फर्जी दस्तावेजों के आधार पर नौकरी लगवाने वाले सिक्योरिटी कंपनी के पूर्व डीजीएम ने किया 19 लाख का घोटाला

News - लीगल िरपोर्टर| भोपाल /जबलपुर नौकरियों के नाम पर 18 लाख 87 हजार रुपए का गबन करने वाले आरोपी बॉम्बे इंटेलिजेंस...

Sep 14, 2019, 06:53 AM IST
लीगल िरपोर्टर| भोपाल /जबलपुर

नौकरियों के नाम पर 18 लाख 87 हजार रुपए का गबन करने वाले आरोपी बॉम्बे इंटेलिजेंस सिक्योरिटी इंडिया कंपनी भोपाल ब्रांच के तत्कालीन डिप्टी जनरल मैनेजर हर्षलाल िद्ववेदी को हाईकोर्ट ने अग्रिम जमानत देने से इनकार कर िदया। जस्टिस अखिल कुमार श्रीवास्तव की एकलपीठ ने कहा कि आवेदक गिरफ्तारी से बचने के लिए फरार है और जांच में सहयोग नहीं कर रहा है। आवेदक के खिलाफ 18 लाख रुपए की हेराफेरी करने का गंभीर आरोप है, इसलिए ऐसी स्थिति में अग्रिम जमानत का लाभ नहीं दिया जा सकता। आरोप है कि उन्होंने जनवरी 2014 से मार्च 2016 के बीच अपने 4 करीबियों को फर्जी दस्तावेजों के जरिए आईआईएसईआर भोपाल में मेडिकल ऑफिसर के पद पर नौकरी लगवाई। इन 2 सालों में हर्षलाल ने संदीप ित्रपाठी, जीवेन्द्र पांडे, गीता मिश्रा और नेहा मिश्रा की सैलरी के नाम पर कंपनी से 18 लाख 87 हजार रुपए निकाल िलए। शिकायत मिलने पर कंपनी ने पाया कि बीआईएस ने ऐसे किसी नाम के लोगों को नौकरी नहीं िदलवाई। जांच में पाया गया कि हर्षलाल ने पैसे कमाने की लालच में यह फर्जीवाड़ा िकया। कंपनी ने डीजीएम के खिलाफ 17 अप्रैल 2019 को मिसरौद पुलिस थाने में धोखाधड़ी का मामला दर्ज कराया। एफआईआर दर्ज होने के बाद से ही आवेदक फरार है।



X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना