बेवजह बाहर निकलने की जिद: मुसीबत न बन जाए

Bhind News - गोहद/ मेहगांव/ लहार/ आलमपुर|जिले के नगर और कस्बों में गुरुवार को लॉकडाउन के नियमों की लोगों ने जमकर अव्हेलना की।...

Mar 27, 2020, 07:06 AM IST
गोहद/ मेहगांव/ लहार/ आलमपुर|जिले के नगर और कस्बों में गुरुवार को लॉकडाउन के नियमों की लोगों ने जमकर अव्हेलना की। मेहगांव में नियम के विरुद्ध व्यापारियों ने सुबह ही दुकानें खोल लीं। हाट बाजार से लेकर सब्जीमंडी तक खरीदारों की आमदिनों की तरह भीड़ रही। फिर प्रशासन ने सख्ती दिखाई तब 2 घंटे बाद स्थिति नियंत्रण में पहुंची। अमूमन इस तरह का हाल कुछ ग्रामीण इलाकों में भी देखा गया। जिला प्रशासन ने सभी के लिए निर्देश जारी कर लॉकडाउन के नियमों का कड़ाई से पालन करने की हिदायत दी है। मगर मेहगांव में व्यापारियों ने सुबह 8 बजे से ही दुकानें खोल लीं। सब्जी मंडी में बिना रोकटोक के फड़ व सब्जी की दुकानें खुल गईं। यहां ऐसा लग ही नहीं रहा था कि देश कोरोना जैसे भयंकर संकट से जूझ रहा है। मौके पर पहुंचे पुलिसबल ने भीड़ को खदेड़कर दुकानें बंद कराईं।

भारौली के सरकारी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में लगातार स्टाफ की लापरवाही सामने आ रही है। कोरोना वायरस से भयभीत बाहर से आने वाले लोग अस्पताल में जांच के लिए पहुंच रहे हैं लेकिन वहां डॉक्टर सहित पूरा स्टाफ नदारद मिलता है। दूसरे दिन गुरुवार को भी इंदौर, भोपाल, दिल्ली, अहमदाबाद आदि शहरों से आए 12 से 15 लोग संक्रमण की जांच कराने पहुंचे थे। दोपहर 12 बजे के बाद डॉ कुलदीप दीक्षित पहुंचे तब तक सुबह 9 बजे से इंतजार कर रहे लोग घर चले गए। यहां बता दें कि आसपास के गांवों में लोग बाहर से चोरी छुपे पहुंच रहे हैं। जिनमें कुछ लोग अपनी इच्छा से जांच कराने अस्पताल पहुंच जाते हैं ऐसे लोगों के लिए विभाग ने जांच की सुविधा नहीं की है ।

जिले के अधिकांश गांवों में बाहर से आने वाले लोगों का प्रवेश नहीं थम रहा है। रोजगार की तलाश में बाहर गए लोग निजी वाहन, ट्रक, मालगाड़ी, लोडिंग वाहनों में सफर करके घर पहुंच रहे हैं। स्थिति यहां तक बिगड़ चुकी है कि लोगों को साधन नहीं मिल रहे हैं तो वह तीन से चार दिन दूर प्रदेशों से पैदल चलकर घर जा रहे हैं। प्रशासन द्वारा उन्हें यह समझाना होगा कि बाहर रहने वाले लोग वहीं रहें। अगर वह अपने घर जाते हैं तो वह लोगों के लिए खतरनाक हो सकते हैं। अटेर के प्रतापपुरा, भारौली कला, खुर्द, अकोड़ा, ऊमरी, ढोंचरा, गोरमी, गोहद, अमायन, सुरपुरा, फूप आदि गांवों में लोगों का बाहर से आवागमन आज भी जारी है। जिन्हें प्रशासन चिह्नित कर जांच की उचित व्यवस्था करे।

घर में रहकर महामारी पर विजय प्राप्त करेंः जाटव

गोहद| गोहद के पूर्व विधायक रणवीर जाटव ने आमजन से कहा है कि विश्व में फैली कोरोना संक्रमण की महामारी से विजय प्राप्त करने के लिए हम अपने घर के अंदर ही रहें। जितनी अधिक सावधानी बरतेंगे उतना ही हम अपने परिवार और समाज का सुरक्षित कर पाएंगे। गांवों में लोग इस वायरस को गंभीरता से लें। कोई भी व्यक्ति अपने घर से बेवजह न निकले। सहयोग से आप और हम इस महामारी से विजय प्राप्त कर सकते हैं।

बाहर से आए लोगों को दी हिदायत... जांच कराएं

शव यात्रा में मास्क लगाकर किया सभी को जागरूक

सब्जी-फल खरीदना हमारी आवश्यकता, लेकिन संक्रमण से बचने दूरी है जरूरी

अस्पताल में बाहर से अाए लोगों की नहीं हुई जांच

इधर... इस तरह घरों में टाइम पास कर रहे लोग

आलमपुर के बाजार में बंद रहीं दुकानें

इनसे सीखें सोशल डिस्टेंस है जरूरी... घबराना नहीं है, डटकर करना है सामना

गांवों में लापरवाही... दुकानों पर उमड़ी भीड़

राहत...थाना परिसर में मजदूर परिवारों को मिला आसरा


_photocaption_इधर... बाजार रहे बंद, सड़कों पर दिखा सन्नाटा*photocaption*

मेहगांव|हाट बाजार में सब्जी और फल खरीदने के िलए लोगों की भीड़ उमड़ पड़ी इस दौरान लोगों ने सोशल डिस्टेंस का भी ध्यान नहीं रखा, कोराेना के संक्रमण से बचने के िलए व्यक्ति को व्यक्ति से कम से कम तीन फीट की दूरी जरूरी है, लेकिन गुरुवार को हाट बाजार में ऐसा दिखाई नहीं दिया। बाद में मजबूरन पुिलस को दुकानें बंद करानी पड़ीं।

स्वास्थ्य कर्मी फील्ड में हैं


गोहद| नियमों का गंभीरता से पालन करने के लिए ज्यादातर लोग खुद ही एहतियात बरत रहे हैं। गोहद सदर बाजार में रहवासी घरों के बाहर नहीं निकल रहे हैं। समय व्यतीत करने के लिए तरह तरह के मनोरंजन के साधन तलाश लेते हैं। इधर अकोड़ा में पुलिस बल के साथ स्वास्थ्य कर्मचारी गांव में पहुंचे और लोगों को इस भयंकर बीमारी के संक्रमण से बचने के लिए सचेत किया। गांव में कुछ बाहर के लोग भी आए हैं जिन्हें चेकअप कराने की सलाह दी जा रही है। अगर कोई व्यक्ति बिना जांच के घर में रहता है तो संबंधित के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

लाॅकडाउन के चलते आमलपुर का बाजार रहा बंद।

लहार में लॉकडाउन के चलते गुरुवार को सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा।

ऊमरी| सरकारी अस्पताल में सुरक्षा के लिहाज से एक-एक मीटर की दूरी पर गोल घेरा बनाए गए हैं। इन घेरों में सोशल डिस्टेंस बनाकर ही लोगों ने उपचार लिया। वहीं गोरमी की सड़कों पर भी सुबह चहलपहल रही। व्यापारियों ने दुकानें खोलकर सामान दिया। दबोह में आवारा सुअरों से जूझ रहे लोगों की शिकायत पर गुरुवार को प्रशासन ने धरपकड़ अभियान चलाया। बाद में पुलिस की कड़ाई के बाद लोग घरों में कैद हुए। बंद के दौरान आलमपुर, लहार, दबोह, फूप, अटेर, सुरपुरा, रौन, मिहोना, अमायन आदि इलाकों के बाजारों में सन्नाटा पसरा रहा।

भारौलीकलां|गांवों में लोग अभी भी लॉकडाउन के नियमों को पूरी तरह से नहीं मान रहे हैं। व्यापारी सुबह से दुकान खोलकर बैठ जाते हैं तो बाहर से आने वाले लोगों का चिकित्सकीय परीक्षण कराने की सुविधा नहीं है। प्रतापपुरा में आधा दर्जन लोग बाहर से आए हैं जिसकी सूचना अटेर बीएमओ डॉ जेएस यादव और सरपंच को दी है। मगर जांच के लिए प्रभावी इंतजाम नहीं किए जा रहे हैं। इधर भारौलीकला में दुकान पर भीड़ देखी गई। इस तरह की लापरवाहियां अमूमन हर गांव से आ रही हैं।


गोहद| बाहर से रोजी रोटी की तलाश में गोहद में आए मजदूर परिवारों को थाना परिसर में आसरा दिया है। यह मजदूर आसपास के गांवों में किसानों के यहां फसल काटकर मजदूरी प्राप्त करते हैं। लेकिन पुलिस की सख्ती के कारण 15 परिवार के करीब 100 लोग भयभीत हैं। गुरुवार को थाना प्रभारी ने सभी को थाने में रहने की इजाजत दे दी है। जिनके खाने पीने का इंतजाम नगर के समाजसेवियों द्वारा किया जाएगा। बंद खुलते ही यह मजदूरी के लिए गांवों में पहुंच पाएंगे।


गोहद| शव यात्रा में मास्क लगाकर चले। इसके साथ ही लोग जागरूकता का परिचय भी दे रहे हैं। गोहद के वार्ड एक पुराना घनश्याम पुरा में नपा के सफाई दरोगा हरिओम की ताई रामदेवी का 95 की उम्र में सुबह निधन हो गया। परिजन ने इस संकट की घड़ी में भी पूरी ऐहतियात बरती और शव यात्रा में कंधा देने वालों के साथ घर के चंद लोग ही शामिल हुए। सभी लोग अपने मुंह पर अच्छी तरह से मास्क लगाकर श्मशान घाट तक पहुंचे। यह संदेश है उन लोगों काे जो कोरोना जैसी महामारी को गंभीरता से नहीं ले रहे हैं।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना