--Advertisement--

महान वैज्ञानिक आइंस्टीन से सीखें कामयाबी का फार्मूला, कैसे लोग हो पाते हैं सफल?

महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन भी अपनी धुन के पक्के थे। इस कहानी से जानिए अपने काम के प्रति वे कितने समर्पित थे।

Danik Bhaskar | May 13, 2018, 06:01 PM IST

रिलिजन डेस्क। दूसरों की कामयाबी देखकर हमें लगता है कि बड़ा नाम कमाना या सफल होना बहुत आसान है, लेकिन सफल लोगों के पीछे की कहानी के बारे में हम नहीं जानते। उनकी कामयाबी के पीछे की कड़ी मेहनत और लगन का अंदाज़ा हमें नहीं होता। महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन भी अपनी धुन के पक्के थे। इस कहानी से जानिए अपने काम के प्रति वे कितने समर्पित थे।

जब लंच करना ही भूल गए आइंस्टीन
- महान वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन जब भी कोई काम करते थे तो उसमें पूरी तरह से खो जाते थे, यहां तक कि उन्हें अपने खाने-पीने की भी याद नहीं रहती थी।
- एक बार आइंस्टीन अपनी लेबोरेट्री में काम कर रहे थे, तो उनकी पत्नी उनके लिए खाना लेकर आई। उनको काम करता देख वो खाने की थाली एक टेबल पर रख कर चली गईं।
- उन्होंने सोचा कि जब भी काम से फुरसत मिलेगी, वो खाना खा लेंगे। साथ ही आइंस्टीन के सहयोगी मित्र भी काम पर लगे थे। खाने की थाली देखकर उन्हें भूख लगने लगी और वो आइंस्टीन को छोड़कर खाना खाने के लिए चले गए। उन्होंने अपने खाने के साथ आइंस्टीन का खाना भी खा लिया।
- आइंस्टीन पूरी लगन के साथ अपने काम में लगे थे। जब उन्होंने अपना काम निपटा लिया तो वो खाना खाने के लिए अपनी टेबल के पास गए। वहां उन्होंने देखा कि थाली तो खाली है।
- उन्होंने सोचा की शायद मैं खाना खा चुका हूं और पानी पीकर वापिस अपने काम में लग गए। उनके सभी सहयोगी उनके काम के प्रति लगन को देखकर नतमस्तक हो गए। ​