• Hindi News
  • Mp
  • Ujjain
  • Ujjain News mp news shipra and gambhir dame39s water color yellow treatment done by soil for the first time

शिप्रा और गंभीर डेम के पानी का रंग पीला, पहली बार मिट्टी डालकर कर रहे ट्रीटमेंट

Ujjain News - गर्मी बढ़ते ही शिप्रा के गऊघाट स्टापडेम और गंभीर के अंबोदिया डेम पर पानी का रंग पीला हो गया है। पानी का रंग साफ...

Mar 27, 2020, 08:55 AM IST
Ujjain News - mp news shipra and gambhir dame39s water color yellow treatment done by soil for the first time

गर्मी बढ़ते ही शिप्रा के गऊघाट स्टापडेम और गंभीर के अंबोदिया डेम पर पानी का रंग पीला हो गया है। पानी का रंग साफ करने के लिए पीएचई ने पहली बार मिट्टी मिलाकर पानी साफ करने की कोशिश की है। पीएचई का दावा है कि इस प्रयोग से पानी का रंग बदला है। इससे शहर में सप्लाई होने वाले पानी में पीलापन कम हुआ है।

शहर में शिप्रा के गऊघाट स्टापडेम और गंभीर के अंबोदिया डेम से जलप्रदाय किया जा रहा है। गर्मी बढ़ने से पानी का रंग पीला हो रहा है। फिल्टर प्लांट में पानी की सफाई तो हो रही है लेकिन सप्लाई में आने वाले पानी का रंग हल्का पीला है। कोरोना के कारण शहर में मचे हड़कंप के चलते जलप्रदाय में पीला पानी आने की शिकायतें प्रशासन को पहुंची है। इसके निदान के लिए पीएचई के ईई धर्मेंद्र वर्मा ने एई राजीव शुक्ला और अन्य अधिकारियों के साथ गंभीर और गऊघाट का दौरा किया। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि जिस जगह से फिल्टर प्लांट में पानी लिया जाता है वहां काली मिट्‌टी खोलें। इसके बाद वहां से पानी लें। गुरुवार को जलप्रदाय के लिए पानी लेने के पहले पानी में काली मिट्‌टी मिलाई गई। इसके बाद पानी फिल्टर प्लांट में लिया गया। पीएचई अधिकारियों ने दावा किया कि पानी का रंग कुछ साफ हुआ है। यह प्रक्रिया निरंतर चलने से पीले पानी की समस्या हल हो जाएगी।

मिट्‌टी के साथ हल्की टर्बिडिटी खत्म होगी

ईई वर्मा का कहना है बारिश के कुछ समय बाद टर्बिडिटी (पानी में घुले मिट्‌टी के कण) नीचे बैठ जाते हैं लेकिन ऊपरी पानी में मिट्‌टी के बहुत महीन कण बने रहते हैं। यह नीचे नहीं बैठते। यह स्थिति बारिश खत्म होने के बाद गर्मी आने तक बनती है। इस दौरान पानी में पीलापन आने लगता है। केमिकल ट्रीटमेंट से पानी तो साफ हो जाता है लेकिन इसके रंग में पीलापन बना रहता है। पानी साफ होने के बावजूद पीलापन दिखाई देने से नागरिक शिकायत करते हैं। इस समस्या का आसान इलाज यह है कि जहां से फिल्टर प्लांट में पानी लिया जाता है, वहां पानी में कुछ मात्रा में काली मिट्‌टी मिला दी जाए। पानी में मिट्‌टी घुल जाने से वह पानी में मौजूद महीन मिट्‌टी के कणों को भी अपने में समेट लेती है। फिल्टर में यह मिट्‌टी निकल जाने से पानी का रंग साफ हो जाता है। यह उपाय पहली बार यहां किया जा रहा है। इससे सफलता मिली है। लेबोरेटरी में पानी का रंग हल्का दिखाई दिया है।

पानी में हर घंटे में 10 किलो मिट्टी मिला रहे

गंभीर डेम के प्रभारी यंत्री एसके लाड का कहना है पानी में हर घंटे 10 किलो मिट्‌टी मिला रहे हैं। इससे पानी का रंग साफ होने लगा है। शुक्रवार को इस प्रयोग के नतीजे सामने आएंगे। सुबह जलप्रदाय के दौरान पानी की क्वालिटी से पता चलेगा, प्रयोग कितना सफल रहा है। रोज यह प्रयोग करने से पानी का रंग साफ हो जाएगा।

पानी साफ करने के लिए काली मिट्‌टी मिलाता कर्मचारी।

X
Ujjain News - mp news shipra and gambhir dame39s water color yellow treatment done by soil for the first time

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना