जिला अस्पताल के कुएं में फेंकी परिवार नियोजन की सामग्री

News - जनसंख्या नियंत्रण के लिए सरकार हर साल अरबों रुपए खर्च कर रही है। नसबंदी ऑपरेशन के टारगेट दिए जा रहे हैं। राष्ट्रीय...

Dec 04, 2019, 08:55 AM IST
जनसंख्या नियंत्रण के लिए सरकार हर साल अरबों रुपए खर्च कर रही है। नसबंदी ऑपरेशन के टारगेट दिए जा रहे हैं। राष्ट्रीय परिवार नियोजन कार्यक्रम के तहत स्वास्थ्य विभाग को परिवार नियोजन की सामग्री दी जाती है, ताकि लोगों को इन्हें बांटा जा सके, लेकिन इन्हें बांटने के बजाय फेंका जा रहा है। मंगलवार को जिला अस्पताल परिसर स्थित कुएं में गुपचुप तरीके से बड़ी संख्या में परिवार नियोजन की सामग्री फेंक दी गई।

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. प्रवीण जड़िया का कहना है कि जानकारी मिलने पर स्टोर प्रभारी से जवाब मांगा गया है। रिकॉर्ड भी चेक कराए। इस बैच की सामग्री हमारे यहां प्राप्त नहीं हुई है। हो सकता है कि किसी अन्य संस्था ने यहां फेंकी होगी।

पैकेट पर 03/2019 मैन्यूफैक्चरिंग, 02/2022 एक्सपाइरी डेट है अंकित

जिला अस्पताल के कुएं में मिली परिवार नियोजन की सामग्री। पर सरकारी सप्लाई लिखा है। इतना ही नहीं उस पर मैन्यूफैक्चरिंग 2019 लिखा है अाैर एक्सपायरी डेट वर्ष 2022 लिखा है। अब अधिकारियाें काे यह समझ नहीं अा रहा है कि यह यह सारा सामान एक्सपाइरी भी नहीं है, फिर इसे फेंका कैसे गया और किसने इसे फेंक दिया। हालांकि स्वास्थ्य विभाग इस बात से साफ इनकार कर रहा कि यह पैकेट उन्हें सप्लाय हुए।

... जबकि जिले में है 24 हजार नसबंदी ऑपरेशन का लक्ष्य

इंदौर जिले की ही बात करें तो आबादी के लिहाज से यहां 24 हजार नसबंदी ऑपरेशन का लक्ष्य रखा गया है, लेकिन अधिकारियों का दावा होता है कि यहां की आबादी शिक्षित है, इसलिए दंपती ऑपरेशन के अलावा अन्य विकल्पों का इस्तेमाल ज्यादा करते हैं, जबकि वैकल्पिक परिवार नियोजन के संसाधनों को कचरे की तरह कुएं में फेंका जा रहा है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना