• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Bhopal
  • News
  • kushabhau thakre, चुनाव हराने में इंदिरा गांधी ने लगा दी थी पूरी ताकत

इन्हें चुनाव में हराने में इंदिरा गांधी ने लगा दी थी पूरी ताकत / इन्हें चुनाव में हराने में इंदिरा गांधी ने लगा दी थी पूरी ताकत

भारतीय जनता पार्टी में ठाकरेजी को पितृ पुरुष कहा जाता है। उनका जन्म 15 अगस्त 1922 को मध्यप्रदेश के धार जिले में हुआ था।

bhaskar news

Aug 15, 2015, 12:05 AM IST
फाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरे एवं श्रीमती इंदिरा गांधी। फाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरे एवं श्रीमती इंदिरा गांधी।
भोपाल। देश की राजनीति में भाजपा को इस मुकाम पर पहुंचाने में कुशाभाऊ ठाकरे के का विशेष योगदान है। आज उनका जन्मदिन है। मध्यप्रदेश के खंडवा संसदीय क्षेत्र से 1980 में ठाकरेजी ने चुनाव लड़ा। उन्हें हराने के लिए इंदिरा गांधी ने स्वयं कमान संभाली और पूरे तीन दिन तक खंडवा में डेरा डालकर प्रचार किया। भारतीय जनता पार्टी में ठाकरेजी को पितृ पुरुष कहा जाता है। उनका जन्म 15 अगस्त 1922 को मध्यप्रदेश के धार जिले में हुआ था।
ठाकरेजी को सादगी के लिए जाना जाता है। सांसद बनने के बाद भी भोपाल जैसे शहर में वह साइकिल से लोगों से मिलने जाया करते थे। उनकी यह भी खासियत थी की जब वह किसी से एक बार मिल लेते थे तो वह उसे सालों बाद भी नाम लेकर अपने पास बुला लेते थे। ठाकरेजी जब भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष थे तब अकसर भोपाल आया करते थे। उनको स्टेशन ले जाने और ट्रेन में बैठाने की जिम्मेदारी भाजपा कार्यकर्त्ता राजेन्द्र के पास थी। उस दौरान मालवा एक्सप्रेस का दिल्ली जाने का समय मध्यरात्रि हुआ करता था। इंदौर से आने वाली इस गाड़ी का भोपाल में करीब एक घंटे का हाल्ट था। ठाकरेजी जी को लेकर राजेन्द्र समय से करीब चालीस मिनट पहले ही भोपाल के प्लेटफार्म नंबर पांच पर पहुंच गए। ट्रेन आई ठाकरेजी को उसमें बैठा दिया गया। भाजपा कार्यकर्ता राजेन्द्र से ठाकरेजी ने कहा कि अब वह घर जाएं। राजेन्द्र घर लौट गए।
आगे की स्लाइड्स में पढ़ें- अगली सुबह क्या हुआ...
फाइल फोटो-कुशाभाऊ ठाकरे फाइल फोटो-कुशाभाऊ ठाकरे
ठाकरेजी बगल में बैग दबाए पहुंचे भाजपा के दफ्तर
 
अगली सुबह ठाकरेजी को भाजपा कार्यालय में बगल में बैग दबाए आता हुए देख लोग हैरान रह गए। सभी को पता था कि ठाकरेजी तो बीती रात दिल्ली चले गए हैं। कई भाजपा कार्यकर्ता उनके पास पहुंचे और पूछा तब उन्होंने बताया कि दरअसल जिस ट्रेन से उनको दिल्ली जाना था वह भोपाल में ही कैंसिल हो गई, वह ट्रेन में बैठने के थोड़ी देर बाद ही सो गए थे। जब आंख खुली तो डिब्बे में उन्हें कोई दिखाई नहीं दिया। 
फाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरे को श्रद्धासुमन अर्पित करते पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी। फाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरे को श्रद्धासुमन अर्पित करते पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी।
ठाकरेजी ने सोचा क्या मुझे कोई लेने नहीं आया
 
ठाकरे जी की नींद खुली तो उन्हें लगा कि वह दिल्ली पहुंच गए हैं और कोई उन्हें लेने नहीं आया। जब उन्होंने नीचे ट्रेन से उतरकर पूछा कि वह कहां हैं तो एक कुली ने उन्हें बताया कि वह भोपाल में ही हैं। रात में बीना के आगे मालगाड़ी पटरी से उतर जाने के कारण गाड़ी कैंसिल कर दी गई। तब क्या था ठाकरेजी ने अपना समान उठाया और भाजपा कार्यालय आ गए। इसे ठाकरेजी की सादगी ही कहा जाएगा कि भाजपा अध्यक्ष रहते हुए भी उनके पास जेब में एक पैसा भी नहीं था। दीनदयाल परिसर पहुंचकर उन्होंने एक भाजपा कार्यकर्ता से कहा कि आटो वाले को किराया दे दो।
फाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरे फाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरे
इस तरह आए राजनीति में
 
कुशाभाऊ ठाकरे ने अपने जीवन के दोनों लोकसभा चुनाव खंडवा सीट से लड़े। उन्होंने 1979 में उपचुनाव में जनता पार्टी के टिकट पर कांग्रेस के शिव कुमार सिंह को 38 हजार 486 मतों से शिकस्त दी थी। ठाकरेजी को 1,92,280 मत मिले थे, जबकि कांग्रेस के उम्मीदवार को 1,53,794 मत मिले थे। जनता पार्टी की सरकार गिरने के बाद हुए चुनाव में इंदिरा गांधी ने पूरे देश में चुनाव प्रचार किया। आजादी के बाद से 1971 तक के सभी चुनावों में खंडवा सीट कांग्रेस के पास रही।
फाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरे फाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरे
इंदिराजी ने किया था तीन दिन प्रचार
 
1980 के आम चुनाव में कुशाभाऊ ठाकरे फिर से मैदान में थे। कांग्रेस का गढ़ रही इस सीट को फिर से पाने के लिए 80 के आम चुनाव में इंदिरा गांधी ने इसे अपनी प्रतिष्ठा का प्रश्न बना लिया और तीन दिन तक लगातार प्रचार के लिए इस लोकसभा क्षेत्र में दौरा किया। इसके बाद भी कुशाभाऊ ठाकरे को कांग्रेस उम्मीदवार से 37 हजार तीन सौ छप्पन मतों से हार का सामना करना पड़ा। 28 दिसंबर 2003 को ठाकरेजी का निधन हो गया।
X
फाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरे एवं श्रीमती इंदिरा गांधी।फाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरे एवं श्रीमती इंदिरा गांधी।
फाइल फोटो-कुशाभाऊ ठाकरेफाइल फोटो-कुशाभाऊ ठाकरे
फाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरे को श्रद्धासुमन अर्पित करते पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी।फाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरे को श्रद्धासुमन अर्पित करते पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी।
फाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरेफाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरे
फाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरेफाइल फोटो- कुशाभाऊ ठाकरे
COMMENT