--Advertisement--

पैर के टूटे बाल के रास्ते शरीर में घुसा खतरनाक वायरस, फैला ऐसा इंफेक्शन कि चली गई आंखों की रोशनी और काटना पड़ा पैर

बाल तोड़ जान भी ले सकता है, बाकी के लिए अलर्ट है ये शॉकिंग स्टोरी

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 05:03 PM IST

सेंट पॉल. अमेरिका में एक शख्स के पैर के टूटे बाल ने उसे मौत के मुंह में पहुंचा दिया था। टूटे बाल की जगह से खतरनाक वायरस इस शख्स के शरीर में दाखिल हुआ, जिसके चलते उसे भयानक दर्द रहने लगा। इंफेक्शन ऐसा फैला कि दो हफ्ते बाद आंखों की रोशनी चली गई और वो शख्स मौत के मुंह पर पहुंच गया। जब डॉक्टर को दिखाया गया तब जाकर इंफेक्शन का पता चला। डॉक्टर ने हालत देखते ही साफ कर दिया कि युवक की जान बचाने के लिए पैर काटने के सिवा कोई रास्ता नहीं है।

सीटी स्कैन में सामने सच
- मामला मिन्नेसोटा स्टेट की सेंट पॉल सिटी का है, जहां 53 साल के मार्क नेगल के पैर में बाल तोड़ हुआ था और इसके बाद से उसके पैरे में भयानक दर्द रहने लगा था। ये सिलसिला कई दिनों तक चलता रहा।
- करीब दो हफ्ते बाद मार्क की आंखों की रोशनी जाने लगी और उन्हें कुछ दिनों के लिए दिखना बंद हो गया। घबराई वाइफ टैमी ने एंबुलेंस बुलाई और मार्क को लेकर हॉस्पिटल पहुंची, जहां डॉक्टर्स ने उनकी जान को खतरा बताया।
- मिन्नेसोटा के रीजन्स हॉस्पिटल में जब मार्क का सीटी स्कैन किया गया, तो उसमें पता चला कि वो नेक्रोटाइज़ींग फेसाइटीस से जूझ रहे हैं। इसके बाद डॉक्टर्स ने सर्जरी की बात कही।

6 सर्जरी के बाद बची जान
- मार्क ने बताया कि सर्जन ने जब मेरे पैर खोले कि पैर के अंदर मौजूद वायरस बहुत तेजी से बढ़ रहे हैं। डॉक्टर्स को उनकी बढ़ने की रफ्तार देखकर समझ आ गया था कि अब पैर बचाने का कोई रास्ता नहीं है।
- पैर में जिस जगह पर बाल टूटा था, वहां पर खाली जगह के रास्ते वायरस मार्क के बॉडी सिस्टम में घुसा और उसका मांस खाने लगा था। ये सिलसिला धीरे-धीरे बढ़ता ही जा रहा था।
- डॉक्टर्स ने फैमिली को बता दिया कि मार्क का पैर काटने के सिवा उन्हें बचाने का उनके पास और कोई रास्ता नहीं है। फिर लगातार 6 सर्जरियां कर वायरस से प्रभावित मांस शरीर से अलग किया गया।
- आखिरकार मार्क ने उस रेयर बीमारी को मात दे दी, जिससे बचने वालों का रेट महज 27 फीसदी ही है। मार्क इस बीमारी की चपेट में आने के बाद करीब एक साल गुजार चुके हैं और अब प्रॉस्थेटिक पैरों पर चलना सीख रहे हैं।