पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

50 हज़ार लड़कियों को सिखाया सेल्फ डिफेंस

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

symposium

श्री वैष्णव प्रबंध संस्थान में कराई गई विचार गोष्ठी में डॉ. दिव्या गुप्ता ने कहा**

कार्यक्रम में डॉ. दिव्या गुप्ता व हाईकोर्ट वकील आस्था सिंह का सम्मान किया गया।

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर श्री वैष्णव प्रबंध संस्थान में विचार गोष्ठी कराई गई। इसमें मुख्य अतिथि डॉ. दिव्या गुप्ता और हाईकोर्ट वकील आस्था सिंह ने महिलाओं के चहुंमुखी विकास, शिक्षा और आत्मरक्षा की बात कही।

डॉ. गुप्ता ने कहा कि हम अपनी बेटियाें को कैंडल मार्च नहीं, सैंडल मार्च की शिक्षा देते हैं। उन्होंने बताया कि संस्था ज्वाला की स्थापना दिल्ली निर्भया कांड के बाद की गई। सड़क किनारे चलते वक्त, बस या टैक्सी में सफर के दौरान या कभी भी कहीं भी महिलाओं की सुरक्षा पर आसामाजिक तत्व हाथ डाल सकता है। ऐसे में समाज और सरकार के साथ ज़रूरी है कि महिलाएं खुद आगे बढ़कर अपनी सुरक्षा के लिए मुस्तैद रहे। इसके लिए संस्था की ओर से बच्चियाें को सेल्फ डिफेंस तकनीक सिखाई जाती है। अब तक करीब पचास हज़ार बच्चियों को आत्मरक्षा का प्रशिक्षण दिया गया है। आस्था सिंह ने बताया कि न्यायालय में रोज एक केस महिला उत्पीड़न का आता है। यदि पुरुष बाहर की महिलाओं के साथ भी वैसा ही व्यवहार करे जैसा वह अपनी मां एवं बहनों के साथ करता है तो समाज में महिला उत्पीड़न नहीं होगा। संस्थान निदेशक डॉ. जॉर्ज थॉमस ने अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस 2020 के विषय लेट्स मेक ज़ेंडर इक्वेलिटी अ रियलिटी का महत्व बताया। कार्यक्रम में संयुक्त कुलसचिव डॉ. अरविंद सिंह, कम्प्यूटर साइंस विभागाध्यक्ष डॉ. क्षमा पैठणकर, डॉ. अभिजीत चटर्जी सहित सभी टीचर्स व स्टूडेंट्स मौजूद थे। संचालन रुचिरा मुछाल ने किया। आभार डॉ. प्रज्ञा शर्मा ने माना।
खबरें और भी हैं...