सरकार से लोन लेकर कृषि उपकरण खरीदेंगे युवा फिर उसे किसानों को किराए पर देंगे

News - सूबे के शिक्षित बेरोजगार युवाओं को राज्य सरकार ने आत्मनिर्भर बनाने का निर्णय लिया है। इसके तहत उन्हें सरकार लोन...

Bhaskar News Network

Sep 14, 2019, 06:37 AM IST
Bhopal News - mp news after taking loan from the government the youth will buy agricultural equipment and then rent it to the farmers
सूबे के शिक्षित बेरोजगार युवाओं को राज्य सरकार ने आत्मनिर्भर बनाने का निर्णय लिया है। इसके तहत उन्हें सरकार लोन दिलाएगी ताकि वे खुद का कारोबार कर सकें। भोपाल में पांच सहित प्रदेशभर में 255 कस्टम हायरिंग केंद्र भी खोले जाएंगे। इस केंद्र के जरिए युवा गांव में किसानों को कृषि प्रयोजन के लिए किराए पर ट्रैक्टर अौर अन्य कृषि उपकरण उपलब्ध कराएंगे। योजना की खास बात यह है कि 40% लोन की अदायगी राज्य सरकार करेगी। ये राशि सब्सिडी के रूप में होगी। यह योजना एक नवंबर से अस्तित्व में अा जाएगी।

सरकार ने नवाचार के चलते निजी क्षेत्र को कृषि से जोड़ने का निर्णय लिया है। इसका मकसद किसानों पर पड़ने वाले आर्थिक दबाव को कम करना है। इस मंशा से कस्टम हायरिंग केंद्र ब्लॉक में खुलेंगे। हरेक जिले में पांच-पांच केंद्र खोले जाएंगे। सरकार के संज्ञान में अाया था कि पांच एकड़ या उससे कम भूमि के किसान सहकारी बैंकों से लोन लेकर ट्रैक्टर या कृषि यंत्र खरीदते हैं तो कर्ज की किस्त अदायगी में उन्हें व्यवहारिक कारणों से कई बार समस्या अाती है। वहीं किस्त अदायगी नियमित नहीं होने से ऋण हितग्राही का नाम डूबत खातेदार के रूप में दर्ज हो जाता हैं। एेसे में उसे अन्य प्रयोजन के लिए सहकारी बैंक लोन देने में आनाकानी करते हैं।

10 से 25 लाख रुपए तक की प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करके केंद्र खोल सकेंगे युवा

05 कस्टम हायरिंग केंद्र खुलेंगे भोपाल जिले में

नौ साल में चुकाना होगा लोन... सरकार ने तय किया है कि युवाओं को खुद का रोजगार कायम करने के लिए इसका जिम्मा सौंप जाए। बदले में उसे लोन दिलाएंगे। लोन लेने वाले युवा को स्वयं ही ट्रैक्टर अौर अन्य कृषि उपकरणों के लिए शेड अौर मेंटेनेंस की व्यवस्था करनी होगी। लोन चुकाने की अधिकतम अवधि 9 वर्ष रहेगी।

सब्सिडी की 40 फीसदी राशि हितग्राही के बदले सरकार द्वारा बैंक को दी जाएगी


ऐसा होगा चयन का आधार




कैसे खोल सकेंगे केंद्र

कस्टम हायरिंग केंद्र खोलने शिक्षित बेरोजगार युवा को एक प्रोजेक्ट रिपोर्ट बनानी होगी। रिपोर्ट में कृषि में उपयोग होने वाले उपकरणों का ब्योरा देना होगा। लागत के साथ होने वाली अाय बतानी होगी। केंद्र की सेवा कैसे किसानों की पहुंच तक होगी, यह भी रिपोर्ट में बताना होगा।

क्या कृषि उपकरण रखने होंगे

एक ट्रैक्टर, एक प्लाऊ, एक रोटावेटर, एक कल्टीवेटर, डिस्क हेरो, एक सीड कम फर्टिलाइजर ड्रिल, जीरो टिल सीड कम फर्टि. ड्रिल, एक ट्रैक्टर चलित थ्रेशर, स्ट्रॉ रीपर, एक रेज्ड बेड प्लांटर अथवा राइस ट्रांसप्लांटर।

X
Bhopal News - mp news after taking loan from the government the youth will buy agricultural equipment and then rent it to the farmers
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना