• Hindi News
  • Mp
  • Sehore
  • Sehore News mp news people are not agreeing so now the police will install napa amla and traders in the vegetable market

लोग नहीं मान रहे इसलिए अब सब्जी मंडी में पुलिस नपा अमला और व्यापारी बनवाएंगे सोशल डिस्टेंस

Sehore News - पिछले चार दिनों से जिला लॉकडाउन है। मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पूरी तरह से लाॅकडाउन की घोषणा के बाद...

Mar 27, 2020, 08:35 AM IST
Sehore News - mp news people are not agreeing so now the police will install napa amla and traders in the vegetable market

पिछले चार दिनों से जिला लॉकडाउन है। मंगलवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पूरी तरह से लाॅकडाउन की घोषणा के बाद प्रशासन ने सख्ती दिखाई तो अब जनता को भी समझ में आ गया कि घर ही सबसे सुरक्षित जगह है। घर में रहकर ही कोरोना से बचा जा सकता है। लगातार चौथे दिन गुरुवार को रोज की अपेक्षा कम लोग ही सड़कों पर निकले। जो लोग सड़कों पर आए वे भी जरूरी काम के लिए लेकिन सुबह के समय सब्जी मंडी में स्थिति ठीक नहीं रही। यहां गांव से सब्जी बेचने के लिए आने वाले किसानों के साथ-साथ थोक व्यापारी, फुटकर व्यापारी तो पहुंचते ही हैं साथ ही शहरवासी भी सुबह के समय सब्जी खरीदने के लिए सब्जी मंडी पहुंच जाते हैं। ऐसे में सोशल डिस्टेंस मेंटेन नहीं हो पाती। गुरुवार को प्रशासनिक अमले ने बैठक आयोजित करके इस मामले पर चर्चा की और शुक्रवार से सुबह 7 से 10 बजे तक सब्जी मंडी में आने वाले लोगों में सोशल डिस्टेंस बनाने के लिए जिम्मेदारी बांटी। एडि. एसपी समीर यादव ने बताया कि सुबह के समय सब्जी मंडी में जो भीड़ लगती है उसे खत्म करने के लिए पुलिस अमले के साथ नपा का अमला और सब्जी के थोक व्यापारी स्वयं वहां खड़े होकर प्रतिनिधि यह सोशल डिस्टेंस बनवाएंगे। ताकि यहां लोगों में कोरोना के संक्रमण का खतरा न हो। यही व्यवस्था जिला मुख्यालय के साथ-साथ आष्टा एवं अन्य शहरों की सब्जी मंडी में भी रहेगी।

सख्ती के बीच राहत भी

ये दुकानें खुलेंगी : राशन, फल, सब्जी, किराना, दवा, फार्मास्यूटिकल, दूध डेयरी, मिल्क पार्लर, बैंक, एटीएम, पेट्रोल पंप, गैस एजेंसी, बिजली, पानी सप्लाई वाले संस्थान

होम डिलीवरी पर छूट : प्रशासन ऐसे कारोबारियों को भी छूट देगा जो घर-घर पहुंचकर खाना, राशन, दूध आदि की होम डिलीवरी देना चाहते हैं। ऐसा बाजारों में भीड़ को रोकने के लिए किया जा रहा है। यह छूट 24 घंटे के लिए होगी।

सवारी वाहनों पर रोक : पहले की तरह इस बार भी सवारी वाहनों पर रोक बनी हुई है। सिर्फ जरूरी सामान लेकर शहर में आने वाले माल वाहनों के प्रवेश पर छूट दी गई है।

नहीं होंगे बड़े कार्यक्रम : बड़े सामाजिक, राजनीतिक, धार्मिक कार्यक्रम नहीं होंगे। शवयात्रा को छूट रहेगी पर इसमें शामिल लोग की संख्या 20 ही होना चाहिए। धार्मिक स्थल बंद रहेंगे, इनमें प्रवेश वर्जित रहेगा।

ये दफ्तर अब भी बंद : केंद्र, राज्य, निगम व प्राइवेट सेक्टर के सभी दफ्तर, औद्योगिक क्षेत्र व बाजारों में सभी संस्थान बंद रहेंगे। कुछ संस्थानों को आवश्यक मानकर खोलने की छूट बनी हुई है। इनमें भी कम से कम कर्मचारी ही काम करेंगे।

समझदारी... गांवों में भी जागरुकता, खुद रास्ते बंद करके कर रहे हैं पहरेदारी


समझाया भी और उठक-बैठक लगवाकर लॉकडाउन का मतलब भी बताया

शहर में अनावश्यक घूमने वालों से पुलिस ने उठक-बैठक लगवाई।

पुलिसकर्मी लोगों को हाथ जोड़कर घर से बाहर घूमने से मना करते हुए।

कालापीपल | कोरोना वायरस से बचाव के प्रति ग्रामीण भी अब जागरूक होने लगे हैं। गांव इमली खेड़ा और पंच देहरिया के ग्रामीणों ने सुरक्षा को देखते हुए लॉकडाउन कर दिया है। ग्राम इमलीखेड़ा के सरपंच जगदीश परमार ने बताया कि इस महामारी से ग्रामीणों की सुरक्षा के लिए युवाओं ने गांव में आने वाली सड़कों पर नाकाबंदी कर दूसरे गांव की आवाजाही रोक लगा दी है। गांव का व्यक्ति सिर्फ इमरजेंसी की स्थिति में गांव से बाहर जा सकेगा और गांव में बाहरी व्यक्ति का प्रवेश निषेध रहेगा। पंच देहरिया के युवाओं ने गांव में बाहरी व्यक्ति के प्रवेश पर पाबंदी लगा दी है।


सावधानी: इमलीखेड़ा और पंच देहरिया के ग्रामीणों ने गांव की सीमा पर की नाकाबंदी, दूसरे गांवों के लोगों के लिए नो एंट्री


कार्रवाई: जबरन दुकान खोली तो पुलिस ने जेल भेजा

लॉकडाउन के दौरान आदेश का उल्लंघन करने पर पुलिस लोगों के खिलाफ कार्रवाई भी कर रही है। मेहतवाड़ा निवासी विवेक पुत्र ओमप्रकाश राठौर ने बुधवार को अपनी स्टेशनरी की दुकान खोल ली। पुलिस ने जिला दंडाधिकारी के आदेश के उल्लंघन के तहत कार्रवाई करते हुए विवेक को जेल भेज दिया। इसी तरह मंडी थाना क्षेत्र में भी माता मंदिर चौराहा पर अनावश्यक घूमते हुए राहुल पुत्र सोहन राठौर तथा बहादुर पुत्र कैलाश मालवीय के खिलाफ कार्रवाई करते हुए जेल भेज दिया।

मुनाफाखोरी रुकेगी: मास्क की कमी पूरी करने समूह की महिलाओं ने संभाला मोर्चा

कोरोना वायरस के संक्रमण से समाज को बचाने के लिए आजीविका मिशन द्वारा संचालित स्वयं सहायता समूह की महिलाओं ने मास्क बनाकर बेचने का काम शुरु कर दिया है। ताकि शहर में मास्क की कमी न हो और लोगों को उचित दामों में मास्क मिल सकें। आजीविका मिशन द्वारा संचालित आदर्श संकुल स्तरीय संघ आष्टा अध्यक्ष सुनीता मालवीय ने बताया कि गांव बापचा दोनिया, बमुलिया भाटी, मुगली व बफापुर में समूह की महिलाओं द्वारा अपने अपने घरों पर मास्क तैयार किये जा रहे हैं। अभी तक अलग-अलग विभागों की मांग पर उनके द्वारा 4500 मास्क की पूर्ति की जा चुकी है। समूह की 10 से 12 महिलाएं लगातार मास्क बनाने का काम कर रही हैं।

Sehore News - mp news people are not agreeing so now the police will install napa amla and traders in the vegetable market
Sehore News - mp news people are not agreeing so now the police will install napa amla and traders in the vegetable market
X
Sehore News - mp news people are not agreeing so now the police will install napa amla and traders in the vegetable market
Sehore News - mp news people are not agreeing so now the police will install napa amla and traders in the vegetable market
Sehore News - mp news people are not agreeing so now the police will install napa amla and traders in the vegetable market

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना