लाल बहादुर शास्त्री के कहने पर मनोज कुमार ने बनाई थी देशभक्ति वाली फिल्म, ऐसे बने मनोज से 'भारत कुमार' / लाल बहादुर शास्त्री के कहने पर मनोज कुमार ने बनाई थी देशभक्ति वाली फिल्म, ऐसे बने मनोज से 'भारत कुमार'

मनोज कुमार और एक्ट्रेस नंदा ने फेमस फिल्म 'शोर' में साथ काम किया है।

dainikbhaskar.com

Jul 24, 2018, 01:00 AM IST
Vetran Actor Manoj Kumar Birthday Special

मुंबई। फिल्म इंडस्ट्री में भारत कुमार के नाम से पॉपुलर एक्टर मनोज कुमार 81 साल के हो चुके हैं। 24 जुलाई, 1937 को पाकिस्तान के एबटाबाद में जन्मे मनोज कुमार का असली नाम हरिकिशन गिरी गोस्वामी है। मनोज कुमार के प्रशंसकों में तत्कालीन प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री भी थे। 1965 में भारत-पाकिस्तान युद्ध के बाद शास्त्रीजी ने उन्हें 'जय जवान, जय किसान' पर फिल्म बनाने के लिए कहा। इस पर मनोज कुमार ने 1967 में 'उपकार' फिल्म बनाई थी। दिलीप कुमार की फिल्म के किरदार पर रख लिया अपना नाम...


मनोज कुमार को बचपन से ही फिल्मों का शौक था। फिल्मों को लेकर उनकी दीवानगी का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि दिलीप कुमार की फिल्म 'शबनम' (1949) में उनके किरदार के नाम पर ही उन्होंने अपना नाम मनोज कुमार रख लिया।


मनोज कुमार से ऐसे कहलाए 'भारत कुमार'
1965 में मनोज कुमार ने भगत सिंह की लाइफ पर बेस्ड फिल्म 'शहीद' की। फिल्म से पहले मनोज कुमार भगत सिंह की मां से मिलने पहुंचे थे। यह फिल्म सुपरहिट रही और इसके बाद उन्होंने कई देशभक्ति फिल्में कीं। ज्यादातर फिल्मों में उनके किरदार का नाम भारत था। इसी वजह से लोग उन्हें 'भारत कुमार' के नाम से पुकारने लगे।


मनोज कुमार नहीं चुका पाए नंदा का उधार...
गुजरे जमाने की एक्ट्रेस नंदा के निधन पर मनोज कुमार ने कहा था- "मैं उनका उधार नहीं चुका पाया, अच्छा होता अगर ना पता चलता।" दरअसल, मनोज कुमार और नंदा ने फेमस फिल्म 'शोर' में साथ काम किया है। मनोज कुमार के मुताबिक, ''इस फिल्म के लिए पहले मैं शर्मिला टैगोर को लेने वाला था, लेकिन बात नहीं बन पाई। इसके बाद मैंने स्मिता पाटिल के पास फिल्म का प्रस्ताव भेजा, लेकिन उन्होंने भी मना कर दिया। फाइनली मेरी पत्नी शशि ने कहा कि आप नंदा को क्यों नहीं लेते। इस पर मैंने कहा, वो इतनी बड़ी एक्ट्रेस हैं, जब औरों ने मना कर दिया तो वो क्यों काम करेंगी। आखिरकार मैंने पत्नी के कहने पर नंदा को फोन किया तो उन्होंने मुझे घर बुलाया और कहा, मैं इस शर्त पर फिल्म करूंगी कि इसके लिए मैं आपसे एक रुपया भी नहीं लूंगी।'' मनोज कुमार ने कहा था- ''किसी के एहसान'' का बदला आप नहीं चुका सकते लेकिन फिर भी मैंने कोशिश की कि नंदा जी का एहसान उतार सकूं, लेकिन मैं आज तक ऐसा नहीं कर पाया।"


मनोज कुमार की यादगार फिल्में...
मनोज कुमार की हिट फिल्मों की बात करें तो इनमें 'हरियाली और रास्ता' (1962), 'वो कौन थी' (1964), 'शहीद' (1965), 'हिमालय की गोद में' (1965), 'गुमनाम' (1965), 'पत्थर के सनम' (1967), 'उपकार' (1967), 'पूरब और पश्चिम' (1969), 'रोटी कपड़ा और मकान' (1974), 'क्रांति' (1981) प्रमुख हैं। फिल्म 'उपकार' के लिए मनोज कुमार को नेशनल अवॉर्ड से नवाजा गया था।


पद्मश्री और दादासाहेब फाल्के से नवाजे गए...
1992 में भारत सरकार ने मनोज कुमार को पद्मश्री अवॉर्ड से सम्मानित किया। इसके बाद सिनेमा में उनके योगदान को देखते हुए 2015 में फिल्मों के सबसे बड़े पुरस्कार 'दादासाहेब फाल्के अवॉर्ड' से भी नवाजा गया।

X
Vetran Actor Manoj Kumar Birthday Special
COMMENT