पुलिस ने मेडिकल व्यवसायी व पोस्टमास्टर को पीटा

News - कोरोना वायरस अलर्ट के बीच खंडवा में भी पुलिस द्वारा अत्यावश्यक सेवाएं देने वालों को पीटने के मामले सामने अाए...

Mar 27, 2020, 07:47 AM IST

कोरोना वायरस अलर्ट के बीच खंडवा में भी पुलिस द्वारा अत्यावश्यक सेवाएं देने वालों को पीटने के मामले सामने अाए हैं। खंडवा शहर में मेडिकल व्यवसायी को पीटा तो दूसरे को पुलिस ने थाने में बैठाए रखा। इसी तरह सिर्रा गांव में भी पोस्टमास्टर की पिटाई की। मेडिकल व्यवसायी की पिटाई पर जिला केमिस्ट एसोसिएशन अध्यक्ष ने कहा ऐसा ही हुआ तो हम भी दवा दुकानें बंद कर घर बैठ जाएंगे।

जानकारी के मुताबिक गुरुवार दोपहर 1 बजे नवकार नगर में दवा दुकान चलाने वाले सुनील दुलानी को पुलिस के जवानों ने पदमनगर थाने के पास डंडाें से पीटा। जांच के लिए रोके जाने पर दुलानी ने पुलिस के जवानों और अधिकारियों को दुलानी ने केमिस्ट एसोसिएशन से जारी परिचय पत्र और अपने दुकान की एनओसी दिखाई, फिर भी पिटाई की। दुलानी ने बताया मेरी दुकान पर एक मरीज आया जिसकी दवा मेरे पास नहीं थी तो मैं खुद होलसेल से लेने के लिए नवकार नगर से मेडिकल चौराहा आया। जांच के लिए रोके जाने पर जब मैने जवानों को अपने मेडिकल एसोसिएशन के कागज दिखाए तो वे बोले क्या राष्ट्रपति ने जारी किया है जो तुम घूमने निकले हो। दोनों ही मामलों की जानकारी के बाद जिला केमिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष केके गुप्ता ने एसपी डॉ.शिवदयाल सिंह को फोन पर अवगत कराया। गुप्ता ने कहा दवा व्यवसायियों और कर्मचारियों को पुलिस जांच के नाम पर पीट रही है। हम जिला प्रशासन के कहने पर ही दवा की दुकानों को खोलकर जनसेवा कर रहे हैं। यदि ऐसा ही चलता रहा तो हम लोग भी अपनी दवा की दुकान बंद कर घर पर ही रहेंगे। पुलिस की मार खाने के लिए हम जनसेवा करने नहीं आए हैं। इसी तरह दाेपहर 12.30 बजे अांबेडकर चौक पर मेडिकल दुकान चलाने वाले जितेंद्र मागरे को मोघट थाना के पास पुलिस के जवानों ने रोका। मागरे ने थाने में मेडिकल एसोसिएशन का कार्ड और अन्य कागज दिखाए, लेकिन उसे मानने की बजाय टीआई ने उन्हें थाने में बैठा दिया। मागरे को गुप्ता ने मोघट थाने जाकर छुड़वाया।

जिले सहित शहर में 150 दवा की फुटकर दुकानें, 400 कर्मचारी करते हैं काम - जिले सहित शहर में दवा की 150 से ज्यादा फुटकर दुकानें हैं। यहां 400 से ज्यादा कर्मचारी काम करने के लिए आते हैं। ऐसे ही 50 होलसेल की दुकानों पर भी 200 से ज्यादा कर्मचारी काम करते हैं। पुलिस की जांच के दौरान दवा दुकानों पर काम करने वाले कर्मचारी भी मारपीट के शिकार हुए।

पोस्टमास्टर ने कहा- एसआई ने मुझे पाइप से पीटा

सिर्रा पोस्ट ऑफिस में पोस्टमास्टर के पद पर पदस्थ श्रीकांत दीक्षित को छैगांवमाखन थाने में पदस्थ एसआई ने पाइप से पीटा। थाना छैगांवमाखन में दीक्षित ने इस बात की लिखित शिकायत में कहा कि लेखा कार्यालय छैगांवमाखन में आवश्यक कार्य से आना पड़ा। पास दिखाने के बाद एसआई पाटीदार द्वारा पाइप से मारा गया, जबकि पोस्ट ऑफिस विभाग को आवश्यक कार्य की श्रेणी में रखा गया है। हम लोग कर्फ्यू पास बनवाने के लिए कार्यालय आए थे।

पदमनगर थाने के पास पुलिस की पिटाई से बना निशान जिला केमिस्ट एसोसिएशन के अध्यक्ष केके गुप्ता को दिखाते मेडिकल व्यवसायी सुनील दुलानी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना