• Hindi News
  • Mp
  • Mandsour
  • Mandsour News mp news negligence no bleaching near napa spraying of pharmaceutical solution

लापरवाही... नपा के पास ब्लीचिंग नहीं, दवाइयों का घोल बना किया छिड़काव

Mandsour News - चिकित्सकों ने शुरू की जांच, सातों के सैंपल भाेपाल लैब भेजे जिले के ग्राम कुचड़ौद व डासिया में गुरुवार को पांच...

Mar 27, 2020, 07:56 AM IST

चिकित्सकों ने शुरू की जांच, सातों के सैंपल भाेपाल लैब भेजे

जिले के ग्राम कुचड़ौद व डासिया में गुरुवार को पांच काेराेना संदिग्ध मरीज मिले। ये पांचाें लाेग भीलवाड़ा की कपड़ा फैक्टरी में काम करते थे। वहां हालात बिगड़ने व फैक्टरी बंद होने पर ये गांव लाैटे। इन्हें सर्दी-खांसी की शिकायत हाेने पर पंचायत काे सूचना दी। पंचायत ने धुंधड़का स्वास्थ्य केंद्र पर जानकारी दी। वहां से एंबुलेंस व टीम पहुंची। पांचाें मरीज के साथ दाे बच्चाें काे जिला मुख्यालय पर बनाए काेराेना सेंटर भेजे। जहां डॉक्टरों ने इनकी जांच कर आइसोलेट किया। सैंपल लेकर जांच के लिए भाेपाल लैब भेजे। पांच संदिग्ध मरीज मिलने से जिला प्रशासन की चिंता बढ़ गई है।

गुरुवार को दोपहर बाद एक साथ पांच संदिग्ध मरीज मिले हैं। इनमें कुचड़ौद निवासी दंपती भीलवाड़ा की कपड़ा फैक्टरी में काम करते है। दंपती 18 मार्च काे गांव पहुंचे। डासिया निवासी तीन लाेग 21 मार्च काे भीलवाड़ा से गांव पहुंचे। पांचाें लाेगाें काे सर्दी-खांसी हाेने पर पंचायत काे सूचना दी। पंचायत ने धुंधड़का स्वास्थ्य केंद्र पर जानकारी पहुंचाई। मोबाइल यूनिट व एंबुलेंस दोनों गांव में पहुंची। मरीजों की जांच की। टीम ने इनके भीलवाड़ा से आने तथा कोरोना वायरस के लक्षण को देखते हुए इन्हें संदिग्ध माना और एंबुलेंस से जिला मुख्यालय स्थित कोरोना सेंटर पहुंचाया।

घर पर घोल तैयार कर छिड़काव कर सकते हैं


डॉ. हिमांशु यजुर्वेदी ने कहा कि आम आदमी घर में इसका घोल तैयार कर सकता है। इसके लिए साफ एक लीटर पानी में 34 ग्राम ब्लीचिंग पॉवडर को लकड़ी या चम्मच की मदद से घोल ले। हाथ नहीं लगाना है। तैयार हो जाए तो आधे घंटे उसे रख दे। इसके बाद उसमें शामिल भारी पदार्थ तले में बैठ जाएंगे। दुधिया पानी आपका तैयार हो जाएगा। इसका छिड़काव हर चार घंटे में पंप या अन्य साधन से करते रहे।


कलेक्टर ने कोरोना कंट्रोल रूम का निरीक्षण कर देखी व्यवस्था, 81 शिकायत का निराकरण

कलेक्टर मनोज पुष्प ने डाइट परिसर में बनाए जिलास्तरीय कंट्रोल रुम का निरीक्षण किया। यहां अब तक 81 शिकायतें प्राप्त हुई। 6 शिकायतें वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से प्राप्त हुई। जिनका समाधान भी वीसी से किया। 44 शिकायतें के लिए एमएमयूटी टीम मौके पर भेजे अाैर शिकायत का निराकरण करवाया। शेष 31 शिकायतें जो सामान्य थी। इसके तहत कर्फ्यू, लाॅकडाउन, सब्जी मंडी, दुकानें, मास्क, सैनिटाइजर आदि की जानकारियां लोगों के द्वारा मांगी गई। सीएम हेल्पलाइन 181 एवं 104 नंबर पर 12 शिकायतें प्राप्त हुई। कंट्रोल रूम के नोडल अधिकारी व जिपं सीईओ ऋषभ गुप्ता माैजूद थे।

चिंता... भीलवाड़ा से गांव आए 5 संदिग्ध मरीज और दो बच्चे कोरोना सेंटर पहुंचाए

भास्कर संवाददाता | मंदसौर

कोरोना के खतरे को देखते हुए ही प्रशासन ने सभी नगर पंचायतों को ब्लीचिंग पॉवडर का छिड़काव के आदेश दिए। लेकिन मंदसौर नगर पालिका ने कोई प्रयास शुरू नहीं किए। कलेक्टर ने बुधवार सुबह वापस आदेश जारी किए तो नपा ने दिखावे के लिए डीडीटी, फिनाइल, मलेरिया की दवाई का घोल तैयार कर छिड़काव शुरू कर दिया। नपा के पास ब्लीचिंग स्टॉक नहीं है। विशेषज्ञों की माने तो इस छिड़काव से कुछ नहीं होगा। कोरोना की गाइडलाइन में ब्लीचिंग पॉवडर ही कारगर साबित है। नपा जिम्मेदार ब्लीचिंग मंगाने की बात कह रहे।

कोरोना वायरस के दस्तक देखते ही प्रशासन ने जनता कर्फ्यू से पहले नगर परिषदों व पंचायतों को ब्लीचिंग पाॅवडर का घोल तैयार कर गांवों व शहर में छिड़काव के निर्देश दिए थे। अंचल में पंचायतों ने पांच सात दिन पहले से छिड़काव शुरू कर दिया। लेकिन शहर में नगर पालिका ने मंगलवार तक छिड़काव शुरू नहीं किया। बुधवार सुबह कलेक्टर ने सभी सीएमओ को साफ सफाई व ब्लीचिंग पॉवडर का छिड़काव करने के सख्त आदेश जारी किए। कलेक्टर ने आदेश तो कर दिए लेकिन नपा के पास ब्लीचिंग पॉवडर ही उपलब्ध नहीं था। अब जिम्मेदार करें तो क्या करें। नपा ने जनता व प्रशासन को बेवकुफ बनाने के लिए डीडीटी पॉवडर, मलेरिया की दवाई व अन्य केमिकल मिला कर छिड़काव शुरू कर दिया। इससे कोरोना वायरस पर कोई असर नहीं होगा। विशेषज्ञ डॉ. हिमांशु यजुर्वेदी ने बताया कि मलेरिया व डीडीटी का कनटेंन अलग है। वह मच्छरों के लार्वा को खत्म करने व डीडीटी अन्य कीटाणु को खत्म करने का काम करता है। कोरोना की रोकथाम के लिए ब्लीचिंग पॉवडर ही कारगर है। कोरोना पर रिसर्च के बाद इसकी गाइडलाइन में ब्लीचिंग का छिड़काव करने के निर्देश दिए। ब्लीचिंग का घोल तैयार कर छिड़काव करने से चार घंटे तक आपका सरफेस क्लीन रहता है।

सेंटर से एंबुलेंस बाहर नहीं जाएगी: सीएमएचओ डॉ. मिश्रा ने बताया कि कोरोना को देखते हुए संदिग्ध या संक्रमित को एम्बुलेंस से जिला अस्पताल से कोरेंटाइन सेंटर पर छोड़ेंगे। आधा घंटा एंबुलेंस सेंटर पर ही रुकेगी। डॉक्टर के परामर्श के अनुसार आवश्यकता होने पर मरीज को वापस छोड़ने जाएगी। मरीज गंभीर हुआ तो जिले से बाहर भी लेकर जाएगी।**

आप भी बात सकते हैं समस्या

जिला स्तरीय कोरोना कंट्रोल रूम पर प्रशासन ने लोगों की सुविधा के लिए न. 07422-255596, 255203, 255033, वाट्सएप नंबर 918889788304 जारी किया है। इस पर भी आप शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

स्वास्थ्य परीक्षण किया

कोरोना कंट्रोल रूम पर कर्मचारी ड्यूटी कर रहे हैं। इनका एमएमयूटी टीम ने स्वास्थ्य परीक्षण किया। कलेक्टर के द्वारा सभी कर्मचारियों को मास्क व सैनिटाइजर का उपयाेग करने की समझाइश दी।

जांच रिपोर्ट आने तक कुछ नहीं कह सकते

कोरोना सेंटर के इंचार्ज डॉ. डीके शर्मा व निशांत शर्मा ने पांचों मरीज व दो बच्चों की जांच कर आइसोलेट किया। सैंपल लेकर जांच के लिए भोपाल भेजे हैं। रिपोर्ट आने तक इनका इलाज सेंटर पर चलेगा। जांच रिपोर्ट आने के बाद ही मरीजों के निगेटिव या पॉजिटिव होने की पुष्टि होगी।

एक-दो दिन में आ जाएगा ब्लीचिंग पॉवडर......
{मंदसौर नपा के अधिकारियों ने कलेक्टर के आदेश को भी गंभीरता से नहीं लिया

{सर्दी-खांसी की शिकायत होने पर धुंधड़का स्वास्थ्य केंद्र की टीम ने जांच कर संदिग्ध माना

{कुचड़ौद के दंपती व डासिया गांव के तीन लोग भीलवाड़ा फैक्टरी में कर रहे थे काम

आदेश के चार दिन बाद दिखावा कर रही नगर पालिका

नयापुरा क्षेत्र मंे मशीन से दवा को छिड़काव करते नपा कर्मचारी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना