चीन ने अपने रेगिस्तान में बना दिया मंगल ग्रह का मॉडल, यहां लोगों को दिखेगा कि लाल ग्रह पर जीवन कैसा होता है

कई किलोमीटर में फैला है ये प्रोजेक्ट, बेहद खास है इसे रेगिस्तान में बनाने की वजह

dainikbhaskar.com

Apr 18, 2019, 12:05 PM IST
चीन के गोबी रेगिस्तान में बनाया गया मार्स बेस-1। चीन के गोबी रेगिस्तान में बनाया गया मार्स बेस-1।

बीजिंग. चीन के जिन्चांग शहर से 40 किमी दूर गोबी रेगिस्तान में नकली मंगल ग्रह बनकर तैयार है। इसे लाल ग्रह का मॉडल या सिमुलेटर कहा जा रहा है। इसे 17 अप्रैल (बुधवार) को आम लोगों के लिए खोल दिया गया। पहले दिन यहां 100 स्टूडेंट्स पहुंचे, जिन्होंने करीब 5 घंटों में इसका टूर किया। यहां आने वाले सैलानी लाल ग्रह का अनुभव लेने के साथ ही उसके बारे में जानकारी हासिल कर सकेंगे। ये जगह चीन के कैदम बेसिन इलाके के मंगाई शहर के करीब है।

हर साल 20 लाख पर्यटक पहुंचने की उम्मीद

- गोबी रेगिस्तान में बने इस नकली मंगल ग्रह पर ये विस्तार से बताया गया है कि वहां का जीवन कैसा होगा। इसे 'मार्स बेस-1' नाम दिया गया है। अधिकारियों के मुताबिक, यहां करीब 2 हजार 500 करोड़ रु. निवेश करने की योजना है और हर साल 20 लाख पर्यटकों के पहुंचने की उम्मीद है।

- चीन ने 2016 में अपने 2020 मार्स मिशन 'मंगल गांव' की घोषणा की थी। इसके तहत वो 2020 तक मानवरहित यान भेजने की तैयारी में है। मार्स विलेज को मार्स मिशन 2022 का ही हिस्सा कहा जा रहा है।
- इस जगह को मंगल गांव के लिए इसलिए चुना गया है, क्योंकि इस पूरे इलाके में मंगल ग्रह जैसी पर्यावरणीय स्थितियां मौजूद हैं। यानी इसकी सतह मंगल ग्रह जैसी बंजर और पथरीली है। ये पूरा प्रोजेक्ट 53,329 वर्ग मीटर में फैला है।

मार्स बेस-1 की एक स्टाफ मेंबर स्पेस सूट पहनने के बाद हेलमेट लगाने के बारे में बताती हुई। मार्स बेस-1 की एक स्टाफ मेंबर स्पेस सूट पहनने के बाद हेलमेट लगाने के बारे में बताती हुई।
सोने के लिए बनाए गए स्लिपिंग कैप्सूल की ओर जाती हुई एक लड़की। सोने के लिए बनाए गए स्लिपिंग कैप्सूल की ओर जाती हुई एक लड़की।
मार्स बेस-1 के अंदर बना स्पेस कैप्सूल। मार्स बेस-1 के अंदर बना स्पेस कैप्सूल।
मार्स बेस-1 के अंदर बने कॉरिडोर से गुजरता एक शख्स। मार्स बेस-1 के अंदर बने कॉरिडोर से गुजरता एक शख्स।
यहां के वातावरण में फसलें उगाकर भी देखी जा रही हैं। यहां के वातावरण में फसलें उगाकर भी देखी जा रही हैं।
यहां मार्स रोवर का एक मॉडल भी बनाया गया है। यहां मार्स रोवर का एक मॉडल भी बनाया गया है।
X
चीन के गोबी रेगिस्तान में बनाया गया मार्स बेस-1।चीन के गोबी रेगिस्तान में बनाया गया मार्स बेस-1।
मार्स बेस-1 की एक स्टाफ मेंबर स्पेस सूट पहनने के बाद हेलमेट लगाने के बारे में बताती हुई।मार्स बेस-1 की एक स्टाफ मेंबर स्पेस सूट पहनने के बाद हेलमेट लगाने के बारे में बताती हुई।
सोने के लिए बनाए गए स्लिपिंग कैप्सूल की ओर जाती हुई एक लड़की।सोने के लिए बनाए गए स्लिपिंग कैप्सूल की ओर जाती हुई एक लड़की।
मार्स बेस-1 के अंदर बना स्पेस कैप्सूल।मार्स बेस-1 के अंदर बना स्पेस कैप्सूल।
मार्स बेस-1 के अंदर बने कॉरिडोर से गुजरता एक शख्स।मार्स बेस-1 के अंदर बने कॉरिडोर से गुजरता एक शख्स।
यहां के वातावरण में फसलें उगाकर भी देखी जा रही हैं।यहां के वातावरण में फसलें उगाकर भी देखी जा रही हैं।
यहां मार्स रोवर का एक मॉडल भी बनाया गया है।यहां मार्स रोवर का एक मॉडल भी बनाया गया है।
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना