इस साल एक भी इंजीनियरिंग और लॉ कॉलेज नहीं खुलेगा, नई ब्रांच को भी अनुमति मुश्किल

News - इंदौर सहित प्रदेशभर में कोई भी नया लॉ और इंजीनियरिंग कॉलेज नहीं खुल पाएगा। इस बार 2020-21 सत्र में इंदौर में किसी भी...

Feb 15, 2020, 07:41 AM IST

इंदौर सहित प्रदेशभर में कोई भी नया लॉ और इंजीनियरिंग कॉलेज नहीं खुल पाएगा। इस बार 2020-21 सत्र में इंदौर में किसी भी नए लॉ कॉलेज को अनुमति नहीं मिलेगी। बार काउंसिल ऑफ इंडिया पहले ही स्थिति स्पष्ट कर चुका है। ठीक उलट 13 में से 3 कॉलेजों की मान्यता पर ही संकट है। बीसीआई ने सुविधाओं की कमी, क्वालिटी फैकल्टी नहीं होने सहित अन्य तकनीकी कारणों के चलते या तो ज्यादातर लॉ कॉलेजों की मान्यता रोक दी है या फिर सख्त चेतावनी दी है। इंजीनियरिंग कॉलेजों के पास भी इस बार नई मान्यता का विकल्प नहीं है। न ही पुराने कॉलेजों को नई ब्रांच मिलेगी। यहां भी ज्यादातर कॉलेजों के पास फैकल्टी की कमी और रिसर्च के लिए आधुनिक लैब न होना भी इसका बड़ा कारण माना जा रहा है। प्रदेश में बेहतर माने जाने वाले एसजीएसआईटीएस (गोविंदराम सेकसरिया इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस) में ही टीचिंग स्टाफ के वेतनमान का मुद्दा चल रहा है, जबकि देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी के इंजीनियिरंग संस्थान आईईटी (इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी) में ही 2 हजार छात्रों पर कम से कम 90 के आसपास फैकल्टी चाहिए, लेकिन नियमित फैकल्टी 50 भी नहीं है। ऐसे में नई ब्रांच तो दूर जो ब्रांच चल रही हैं, उनमें गुणवत्ता की पढ़ाई ही मुश्किल हो रही है।

इंदौर में लगातार घट रहे हैं ये कॉलेज

इंदौर में इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट कॉलेजों की संख्या लगातार घट रही है। पांच साल में इंजीनियरिंग कॉलेज 54 से 39 हो गए, जबकि इतने ही समय में लॉ कॉलेज भी 16 से 13 रह गए। यही नहीं दोनों ही कॉलेजों में फैकल्टी की कमी सबसे बड़ा मुद्दा है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना