अरब सागर की ओर से सक्रियता बढ़ी तो जल्दी पहुंचेगा मानसून

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

जोधपुर. अरब सागर की तरफ से मानसून की सक्रियता बढ़ने लगी है। यह सक्रियता यदि अगले एक दो दिनों में और बढ़ी तो पश्चिमी राजस्थान में इस बार समय से पहले मानसून पहुंचने की संभावना है। अन्यथा मानसून 1 जुलाई के आस पास ही पश्चिमी राजस्थान पहुंचेगा। वर्तमान में अरब सागर से नमी आ रही है, इससे महाराष्ट्र, गुजरात व मध्यप्रदेश तक असर दिखाई देने लगा है। वहां से लगातार नमी मिलती रही तो अगले दो-तीन दिनों में पश्चिमी राजस्थान में बारिश की संभावना बन जाएगी। इसके साथ ही मानसून अरब सागर की तरफ से आने की भी संभावनाएं बन जाएगी।

 

 

- मौसम वैज्ञानिकों के अनुसार, देश में मानसून की दो शाखाएं सक्रिय होने की वजह से बारिश होती है। दोनों शाखाएं यानी बंगाल की खाड़ी और अरब सागर। लेकिन इनमें से अधिकांश बंगाल की खाड़ी की तरफ से मानसून देश के अधिकांश हिस्सों तक पहुंचता है। कई बार अरब सागर की मानसून शाखा भी हवाओं के रूख व नमी से सक्रिय हो जाती है और मानसून कई क्षेत्रों में जल्दी पहुंच जाता है। गुजरात, मध्यप्रदेश व राजस्थान को अरब सागर के समीप होने से इस मानसून शाखा के सक्रिय होने का फायदा ज्यादा होता है। गत वर्ष अरब सागर की शाखा सक्रिय होने से पश्चिमी राजस्थान में मानसून तय तिथि से पांच दिन पहले पहुंच गया था। बंगाल की खाड़ी की मानसून शाखा की सक्रियता कम से मानसून 15 दिन देरी से पहुंचता। इस बार भी अरब सागर की शाखा में सक्रियता दिख रही है। इससे भले ही मानसून पहुंचे अथवा नहीं, लेकिन अगले एक सप्ताह में मानसून पूर्व बारिश की संभावना है।

 

दक्षिणी हवाएं चली तो राजस्थान में बारिश 

मौसम वैज्ञानिक डॉ. डीपी दुबे के अनुसार अरब सागर की तरफ के मानसून की सक्रियता बढ़ी है। इससे नमी बढ़ने लगी है। ये नमी एमपी, गुजरात व राजस्थान की तरफ बढ़ रही है। दक्षिणी हवाएं चली तो राजस्थान में भी बारिश की संभावनाएं बढ़ेंगी।

 

इस बार अब तक मानसून पूर्व की एक भी बारिश नही

जोधपुर में इस बार मानसून पूर्व की एक भी बारिश नहीं हुई है। जबकि हर वर्ष मानसून पूर्व बारिश से जोधपुर 18 जून तक भीग जाता है। गत वर्ष मानसून से पहले ही करीब 60 एमएम से ज्यादा बारिश हुई थी। जबकि जून में 120 एमएम से ज्यादा बारिश हुई। 

 

अरब सागर से सक्रियता घटी तो जुलाई में पहुंचेगा

मानसून की सक्रियता अरब सागर से बढ़ी तो इस बार भी मानसून 30 जून से पहले जोधपुर पहुंच जाएगा। यदि यह सक्रियता समाप्त हो गई तो मानसून निर्धारित समय के समीप यानी 1 से 5 जुलाई के बीच ही आएगा।

 

खबरें और भी हैं...