पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Indore News Mp News Bhanwarkuan Police Called The Operator To The Police Station And Got A Refund

भंवरकुआं पुलिस ने संचालक को थाने बुलाकर रिफंड कराई फीस**

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कोचिंग संचालक ने अचानक क्लास बंद कर विद्यार्थियों को फीस लौटाने से मना कर दिया। विद्यार्थियों ने अपनी पीड़ा डीबी स्टार टीम को बताई। टीम ने तुरंत भंवरकुआं पुलिस से संपर्क कर मामले की जानकारी दी। पुलिस ने सक्रियता दिखाई और िवद्यार्थियों को ठगी का शिकार होने से बचा लिया।

भंवरकुआं क्षेत्र में ऑफिसर एकेडमी नामक कोचिंग क्लास है। यहां यूपीएससी और एमपी पीएससी सहित अन्य प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी कराई जाती है। करीब सप्ताहभर पहले एकेडमी के कुछ विद्यार्थियों ने डीबी स्टार को बताया कि कोचिंग संचालक आनंद जाटव ने सालभर की एकमुश्त फीस ली और चार महीने पढ़ाकर कोचिंग बंद कर दी। उन्होंने फीस वापस मांगी तो संचालक ने कहा, जब फंड की व्यवस्था होगी तब लौटा दी जाएगी।

डीबी स्टार ने विद्यार्थियों को सलाह दी कि कोचिंग में जो भी अधिकारी मौजूद हो, उसे बातों में उलझाकर रोकें। डीबी स्टार ने तुरंत टीआई विजयसिंह सिसौदिया को फोन पर वस्तुस्थिति बताई। टीआई ने जवान को भेजकर कोचिंग इंचार्ज और विद्यार्थियों को थाने बुलाया। इंचार्ज ने फीस रिफंड करने को लेकर हाथ खड़े कर दिए। इस पर संचालक जाटव को थाने बुलाया गया।

sunday positive

20 विद्यार्थियों को दूसरी कोचिंग में शिफ्ट कराया

तीसरे दिन जाटव अपने भाई (दूसरे संचालक) के साथ थाने पहुंचा, बोला,कोचिंग का सौदा हो गया है। एक-दो दिन में फीस वापस कर देंगे। डीबी स्टार इस बीच टीआई से सतत संपर्क में रहा। जाटव ने टीआई को बताया कि करीब 2.5 लाख रुपए कोचिंग का किराया और 56 हजार रुपए बिजली बिल चुकाना है, इसलिए वह 70 से 80 फीसदी राशि रिफंड कर सकता है। विद्यार्थी इस पर राजी हो गए। टीआई के मुताबिक 60 में से एमपी पीएससी के 20 विद्यार्थी दूसरी कोचिंग में शिफ्ट करा दिए गए हैैं। जिन विद्यार्थियों ने 60 हजार रुपए जमा किए थे उन्हें 45 हजार, 80 हजार जमा वालों को 60 हजार और 30 हजार रुपए जमा करने वालों को 22 से 24 हजार रुपए रिफंड करा दिए हैं।

चार माह से स्टाफ को भी वेतन नहीं

विद्यार्थियों ने डीबी स्टार को बताया कि संचालक जाटव ने उनसे सालभर की फीस पहले ही ले ली थी, जबकि कोचिंग की टैग लाइन है ‘पहले सिलेक्शन, फीस बाद में। जाटव ने 4 महीने से स्टाफ को भी सैलेरी नहीं दी है। उनके भी करीब 5 लाख रुपए बकाया हैं। जब स्टाफ ने टीआई से जाटव की शिकायत की तो जाटव ने वेतन देने के बजाय सीएम हेल्पलाइन पर शिकायत कर दी कि उसे स्टाफ से खतरा है।

अचानक बंद कर दी कोचिंग क्लास, नहीं लौटा रहे थे राशि, विद्यार्थियों ने डीबी स्टार को बताई अपनी पीड़ा**

फीस रिफंड करो या जेल जाओ

टीआई सिसौदिया ने संचालक से कहा, कोचिंग बंद कर दी है तो विद्यार्थियों को फीस रिफंड करो। जाटव ने रुपए की कमी बताकर सबकी फीस रिफंड करने में असमर्थता जताई। टीआई ने कहा, यह धोखाधड़ी है। दूर-दराज से इंदौर पढ़ने आए बच्चों के भविष्य के साथ खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। फीस वापस करो या फिर जेल जाने के लिए तैयार रहो। खुद को घिरता देख जाटव ने दो दिन की मोहलत मांगी। टीआई ने मोहलत दी और उस पर नजर रखी, ताकि वह शहर से न भाग सके।
खबरें और भी हैं...