लॉकडाउन के तीसरे दिन बाइकर्स, ग्रामीणों में समूह बैठक, सोशल डिस्टेंट नजरअंदाज

News - 21 दिनी राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का गुरुवार को दूसरा दिन भी पहले की तरह रहा। इंदौर-उज्जैन में कोरोना संक्रमण की...

Mar 27, 2020, 07:21 AM IST
Harsood News - mp news bikers on 3rd day of lockdown group meeting among villagers social distress ignored

21 दिनी राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन का गुरुवार को दूसरा दिन भी पहले की तरह रहा। इंदौर-उज्जैन में कोरोना संक्रमण की पुष्टि के बाद भी कुछ लोगों द्वारा इसे गंभीरता से नहीं लिया जा रहा है। लॉकडाउन और धारा 144 का पालन पूरी तरह से नहीं किए जाने पर स्थिति गंभीर हो सकती है। हालांकि ऐसे लोगों को पुलिस समझाइश के साथ सख्ती भी दिखा रही है। आम लोगों की मनमानी और अनदेखी की यह तस्वीर अब बदलनी चाहिए, अन्यथा कुछ लोगों की नामसमझी व चूक कर्फ्यू की स्थिति बना सकती है।

प्रशासन सख्त, अब यह होगा

लॉकडाउन के निर्देशों व सूचना के उल्लंघन पर प्रशासन अब सख्त कार्रवाई की तैयारी कर चुका है। शुक्रवार से बाइक, कार व पैदल घूमने वालों को सबक सिखाया जाएगा।

बाइक से जाने पर : जरूरी हो तभी बाइक से बाजार अकेले ही जाएं। किसी को बाइक ना बैठाएं। पुलिस आपको रोककर चालाना, लाइसेंस निरस्त या पालकों को थाने में बैठाने की कार्रवाई करेगी।

तीसरी तस्वीर : बाइकर्स के लिए लॉकडाउन मौज-मस्ती बना


दूसरी तस्वीर : ग्रामीण क्षेत्र में चौपाल व खलिहानों में जमघट

पहली तस्वीर : देशी शराब दुकान, सोशल डिस्टेंस बिलकुल नहीं

बाइकर्स और सोशल डिस्टेंस का पालन ना करने वाले कार्रवाई के लिए तैयार रहें


पैदल चलने वाले

कार में भी दो लोग

यदि कोई व्यक्ति पैदल जा रहा है तो उसे यह ध्यान रखना होगा कि वह अकेला ही जाए। उसके साथ कोई व्यक्ति पैदल भी जाता है तो कार्रवाई के लिए तैयार रहें।

कार से यदि आप दवाई, सब्जी या किराना लेने जा रहे हैं तो मात्र दो लोग ही बैठ सकते हैं। अधिक लोगों को बैठाने पर सख्त कार्रवाई की जाएगी।

प्रशासन, पुलिस व नप के बैठकों में व्यस्त रहने का नगर में युवा बाइकर्स ने खूब फायदा उठाया। इनके लिए लॉकडाउन मौज-मस्ती का सबब बन गया है। सब्जी, दवाई के बहाने एक बाइक पर तीन-तीन युवक फर्राटे भरते नजर आए। दोपहर बाद पुलिस की सख्ती से बाइक थमना शुरू हुई। इस उल्लंघन के लिए युवाओं के परिजन भी उतने ही जिम्मेदार हैं। उधर, कुछ गांवाें मंे पुलिस इतना सख्त रवैया अपना रही है जो भी बेवजह सड़क पर घूम रहे हैं, उन्हें ‘मैं परिवार का दुश्मन हूं’ इस तरह की तख्तियां देकर फोटो खिंच रही है। बावजूद यहां पर तीन लोग एक साथ बैठ रहे हैं।


लॉकडाउन के दौरान शराब दुकानों को छूट मिली है। इसका ठेकेदार व उसके कर्मचारी व्यापारिक लाभ तो उठा ही रहे हैं, भीड़ ना जमा करने और सोशल डिस्टेंस का भी उल्लंघन कर रहे हैं। मुख्यालय के प्रमुख बाजार स्थित मेडिकल, किराना, सब्जी दुकानों पर सिर्फ 5 लोगों को दूरी पर खड़े होकर खरीदी करने की मार्किंग की जा चुकी है, लेकिन देशी शराब दुकान इससे परे है। यहां दिन व शाम को कई बार भीड़ जमा होती है। इससे धारा 144 की भी अवहेलना होती है। दुकान के पीछे अहाते में शराबी बैठ रहे हैं। यही स्थान पुनर्वास स्थल की देशी शराब दुकान की भी है।

एेसा ही कुछ हाल ग्रामीण अंचल में भी है। जबकि महाराष्ट्र सहित अन्य प्रांतों व इंदौर-उज्जैन से आने वालों की संख्या ग्रामीण क्षेत्र में ज्यादा है। इसके बावजूद गांवों में लोग लॉकडाउन की आवश्यकता व अनिवार्यता को नहीं समझ रहे हैं। प्रशासन, हाट बाजार व दुकानें बंद कराने में तो सफल है लेकिन ग्रामीण खुद को समूह बनाकर बैठने व ताश पत्ते खेलने से नहीं रोक पा रहे हैं। गुरुवार को बोरीसराय हाट बाजार स्थगित कराया गया। पटवारी, सचिव, कोटवार आदि ने ग्रामीणों को घरों में रहने की हिदायत दी लेकिन परिणाम शून्य रहे। थोड़ी देर बाद फिर वही हालात बन गए।

Harsood News - mp news bikers on 3rd day of lockdown group meeting among villagers social distress ignored
Harsood News - mp news bikers on 3rd day of lockdown group meeting among villagers social distress ignored
X
Harsood News - mp news bikers on 3rd day of lockdown group meeting among villagers social distress ignored
Harsood News - mp news bikers on 3rd day of lockdown group meeting among villagers social distress ignored
Harsood News - mp news bikers on 3rd day of lockdown group meeting among villagers social distress ignored

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना