बंगाली कर रहा था एलोपैथिक इलाज, क्लीनिक पर मिली दवाइयां, शिकायत पर दर्ज हुआ केस

Badwani News - एसडीएम ने शहर के दावल बैड़ी क्षेत्र में शुक्रवार को निजी क्लीनिक की जांच की। बंगाली व्यक्ति मरीजों का एलोपैथिक...

Feb 15, 2020, 09:20 AM IST

एसडीएम ने शहर के दावल बैड़ी क्षेत्र में शुक्रवार को निजी क्लीनिक की जांच की। बंगाली व्यक्ति मरीजों का एलोपैथिक चिकित्सा पद्धति से इलाज करते मिला। बड़ी मात्रा में एलोपैथिक व आयुर्वेदिक दवाएं मिली। दवाओं के सैंपल लेकर क्लीनिक सील किया गया। एसडीएम ने बीएमओ को एफआईआर दर्ज कराने के निर्देश दिए। शाम को क्लीनिक संचालक पर केस दर्ज किया गया।

एसडीएम घनश्याम धनगर ने शुक्रवार दोपहर 1 बजे दावलबैड़ी क्षेत्र स्थित क्लीनिक की जांच की। यहां पर विरिंचि बिस्वास एलोपैथिक इलाज करता मिला। वहीं कई प्रकार की एलोपैथिक दवाएं जैसे स्लाइन, स्टेराइड, परिवार नियोजन, एंटीबायोटिक व दर्दनिवारक टैबलेट, इंजेक्शन आदि कमरे की रैक और फ्रीज रखे मिले। इनमें से कुछ एक्सपायरीडेट की थी। एसडीएम ने बीएमओ डॉ. ओएस कनेल को फोन पर सूचना दी। बीएमओ स्वास्थ्य विभाग कर्मचारियों के साथ मौके पर पहुंचे। पंचनामा बनाकर दवाओं के सैंपल लिए। इसके बाद क्लीनिक को सील कर दिया गया। साथ ही बीएमओ को निर्देश दिए कि प्रतिवेदन बनाकर पुलिस को दे और डॉक्टर के खिलाफ केस दर्ज करवाया जाए। बीएमओ की शिकायत पर शहर थाना पुलिस ने शाम को विरिंचि के खिलाफ केस दर्ज किया गया।

डिग्री संदेहास्पद, 6 साल से चला रहा क्लीनिक

मूलत: बंगाल का निवासी विरिंचि 6 साल से क्लीनिक का संचालन कर रहा है। डिग्री का पूछने पर फ्रेम में मढ़ी बीईएमएस की डिग्री की फोटोकॉपी दिखाई। बीएमओ डॉ. कनेल ने कहा डिग्री के असली होने पर संदेह है। डिग्री का फोटो क्लीनिक संचालक से मिलान नहीं कर रहा। डिग्री की जांच कराई जाएगी। हालांकि बीईएमएस डिग्री एलोपैथिक इलाज के लिए मान्य नहीं है। कार्रवाई के दौरान नायब तहसीलदार मुकेश मचार, पटवारी पिंटू मेहता, फार्मासिस्ट सुरेश नायक, एमपीडब्यू तपन चौहान मौजूद रहे।

क्लीनिक सील कर, दर्ज करवाया केस


बड़ी मात्रा में एलोपैथिक व आयुर्वेदिक दवाएं मिली, कुछ एक्सपायरीडेट की थी

दावलबैड़ी स्थित क्लीनिक पर कमरे व फ्रिज में दवाएं मिली। इनसेट में दावलबैड़ी स्थित क्लीनिक करवाया सील।

लापरवाही : पिछले वर्ष महिला की हुई थी मौत

बड़गांव निवासी राधेश्याम डूडवे 4 अक्टूबर को प|ी सीना का इलाज कराने कथित डॉक्टर भुरू के क्लीनिक पर गया था। इलाज के बाद हालत बिगड़ी और निजी अस्पताल ले जाने के दौरान उसकी मौत हो गई थी। राधेश्याम ने डॉक्टर की लापरवाही के चलते प|ी की मौत का आरोप लगाकर शहर थाना पुलिस से शिकायत की थी। मार्ग जांच के बाद क्लीनिक संचालक भुरू उर्फ हबीब पिता बशीर शेख के खिलाफ गैर इरादतन हत्या और मप्र राज्य आर्युविज्ञान परिषद अधिनियम 1956 व 1958 की धारा 24 के तहत केस दर्ज कर गिरफ्तार किया था। फिलहाल वो जमानत पर है।

जांच के बाद एलोपैथिक दवाएं की थी जब्त

अक्टूबर माह में स्वास्थ्य व राजस्व विभाग ने पुराना एबी रोड स्थित स्थित क्लीनिक की जांच की थी। एलोपैथिक दवाएं जब्त की गई थी। क्लीनिक संचालक डॉ. पाटिल पर केस दर्ज किया गया था। कार्रवाई के दौरान शहर में झेलाछाप क्लीनिक बंद कर चले गए थे।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना