• Hindi News
  • Mp
  • Indore
  • News
  • Indore News mp news nagdhamman river from contaminated water coming out from companies then shipra is getting polluted until ujjain

कंपनियों से निकलने वाले दूषित पानी से नागधम्मन नदी, फिर शिप्रा हो रही प्रदूषित...असर उज्जैन तक

News - शहर के औद्योगिक क्षेत्र की कंपनियों से निकलने वाला केमिकलयुक्त पानी नागधम्मन नदी से होकर सीधा शिप्रा नदी में मिल...

Dec 04, 2019, 09:01 AM IST
शहर के औद्योगिक क्षेत्र की कंपनियों से निकलने वाला केमिकलयुक्त पानी नागधम्मन नदी से होकर सीधा शिप्रा नदी में मिल रहा है। इस गंदे पानी के संपर्क में आने से जहां लोगों को खूजली की बीमारी हो रही है, वहीं पालतु पशुओं के पीने पर यह उनके लिए जानलेवा साबित हो रहा है। इस तरफ आज तक अफसरों ने ध्यान नहीं दिया। जब भी शिकायतें होती हैं तो पानी बंद करवा दिया जाता है या सैंपलिंग लेकर इतिश्री कर ली जाती है। सालों से नागधम्मन नदी में दूषित पानी मिलने से जमीन में भी उतरने लगा है, जिससे जमीन का जल भंडार ग्रह भी प्रदूषित होने लगा है।

समाजसेवी बाबूलाल भाट ने बताया अमोना की कंपनियों से केमिकलयुक्त पानी निकलता है, जो नागधम्मन नदी में मिलता है। नागधम्मन नदी अमोना, संजयनगर, शांतिनगर, राजीव नगर, बिंजाना, सुतारखेड़ा, गदईशा पीपल्या हवन खेड़ी सहित कई गांवों से होकर शिप्रा नदी में मिल रही है। नागधम्मन नदी में केमिकलयुक्त पानी मिलने से इन गांवों के लोग और मवेशी बीमारी के शिकार हो रहे हैं।

पर्यावरण मंत्री वर्मा भी उठा चुके हैं नागधम्मन में प्रदूषण का मुद्दा : औद्योगिक इकाइयों द्वारा आधी रात को नालों और पाइप लाइन के माध्यम से दूषित पानी नागधम्मन नदी में छोड़ा जा रहा है, जिससे प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड भी जानबूझकर अनजान बन रहा है। इंदौर तरफ से आते हैं तो रसूलपुर बायपास चौराहे से रात 10 बजे से तेज गंध आना शुरू हो जाती है, जिससे पता चल जाता, देवास आ गया है। हाल ही में लोनिवि व पर्यावरण मंत्री सज्जनसिंह वर्मा ने भी नागधम्मन नदी में गंदा पानी मिलने का मामला उठाया था। भोपाल की टीम ने मुआयना कर कार्रवाई के लिए वरिष्ठ अधिकारियों को प्रस्ताव भेजा था। बावजूद भी प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने अभी तक इस तरफ सख्त कार्रवाई नहीं की है।


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना