18 मार्च को हटाए गए ग्वालियर ननि कमिश्नर आठवें दिन ही बहाल

News - ज्वाइनिंग पर डीजी और तत्कालीन मंत्री ने जाहिर की थी नाराजगी 2010 बैच के आईएएस अधिकारी व ग्वालियर नगर निगम...

Mar 27, 2020, 06:40 AM IST
ज्वाइनिंग पर डीजी और तत्कालीन मंत्री ने जाहिर की थी नाराजगी

2010 बैच के आईएएस अधिकारी व ग्वालियर नगर निगम कमिश्नर संदीप कुमार माकिन का तबादला आदेश गुरुवार को रद्द हो गया है। आठ दिन पहले 18 मार्च को कमलनाथ सरकार ने माकिन को ग्वालियर नगर निगम कमिश्नर पद से हटा दिया था, साथ ही उनकी पदस्थापना संचालक गैस राहत के पद पर भोपाल कर दी गई थी। माकिन की पोस्टिंग ज्योतिरादित्य सिंधिया ने करवाई थी। उनके भाजपा में जाते ही माकिन का तबादला कर दिया गया। अब भाजपा के सत्ता में आते ही माकिन का तबादला निरस्त कर दिया गया। मंत्रालय सूत्रों का कहना है कि सिंधिया ने इस संबंध में मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से बात की थी। पूर्व में माकिन की जगह जबलपुर के अपर कलेक्टर आईएएस अधिकारी हर्ष दीक्षित की पोस्टिंग ग्वालियर ननि कमिश्नर के पद पर की गई थी। आदेश निरस्त होने से दोनों अधिकारी अपनी जगह पदस्थ रहेंगे।

अनुराग सक्सेना कमलनाथ के विशेष सहायक बने : उप सचिव अनुराग सक्सेना को कमलनाथ की निजी स्थापना में विशेष सहायक नियुक्त किया है। कमलनाथ सरकार में सक्सेना सीएमओ में छिंदवाड़ा से जुड़े काम देखते थे और सभी विभागों से समन्वय करते थे।

ई-टेंडर घोटाले में नरोत्तम मिश्रा के करीबियों पर शिकंजा कसने वाले ईओडब्ल्यू एसपी मिश्रा को हटाया

क्राइम रिपोर्टर | भोपाल

राज्य शासन ने गुरुवार को एक आदेश जारी कर भोपाल ईओडब्ल्यू एसपी अरुण मिश्रा को हटा दिया है। मिश्रा को डिप्टी कमांडेंट 35वीं बटालियन, मंडला पदस्थ किया है। एसपी मिश्रा ने ई-टेंडर घोटाले की जांच के दौरान बीजेपी नेता नरोत्तम मिश्रा के करीबियों पर शिकंजा कसा था। राज्य शासन ने अरुण मिश्रा की सेवाएं सामान्य प्रशासन विभाग से वापस ले ली हैं। कांग्रेस सरकार बनते ही मिश्रा को एसपी ईओडब्ल्यू भोपाल पदस्थ किया था। उनकी ज्वाइनिंग को लेकर भी ईओडब्ल्यू डीजी और तत्कालीन विभागीय मंत्री ने नाराजगी जाहिर की थी। ई-टेंडर घोटाले की जांच के दौरान भोपाल यूनिट ने नरोत्तम मिश्रा के स्टाफ में शामिल रहे दो पूर्व कर्मचारियों को गिरफ्तार कर जेल भेजा था। उनके 14 करीबियों के खिलाफ भी ईओडब्ल्यू ने धोखाधड़ी का केस दर्ज किया था। मिश्रा को ईओडब्ल्यू से हटाकर उनकी सेवाएं गृह विभाग को सौंपी गई हैं। मिश्रा को मंडला स्थित 35वीं बटालियन में डिप्टी कमांडेंट बनाया गया है।

मंत्रियों के निजी स्थापना में पदस्थ अफसरों को उनके मूल विभाग भेजा

भोपाल| प्रदेश में शिवराज सरकार बनने के साथ ही कांग्रेस सरकार में मंत्रियों के स्टाफ में पदस्थ अधिकारियों की वापसी शुरू हो गई है। राज्य शासन ने पूर्व मंत्रियों के स्टाफ में पदस्थ 21 अधिकारियों की सेवाएं उनके मूल विभाग का लौटा दी। यह अधिकारी अलग-अलग मंत्रियों के स्टाफ में ओएसडी निज सचिव व विशेष सहायक के रूप में पदस्थ थे।

इन अधिकारियों की सेवाएं मूल विभाग को लौटाई गई: प्रदीप मरकाम, डॉ बीपी गौर, ज्योति प्रकाश श्रीवास्तव, डॉ. अजय कौशल, नीरज श्रीवास्तव, संजय कुमार जैन, अशोक कुमार गुप्ता, शिवप्रसाद बुंदेला, अरुण माथुर, चंद्र मोहन शर्मा, बसंत कुमार बाथरे, अनुकूल जैन, दिलीप कापसे, अजय श्रीवास्तव, वीरेंद्र पटेल, अभिषेक दुबे, एम अमीर बेग, गुलाब राव बुवाड़े और सचिव देवी सिंह मरकाम।

सत्ता बदलते ही घर वापसी शुरू

सिंधिया ने रद्द कराया ट्रांसफर आदेश

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना