लभ बीमारी, सर्जरी में खर्च हो गए 47 लाख रु

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 04:55 PM IST

मैनचेस्टर. इंग्लैंड में डॉक्टर्स ने एक सक्सेसफुल सर्जरी के बाद एक शख्स को नया प्राइवेट पार्ट लगा दिया। ये शख्स बिना प्राइवेट पार्ट के पैदा हुआ था। ये एक ऐसी बीमारी है जो कई करोड़ लोगों में किसी एक को होती है। लंदन के एक फेमस हॉस्पिटल में शख्स की ये लाइफ चेंजिंग सर्जरी हुई। खास बात ये है कि डॉक्टर्स ने उसके इस नए अंग को उसी के शरीर की स्किन का इस्तेमाल करते हुए ही बनाया। करीब 10 घंटे तक चली इस सर्जरी के लिए शख्स को 50 हजार पाउंड (करीब 47 लाख रुपए) खर्च करने पड़े।

फेलोप्लास्टी करते हुए लगाया अंग

- ये स्टोरी ग्रेटर मैनचेस्टर शहर में रहने वाले 45 साल के एंड्रू वार्डल नाम के शख्स की है। जिसकी सर्जरी हाल ही में लंदन यूनिवर्सिटी हॉस्पिटल में करते हुए उसे एक नया प्राइवेट पार्ट लगाया गया।
- एंड्रू पिछले 45 साल से बिना प्राइवेट पार्ट के ही रह रहा था। उसका जन्म 'ब्लेडर एक्स्ट्रोफी' की एक दुर्लभ बीमारी के साथ हुआ था। इस बीमारी को 'एक्टोपिया वसाइक' के नाम से भी जाना जाता है। इस बीमारी में पेशेंट में शरीर में प्राइवेट पार्ट डेवलप नहीं हो पाता है।
- एंड्रू के शरीर में अंडकोष तो थे, लेकिन प्राइवेट पार्ट नहीं था। जिसके बाद एक के बाद एक हुई कई सर्जरियों के बाद उसे ये प्राइवेट पार्ट लगाया गया।
- ब्लेडर एक्स्ट्रोफी नाम की ये बीमारी काफी दुर्लभ है, और करीब 40 हजार बच्चों में से किसी एक को होती है। हालांकि एंड्रू के केस में जो जटिलताएं हैं वो करीब 2 करोड़ लोगों में किसी एक में ही पाई जाती हैं।

जून में शुरू हुई थी सर्जरी की प्रोसेस

- एंड्रू को प्राइवेट पार्ट लगाने की प्रोसेस इस साल जून महीने में हुई थी। जब सर्जन्स ने उसके हाथ की स्कीन और पैर की नसों का इस्तेमाल करते हुए प्राइवेट पार्ट बनाना शुरू किया था।
- इसके लिए डॉक्टर्स ने उसकी फेलोप्लास्टी की। जो कि एक तरह कि प्लास्टिक सर्जरी होती है। इसके बाद उसे नया अंग लगाया गया। ये सर्जरी करीब 10 घंटे तक चली।
- सर्जरी के बाद अंग ठीक से काम कर रहा है या नहीं इसके लिए उसे 10 दिन तक हॉस्पिटल में भी रहना पड़ा। साथ ही उसे सेक्स करने के लिए 6 हफ्तों का इंतजार करने को कहा गया।

बटन से काम करता है प्राइवेट पार्ट

- प्राइवेट पार्ट लगने के बाद एंड्रू ने अपनी गर्लफ्रेंड फेड्रा फेबियन के साथ पहली बार फिजिकल रिलेशन भी बनाया। इस एक्सपीरियंस के बाद उसने इसे बेहद शानदार बताया।
- फिजिकल रिलेशन बनाने से पहले एंड्रू को इरेक्शन के लिए एक बटन दबाना पड़ता है, जो उसके पेट और जांघ के बीच में लगा हुआ है। इसके बाद उसके अंडकोष से एक वॉल्व के जरिए सलाइन फ्लूड उसके प्राइवेट पार्ट में जाता है और करीब 20 मिनट के लिए वहां इरेक्शन हो जाता है।
- इस अंग के लगने के बाद एंड्रू को भरोसा है कि एक दिन वो पिता भी बन सकता है। एंड्रू का कहना है कि नया अंग मेरे अंडकोष से जुड़ा हुआ है इसका मतलब ये है कि मैं एक दिन पिता भी बन सकता हूं। उसका कहना है कि इस नई खुशी के आने के बाद फेड्रा ने हमारे लिए एक रोमांटिक ट्रिप भी बुक कर ली है। मेरे बर्थडे पर हम दोनों एम्सटर्डम जाएंगे।

- एंड्रू की गर्लफ्रेंड फेड्रा ने भी इस एक्सपीरियंस को बेहद शानदार बताया। उसके मुताबिक वो बिल्कुल नॉर्मल है, हालांकि वो थोड़ी अलग तरह से वर्क करता है। एंड्रू को वियाग्रा खाने या बूढ़े होने जैसी कोई दिक्कत नहीं होगी।