• Hindi News
  • Mp
  • Sagar
  • Sagar News mp news lockdown power consumption increased by 5 lakh kw over last year

लाॅकडाउन: बिजली की खपत पिछले साल के मुकाबले 5 लाख किलोवॉट बढ़ी

Sagar News - Â हरेक आदमी कर रहा करीब 20 घंटे बिजली का उपयोग Â लोड बढ़ने के कारण सप्लाई पर भी पड़ रहा असर कोरोना के चलते पूरे...

Mar 27, 2020, 08:25 AM IST

 हरेक आदमी कर रहा करीब 20 घंटे बिजली का उपयोग

 लोड बढ़ने के कारण सप्लाई पर भी पड़ रहा असर

कोरोना के चलते पूरे जिले में लॉक डाउन है। इसका सीधा असर बिजली कंपनी की सप्लाई सर्विस पर पड़ा है। दरअसल इसी समय पर मौसम ने तेवर बदलना शुरु कर दिया है और घरों के भीतर रह रहे लोगों ने पहले पंखे फिर सीधे एसी-कूलर का इस्तेमाल शुरु कर दिया है। बिजली कंपनी की माने तो बीते चार दिन में घरों में एक तिहाई अधिक बिजली खर्च बढ़ गया है। इसका सीधा असर कंपनी सप्लाई और मेन्टेनेंस पर भी पड़ा है। पिछले साल जहां शहर में 20-23 मार्च के दौरान रोजाना औसतन 28.24 किलोवाट बिजली की सप्लाई हुई थी। वहीं इस साल इन्ही दिनों में यह बढ़कर 33.44 किलोवाट हो गई है। कंपनी के एई मेन्टेनेंस सीएस पटेल का कहना है कि लोड बढ़ने से हमें दो-एक जगह ट्रांसफार्मर जलने की शिकायत मिली। इससे वहां की बिजली बाधित हुई। कुछ जगहों पर लाइनें भी बर्स्ट हुई। इससे भी हम क्वालिटी सप्लाई नहीं दे पाए।

अशोक रोड पर चार दिन से रोज गिलहरी मिल रहीं : एई पटेल के अनुसार सप्लाई के बाधित होने का एक बड़ा कारण गिलहरी है। चार दिन से लगातार सिविल लाइन के अशोक रोड फीडर में गिलहरियों की घुसपैठ हो रही है। इसके चलते सप्लाई में फॉल्ट आ रहा है। अजीब इत्तेफाक है कि एक ही जगह पर रोजाना 3-4 गिलहरियां मरी मिल रही हैं। बता दें कि अशोक रोड में फॉल्ट आने पर सिविल लाइन के इंदिरानगर, पुलिस लाइन, पम्मा साहू कॉम्पलेक्स रोड, कोरेगांव आदि इलाकों की बिजली सप्लाई गड़बड़ाती है।

सुनीलकुमार सिन्हा, डीई, सिटी, मप्र पूर्व क्षेत्र बिजली वितरण कंपनी, सागर का कहना है कि लॉक-डाउन के दौरान बिजली की खपत बढ़ने का पहले से अंदाजा था। इसके मद्देनजर सिटी डिविजन में लाइन स्टाफ की संख्या बढ़ाई है। पहले जहां हम एक समय में एक साथ 6 फॉल्ट सुधार सकते थे, अब हम 8 जगह काम कर सकते हैं। फिलहाल लोगों से अपील है कि वे यथासंभव बिजली की बचत करें। परिस्थितिवश अगर बिजली सप्लाई बाधित हो जाए तो घरों से बाहर नहीं आएं। लॉकडाउन का पालन करें।
टोकने के बावजूद 11 केवी से खिलवाड़ कर रहा नागरिक: बिजली कंपनी के अनुसार बिजली सप्लाई गड़बड़ाने के इन कारणों के अलावा कुछेक लोगों द्वारा किए जा रहे बड़े ही गैर-िजम्मेदाराना काम भी हैं। उदाहरण के लिए विजय टॉकीज के पास माता-मढ़िया पर एक व्यक्ति का मकान निर्माणाधीन है। उसने अपनी सुरक्षा व सुविधा के लिए यहां से गुजरी 11 केवी की लाइन को एक लंबे बांस पर उठा दिया है। जो किसी बड़ी दुर्घटना का कारण बन सकता है। एई पटेल के अनुसार दो बार टीम भेजी गई लेकिन यह व्यक्ति नहीं िमला। नतीजतन हम बांस नहीं हटा पाए। पटेल के मुताबिक बांस अड़ाए जाने के कारण लाइन ट्रिपिंग की समस्या आ रही है।

मेडिकल मशविरा: फिलहाल एसी का उपयोग न ही करें तो बेहतर है

ताजा हालात को देखते हुए अगर लोग एसी का इस्तेमाल करने से परहेज करें तो बेहतर होगा। दरअसल एसी से सर्दी होने का खतरा नहीं है, बल्कि इससे कहीं ज्यादा खतरा कोरोना वायरस के एक्टिव होने का है। सबसे ज्यादा खतरा सामूहिक डक्ट वाले एसी से है। इनके द्वारा बाहरी सोर्स से हवा कैच की जाती है जो फिलहाल ठीक नहीं है। इसके अलावा एसी से ठंडी हवा निकालने के लिए जिम्मेदार पार्ट एयरोसोल इस समय सबसे ज्यादा संवेदनशील है। मुमकिन है कि किसी व्यक्ति द्वारा एसी के सामने खांसने, छींकने के दौरान उसका वायरस इसमें सुरक्षित हा़े जाए जो अन्य व्यक्तियों को एक साथ इन्फेक्टेड कर सकता है।
- डॉ. मनीष जैन, एसो. प्रोफेसर बीएमसी, सागर

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना