• Hindi News
  • Mp
  • Sagar
  • Sagar News mp news health workers did not come to investigate the workers who returned from goa and pune the villagers in panic

गोवा और पुणे से लौटे मजदूरों की जांच करने नहीं पहुंचे स्वास्थ्य कर्मी, दहशत में गांव के लोग

Sagar News - जिले के ग्रामीण अंचल में दूरदराज से मजदूरों का लौटना लगातार जारी है। इसके बाद भी जिले के आला अधिकारियों से लेकर...

Mar 27, 2020, 08:26 AM IST

जिले के ग्रामीण अंचल में दूरदराज से मजदूरों का लौटना लगातार जारी है। इसके बाद भी जिले के आला अधिकारियों से लेकर स्वास्थ विभाग का महकमा इस ओर गंभीरता से ध्यान नहीं दे रहा है।

इसका एक मामला गुरुवार को राहतगढ़ ब्लॉक के भैंसा गांव में भी देखने को मिला। यहां पर गोवा और पुणे में मजदूरी करने गए करीब 8-10 लोग वापस लौटे तो गांव के लोगों ने संजीदगी दिखाते हुए तुरंत ही विभिन्न प्रशासनिक अधिकारियों से लेकर स्वास्थ्य विभाग तक इसकी सूचना पहुंचाई। इसके बाद भी देर रात तक यहां कोई जांच करने के लिए नहीं पहुंचा। जबकि ग्रामीणों के मुताबिक उन्होंने सुबह करीब 10 बजे ही इसकी सूचना सभी को दे दी थी। इसके बाद भी अधिकारियों ने और गंभीरता से ध्यान नहीं दिया। गौरतलब है कि सागर जिले से करीब 50 हजार से अधिक लोग रोजी-रोटी की तलाश में अन्य शहरों और राज्यों में जाते हैं। देशभर में लॉकडाउन के चलते इन सभी का वहां रोजी रोटी कमाना दूभर हो गया था। ऐसे में सभी ने अपने घर की ओर राह पकड़ ली है। हजारों की संख्या में लोग वापस आ चुके हैं तो कई अभी भी लगातार लौट रहे हैं। इसके बाद भी गांव-गांव जाकर स्वास्थ्य विभाग के अधिकारी इनकी जांच नहीं कर रहे हैं। सीएमएचओ डा. एमएस सागर का कहना है कि राहतगढ़ टीम पहुंच गई है। एक युवक जो गोवा से लौटा था वह टाइम आउट हो चुका है। बाकी करीब 20 कोरेनटाइन किया है।

मालथौन अस्पताल पहुंचे ग्रामीण, फिर भी नहीं हुई जांच

गांव में दूसरे शहरों और राज्यों से लगातार हो रही नए लोगों की आमद से गांव के लोग डरे हुए हैं। परंतु पंचायत सचिवों के द्वारा सूचना देने के बाद भी जब स्वास्थ विभाग के अधिकारी गांव नहीं पहुंच रहे हैं तो गांव के लोग नए आये लोगों को जांच कराने अस्पताल जाने के लिए कह रहे हैं। ऐसे में गुजरात से बोबई ग्राम लौटे शोभाराम पटेल स्वयं की जिम्मेदारी निभाते हुए ग्रामीणों के कहने पर 2 दिन पहले जब मालथौन अस्पताल पहुंचे तो वहां स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने उनकी कोई जांच नहीं की। अन्य लोगों के साथ भी यही हुआ। शोभाराम ने बताया कि मालथौन की अस्पताल में कहा गया कि अभी सभी स्वास्थ्यकर्मी एक एक्सीडेंट केस में उलझे हुए हैं। तुम बाद में आना। उन्होंने न तो मेरी कोई एंट्री की, न ही अब तक कोई मेरी जांच करने गांव आया है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना