ब्रह्माकुमारी केंद्रों में एक ईश्वर आैर एक परिवार की शिक्षा

News - 140 देशों में ब्रह्माकुमारी सेवा केंद्र कार्य रहे हैं, जिनका संचालन बहनें करती हैं, जो सिर्फ पुरातन संस्कृति ही...

Oct 13, 2019, 06:51 AM IST
140 देशों में ब्रह्माकुमारी सेवा केंद्र कार्य रहे हैं, जिनका संचालन बहनें करती हैं, जो सिर्फ पुरातन संस्कृति ही सिखाती हैं। ब्रह्माकुमारी केंद्रों में तीन बातें मुख्य रूप से सिखाई जाती हैं- एक ईश्वर, एक विश्व, एक परिवार। ब्रह्मकुमारी में 40 हजार समर्पित बहनें, 10 हजार समर्पित भाई एवं 10 लाख परिवार प्रतिदिन ईश्वरीय ज्ञान एवं योग अर्थात पुरातन संस्कृति प्रतिदिन सीखते हैं। यह उद्गार ब्रह्मकुमारी मीडिया प्रभाग के राष्ट्रीय अध्यक्ष राजयोगी करुणा भाई ने भारत को विश्व गुरु बनाने में सर्व वर्गों का योगदान विषय पर आयोजित अंतरराष्ट्रीय महासम्मेलन के पहले दिन राष्ट्रीय मीडिया सम्मेलन में व्यक्त किए। दिल्ली से आईं ब्रह्माकुमारी ओमशांति रिट्रीट सेंटर दिल्ली की निदेशिका राजयोगिनी बीके शुक्ला दीदी ने भी आशीर्वचन दिए। कार्यक्रम में रूस एवं चीन के प्रतिनिधि भी उपस्थित थे। माउंटआबू (राजस्थान) से यहां आए मधुरवाणी ग्रुप के सतीश भाई एवं गौतम भाई ने गीत प्रस्तुत कर समा बांधा।

मीडिया कर रहा मार्गदर्शन

मुख्य अतिथि जनसंपर्क आयुक्त पी नरहरि ने कहा कि प्रदेश एवं भारत का मीडिया अपने सर्वश्रेष्ठ कार्यों के माध्यम से चौथा स्तंभ बनकर मार्गदर्शन करता आया है। मुझे पूरा विश्वास है कि आने वाले समय में निश्चित ही मीडिया के माध्यम से हम विश्व गुरु बनने जा रहे हैं।

विश्व गुरु बनेगा भारत

ब्रह्माकुमारी भोपाल जोन की निदेशिका राजयोगिनी बीके अवधेश बहन ने कहा कि मीडिया सभी वर्गों में ध्रुवतारे के समान है। आज भोपाल में भारत के विश्व गुरु बनने का बीजारोपण हो रहा है। निकट भविष्य में संपूर्ण भारत विश्वगुरु बनेगा। मीडिया शांति का पैगाम फैलाएंगे तो भारत अवश्य ही विश्व गुरु बन जाएगा।

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना