• Hindi News
  • Mp
  • Indore
  • News
  • Indore News mp news now handle it otherwise if 100 patients reach at the same time then they will not be able to give ventilator to 50

अभी संभालिए... नहीं तो आगे एक साथ 100 मरीज ही पहुंच गए तो 50 को वेंटिलेटर नहीं दे पाएंगे

News - 4182 बेड की व्यवस्था बड़े अस्पतालों में| स्वास्थ्य विभाग के चिह्नित अस्पतालों में कुल 4182 बेड हैं। वेंटिलेटर की...

Mar 27, 2020, 07:35 AM IST
4182 बेड की व्यवस्था बड़े अस्पतालों में| स्वास्थ्य विभाग के चिह्नित अस्पतालों में कुल 4182 बेड हैं। वेंटिलेटर की संख्या 150 है। इन अस्पतालों ने कोरोना वायरस आइसोलेशन वार्ड के लिए कुल 90 बेड आरक्षित किए हैं। वहीं 40 वेंटिलेटर आरक्षित हैं।

वेंटिलेटर इसलिए बहुत जरूरी|कोरोना का संक्रमण एक तरह का निमोनिया है। यह फेफड़े पर अटैक करता है। इससे मरीज खुद सांस नहीं ले पाता है। ऐसे में उसे वेंटिलेटर की जरूरत पड़ती है।

18 में बॉम्बे हॉस्पिटल, सीएचएल, अपोलो|बॉम्बे हॉस्पिटल, सीएचएल, अपोलो हॉस्पिटल, सिनर्जी, मेदांता, भंडारी हॉस्पिटल, एपल हॉस्पिटल, मेदांता हॉस्पिटल, चोइथराम हॉस्पिटल, मयूर हॉस्पिटल, सुयश हॉस्पिटल, इंडेक्स, लाइफ केयर हॉस्पिटल, अरिहंत हॉस्पिटल, सीएनजी हॉस्पिटल, विशेष हॉस्पिटल, ग्रेटेर कैलाश हॉस्पिटल और अरबिंदो इंस्टिट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस को फिलहाल चिह्नित किया है।

साढ़े छह सौ आइसोलेशन बेड हैं हमारे पास


530 बेड के 4 सरकारी आइसोलेशन वार्ड (35 बेड एमआर टीबी अस्पताल, 10 बेड हुकुमचंद पॉलीक्लिनिक, 35 बेड ट्रेनिंग सेंटर, 450 बेड एमटीएच)

130 बेड की क्षमता का क्वॉरेंटाइन वार्ड, 90 बेड शहर के 18 चिह्नित निजी अस्पतालों के पास

40 वेंटिलेटर निजी, 10 सरकारी आइसोलेशन में

शुक्र है कोरोना संक्रमण की स्टेज-2 में ही हम लोग काफी संभल गए थे, क्योंकि 25 लाख की आबादी वाले शहर में स्टेज-3 में कोरोना के उपचार के लिए फिलहाल तो हमारे पास पर्याप्त संसाधन ही नहीं हैं। हालत ऐसी है कि यदि एक साथ सौ मरीजों का इलाज ही करना पड़ जाए तो हम 50 मरीजों को ही वेंटिलेटर सपोर्ट
दे पाएंगे।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना