आईईटी, आईएमएस और आईआईपीएस की खासियतों पर रहेगा जोर, ये भी बताएंगे फैकल्टी की कमी कैसे दूर करेंगे

News - देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी में 21 से 23 नवंबर तक होने वाले नेशनल असेसमेंट एंड एक्रिडिटेशन काउंसिल (नैक) के निरीक्षण को...

Nov 11, 2019, 08:22 AM IST
देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी में 21 से 23 नवंबर तक होने वाले नेशनल असेसमेंट एंड एक्रिडिटेशन काउंसिल (नैक) के निरीक्षण को लेकर कई बिंदुओं पर काम चल रहा है। डीएवीवी प्रशासन ने तय किया है कि वह अपने तीन बड़े और सबसे सफल विभागों की खासियत टीम के समक्ष रखने पर सबसे ज्यादा जोर देगी। प्रशासन आईएमएस के 10 से ज्यादा शानदार कोर्स, 70 फीसदी से ज्यादा प्लेसमेंट के बारे में बताएगा। यह भी बताया जाएगा कि एमबीए (फुल टाइम) या एमबीए के अन्य स्पेशलाइजेशन कोर्स के लिए पूरे प्रदेश में सबसे ज्यादा डिमांड चॉइस फिलिंग में आईएमएस की ही होती है। इसके अलावा इंजीनियरिंग कोर्स में एडमिशन की सबसे ज्यादा डिमांड एसजीएसआईटीएस के बाद आईईटी की ही है। आईईटी के प्लेसमेंट पैकेज 29 लाख रुपए सालाना तक पहुंचने की भी जानकारी दी जाएगी। वहीं आईआईपीएस में सबसे ज्यादा डिमांड वाले इंटीग्रेटेड प्रोग्राम एमबीए (एमएस), प्लेसमेंट में हर साल 5 फीसदी तक बढ़ोतरी और स्कूल ऑफ लॉ जैसे विभाग में बीए एलएलबी के मामले में देशभर से एडमिशन की डिमांड के बारे में भी टीम को बताया जाएगा।

पर्यावरण के ये प्रोजेक्ट भी प्रमुखता से होंगे शामिल

यूनिवर्सिटी टीम के समक्ष ग्रीन कैंपस का भी जिक्र करेगी। यह बताया जाएगा कि तक्षशिला और नालंदा परिसर में जिस तरह सैकड़ों पौधे लगाए गए। नालंदा कैंपस में तीन साल पहले बड़ा गार्डन विकसित किया गया। वहीं तक्षशिला परिसर के तो 33 टीचिंग विभागों के सामने एक-एक गार्डन बनाया गया है। कैंपस का 33 फीसदी हिस्सा ग्रीन बेल्ट बतौर विकसित किया गया है। इसके अलावा सभी प्रमुख विभागों में सोलर पैनल लग चुके हैं। बिजली बचाने के लिए यह बड़ा कदम उठाया गया है। वॉटर हार्वेस्टिंग का आधुनिक सिस्टम भी कैंपस में लगाया गया है। इसके अलावा भी कई ऐसे काम किए गए हैं,जो पर्यावरण सुधार की दिशा में अहम हैं।

इन कमजोरियों को दूर करने के लिए बताएंगे प्लान




यह भी बताएंगे




7 बिंदुओं का प्रेजेंटेशन तैयार, अन्य उपलब्धियां भी बताएंगे


X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना