--Advertisement--

नया डॉगी लाया था बुजुर्ग, लेकिन एक ही हफ्ते में कर ली थी उसे लौटाने की तैयारी, तभी एक रात हुआ भयानक हादसा, जिससे अनजान थी फैमिली

आधी रात बुजुर्ग के सीने पर चढ़कर रो रहा था डॉगी, मालिक को समझ आ गई पूरी कहानी

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 11:22 AM IST

सैंडी. अमेरिका के रहने वाले एक बुजुर्ग शख्स अपने घर नया डॉगी लेकर आए। पर वो उससे इम्प्रेस नहीं हुए और एक ही हफ्ते में उन्होंने उसे लौटाने की तैयारी कर ली। इसी बीच उन्हें रात में सोते वक्त अचानक हार्ट अटैक आ गया। बगल में सो रही उनकी वाइफ इस बात से अनजान थी, लेकिन डॉगी ने वाइफ को अलर्ट कर दिया। लिहाजा, उन्हें हॉस्पिटल पहुंचाया गया और उनकी जान बचा ली गई। जब बुजुर्ग शख्स ठीक होकर घर लौटे तब फैमिली को डॉगी की समझदारी का अहसास हुआ और उसे घर में जगह मिली।

डॉगी ने फैमिली को किया अलर्ट
- मामला बीते साल का है, जब उता के सैंडी के रहने वाले 82 साल के जिम कूपर अपने घर 7 महीने का डॉगी लेकर आए थे। हालांकि, उसी हफ्ते उन्होंने उसे लौटाने का फैसला कर लिया था।
- जिम उसे लौटाते उससे पहले ही रात में सोते वक्त उन्हें भयानक अटैक आ गया। वो नींद में थे और पास में सो रही उनकी वाइफ जूडी अटैक की बात से अनजान थी।
- तभी उनका नया डॉगी उनके सीने पर आकर बैठ गया और रोने लगा। जूडी ने रोने की आवाज सुनी तो उन्हें लगा कि जिम ने कोई बुरा सपना देखा और वो नींद में रो रहे है।
- जूडी ने पति जिम को आवाज दी लेकिन कोई जवाब नहीं मिला। जब उन्होंने कमरे की लाइट जलाई तो उन्हें डॉगी हसबैंड के सीने पर बैठकर रोते दिखा।
- उन्होंने जिम को उठाने की कोशिश की लेकिन वो नहीं उठे। ऐसे में जूडी को किसी अनहोनी का शक हुआ और उन्होंने तुरंत एंबुलेंस बुलाई और पति को हॉस्पिटल पहुंचाया।
- डॉगी की समझदारी के चलते जिम वक्त रहते अस्पताल पहुंच गए और उनकी जान बचा ली गई। डॉक्टर ने कहा कि सोते वक्त आने वाले अटैक में जान मुश्किल से ही बच पाती है।

फैमिली को समझ आ गई डॉगी की कीमत
- अब तक जूडी को इस बात का अहसास हो चुका था कि अगर उनका नया डॉगी घर में न होता तो उनके पति की जान बचना मुश्किल थी।
- रिकवरी के बाद जिम को जब होश आया तो वाइफ जूडी ने कुत्ते की समझदारी की ये कहानी उन्हें भी सुनाई, जिसे सुनकर उन्हें खुशी हुई कि उन्होंने उसे वापस नहीं लौटाया था।
- जिम ने उसी वक्त उसे लौटाने का अपना फैसला बदल दिया और रिकवरी के बाद हॉस्पिटल से लौटकर उन्होंने डॉगी के लिए घर में रहने का इंतजाम कराया।