उपभोक्ता फोरम ने दो बैंकों पर लगाया जुर्माना

News - बैंक के गलती की कारण उपभाेक्ताअाें काे न केवल परेशान होना पड़ा बल्कि शर्मिंदा भी हाेना पड़ा। बैंकाें के...

Sep 14, 2019, 06:55 AM IST
बैंक के गलती की कारण उपभाेक्ताअाें काे न केवल परेशान होना पड़ा बल्कि शर्मिंदा भी हाेना पड़ा। बैंकाें के अधिकारियाें ने उपभाेक्ताअाें से माफी मांगने की जगह उल्टे उन्हें परेशान किया। उपभोक्ताओं फोरम दो अलग अलग मामलों में सुनवाई करते हुए बैंकाें काे सेवा में कमी अाैर अनुचित व्यापार का दाेषी माना। फाेरम की बैंच-1 ने देना बैंक अाैर इलाहाबाद बैंक के खिलाफ फैसला सुनाया। फाेरम ने दाेनों मामलों में उपभोक्ताओं को हर्जाना देने का आदेश दिया। दाेनाें मामलाें की सुनवाई फाेरम के अध्यक्ष अार के भावे अाैर सदस्य सुनील श्रीवास्तव अाैर क्षमा चाैरे ने की।

दो केस... बैंक की गलती से कहीं उपभोक्ता परेशान हुआ तो कहीं शर्मिंदा

पहले जब्त रजिस्ट्री की बैंक ने की नीलामी, ऊपर से मांगा ब्याज

एसएन शर्मा ने देना बैंक के खिलाफ की शिकायत में बताया कि बैंक ने कान्हा कुंज के फ्लैट की नीलामी का विज्ञापन दिया। उन्हाेंने मकान की बोली 11 लाख 50 हजार में लगाई। बैंक ने अावेदन स्वीकार किया। अावेदक ने कैनरा बैंक से लाेन लेकर देना बैंक को पे अार्डर से शेष राशि 8,62,500 रुपए दिए, लेकिन बैंक ने पैसे नहीं लिए। बताया कि रजिस्ट्री सीबीअाई काेर्ट में जब्त है। बाद में बैंक ने अावेदक काे पत्र दिया जिसमें उन्हाेंने शेष राशि नहीं समय पर जमा नहीं करने के लिए 1,45000 रुपए ब्याज जमा करने कहा। इस पर फोरम ने बैंक पर जुर्माना लगाया।

अकाउंट में पर्याप्त बैंलेस होने के बाद भी बैंक ने बाउंस कर दिया था चेक

सागर एन्क्लेव निवासी अर्जुन तिवारी ने जहांगीराबाद स्थित इलाहाबाद बैंक के खिलाफ परिवाद दायर कर बताया कि बैंक में उनका अकाउंट है। इसमें पांच लाख से अधिक रुपए जमा हैं। उन्हाेंने 22 अप्रैल 2015 काे 26 हजार 500 का चेक माधवी गुप्ता काे दिया। उन्हाेंने चेक जमा किया ताे बैंक ने अपर्याप्त राशि की टीप लिखकर वापस कर दिया। माधुरी के दाेबारा चेक प्रस्तुत करने पर बैंक ने उसे वापस कर दिया। बैंक ने कहा कि साॅफ्टवेयर की गलती की वजह से खाते में पर्याप्त राशि शाे नहीं हाे रही थी, जिसकी वजह से चेक वापस हुअा।

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना