पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

ऊंझा से जीरे का ट्रक भाड़ा 7 रु. किलो

एक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक

कुछ काजू फैक्टरियों द्वारा भी सीधे खेरची व्यापारियों को बिक्री, गोला का टेंडर 104.40 रुपए में

इंदौर| कुछ व्यापारियों को जीएसटी ने उपहार दिया है। ऊंझा मंडी में 2 रुपए किलो के ट्रक बाड़े में आने वाला जीरा 7 रुपए किलो में आ रहा है। लाभ अधिक ट्रक किराया देने वालों के खातों में जा रहा है। 2 रुपए किलो ट्रक भाड़ा देने वालों का धंधा ही बैठ गया है क्योंकि इन्हें 5 प्रतिशत जीएसटी देना पड़ता है और मंडी शुल्क भी। यह बिल का माल होता है। उल्लेखनीय है कि पिछले कई वर्षों से दो ट्रांसपोर्ट कंपनियों को व्यापारियों को बिना बिल का माल लाकर डिलीवरी देने में महारथ हासिल है। जीएसटी लागू होने के बाद 90 प्रतिशत जीरा 7 रुपए किलो वाले भाड़े में आ रहा है। राजस्थान से आने वाले जीरे के बिल तो शायद किसी व्यापारी के पास होगा। वर्षों से बिना बिल में ही आ रहा है। ऊंझा से आने वाली एक पेटी जीरे पर 40 रुपए लगना चाहिए। ट्रांसपोर्ट कंपनियां 140 रुपए पेटी ले रही है। उसके बाद व्यापारी खुश है।

कालीमिर्च में 3 रुपए घटाए

टिपटूर में खोपरा गोला का टेंडर 104.40 रुपए में गया। पिछले टेंडर से 2.04 रुपए ऊपर गया। हालांकि खोपरा गोला में ग्राहकी कमजोर है। ऊपरी भावों में 2 रुपए की वृद्धि कर दी गई है। इंदौर में ओडिशा काजू का कारोबार 20-22 फर्मे कर रही है। कुछ फर्में सीधे मंगवा रही है जबकि कुछ छोटे व्यापारियों के फैक्टरी वाले माल देकर हाथों-हाथ नकद रुपया लेकर चले जाते हैं। पिछले लंबे समय से इसी प्रक्रिया से काजू आकर खरीदा बेचा जा रहा है। ओडिशा के काजू मीठा भी नहीं है। कालीमिर्च के भावों में 3 रुपए की और कमी की गई है। कालीमिर्च में ग्राहकी कमजोर है।

सियागंज किराना बाजार में शकर 3410 से 3440 गुड़ लड्‌डू 3200 से 3250 कटोरा 3100 से 3150 भेली 3000 से 3050 हल्दी काढ़ी 9800 से 10800 लाल गाय 133 हल्दी पावडर-501-1431 सुपर क्राउन 711 मयूर 1275 खोपरा गोला 125 से 142 खोपरा बूरा व्हील 4250 सनगोल्ड 2750 ताज 3051 साबूदाना 5250 से 5300 मीडियम 5350 से 5450 बेस्ट 5500 से 5600 ग्लास 6500 से 6900 वरलक्ष्मी 5950 1 किलो पैकिंग में 6860 सोल्जर 5500 सच्चामोती रायलर| 6300 1 किलो 6750 सच्चासाबू 6300 1 किलो में 6750 कालीमिर्च गारवल 322 से 325 एटम 330 से 335 मटरदाना 370 से 375 एक्स्ट्रा बेस्ट 385 जीरा राजस्थान 173 से 178 ऊंझा हल्का 181 से 185 मध्यम 188 से 193 बेस्ट 195 से 205 सौंफ मोटी 77 से 85 मीडियम 95 से 105 बेस्ट 110 से 135 बारीक 160 नारियल मद्रास नया पानी 120 भरती 2050 से 2100 160 भरती 2100 से 2150 200 भरती 2250 से 2300 250 भरती 2350 से 2400 लौंग चालू 440 से 470 बेस्ट 505 से 515 दालचीनी 260 से 265 बेस्ट 275 से 280 जायफल 550 से 625 बेस्ट 700 से 750 जावत्री 2050 बेस्ट 2100 से 2150 बड़ी इलायची 520 से 585 बेस्ट 625 से 725 पत्थर फूल 360 से 450 बेस्ट 550 बाद्यान फूल 470 से 510 शाहजीरा 320 से 340 ग्रीन 490 से 520 तेजपान 78 से 90 तरबूज मगज 120 से 122 नागकेसर 550 से 575 सौंठ 210 से 280 खसखस चालू 350 से 425 मीडियम 475 से 675 बेस्ट 800 से 850 एक्स्ट्रा बेस्ट 900 से 925 धौली मूसली 625 से 640 बेस्ट 655 से 680 वनदेवी दाना 751- 2600 वनदेवी पाउच में 2650 121 न. दाना 2400 पाउच 2450 111 न. डिब्बी 2200 पाउच 2250 पीला पावडर 700 सिंघाड़ा 95 से 100 बड़ा 130 से 135 सिंदूर 6300 पूजा बादाम 55 से 70 बेस्ट 155 से 185 पूजा सुपारी 265 से 270 अरीठा 65 मोरधन अल्पाहार 8630 हरी इलायची 3150 से 3415 मीडियम 3475 से 3550 बोल्ड 3625 से 3800 एक्स्ट्रा बोल्ड 3810 से 3850 काजू-240 755 से 770 काजू डब्ल्यू 320- 700 से 715 डब्ल्यू 1- 695 से 705 काजू एस डब्ल्यू 300- 675 से 685 एसएस डब्ल्यू-670 से 680 काजू जेएच 620 से 635 टुकड़ी 565 से 585 रुपए।

धनिए का उत्पादन 21% बढ़ेगा

वर्ष 2019-20 में धनिए का उत्पादन अनुमान 21 प्रतिशत बढ़कर लगाया जाने लगा है। विशेषज्ञों का मत है कि पानी की उपलब्धता एवं मौसम अनुकूल रहने से उत्पादन में वृद्धि होगी। उत्पादन 3.40 से 3.60 लाख टन के आसपास पहुंच सकता है जबकि वर्ष 2018-19 में 3 लाख टन का उत्पादन अनुमान व्यक्त किया गया था। इस वर्ष गुजरात में सर्वाधिक मात्रा में बोवनी हुई है। इस राज्य में बोवनी का रकबा करीब 200 प्रतिशत बढ़ा है। गुजरात में पिछले सीजन में सूखे की वजह से बोवनी का रकबा काफी मात्रा में घट गया था। इस वर्ष पानी पर्याप्त मात्रा में होने से किसानों ने 100 प्रतिशत जमीन का उपयोग किया है। पिछले वर्ष 40 प्रतिशत जमीन खाली रह गई थी।
खबरें और भी हैं...