विद्यार्थी रोज आएं स्कूल, इसलिए हर माह करते हैं सम्मानित

News - सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों के लिए स्कूल में 75 फीसदी उपस्थिति अनिवार्य है। यदि उपस्थिति इससे कम है तो उन्हें...

Dec 04, 2019, 09:21 AM IST
सरकारी स्कूलों में पढ़ रहे बच्चों के लिए स्कूल में 75 फीसदी उपस्थिति अनिवार्य है। यदि उपस्थिति इससे कम है तो उन्हें परीक्षा देने से वंचित कर दिया जाता है। ऐसे में शासकीय माध्यमिक शाला सूरजकुंड ने बच्चों की उपस्थित बढ़ाने के लिए एक नया प्रयोग शुरू कर दिया है। प्रयोग के तहत जिस विद्यार्थी की हाजिरी रजिस्टर में सर्वाधिक उपस्थिति है उन्हें महीने के अंत में शील्ड भेंटकर सम्मानित किया जाएगा।

मध्यप्रदेश सरकार बच्चों का शैक्षणिक स्तर सुधारने के लिए नए-नए प्रयोग कर रही है, वहीं स्थानीय शासकीय माध्यमिक शाला सूरजकुंड में देखने को मिल रहा है। यहां शाला में उपस्थिति बढ़ाने के लिए किया गया नवाचार शाला में बच्चों की दैनिक उपस्थिति बढ़ाने के लिए माह के अंत में सर्वाधिक उपस्थिति का प्रतिशत आने वाली कक्षा को पुरस्कृत करने की परंपरा शुरू कर दी है। वहीं, कक्षा में सर्वाधिक उपस्थिति होने पर हर महीने के अंत में कक्षा के तीन-तीन विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया जा रहा है। इससे बच्चों की उपस्थिति अधिक होने की प्रेरणा मिलती है। शाला की प्रधान अध्यापिका सुनीता शर्मा ने बताया इस महीने कक्षा 6वीं की कक्षा शिक्षिका आलोचना मांगरोल और बच्चों को शील्ड भेंट की गई, जो कि कक्षा में पूरे महीने लगी रहेगी। अगले महीने इसी तरह सर्वाधिक उपस्थिति वाली कक्षा को शील्ड दी जएगी। स्कूल में कुल 133 बच्चों की संख्या दर्ज है, जिसमें से प्रतिदिन 80 विद्यार्थी ही स्कूल आ रहे थे। इस स्थिति को देखते हुए हमने इस तरह के नवाचार को शुरू किया। इसका सार्थक परिणाम भी हमें मिल रहा है। साथ ही छात्रों में प्रतिस्पर्धा की भावना भी बढ़ रही है। अब करीब 130 बच्चे नियमित स्कूल आ रहे हैं। इसके साथ ही कक्षा शिक्षक- शिक्षिकाओं को भी सम्मानित किया जा रहा है। 5 महीने पहले नवाचार शुरू किया गया था, अब तक 50 से अधिक विद्यार्थी सम्मानित हो चुके हैं।

सर्वाधिक उपस्थिति वाली कक्षा को पुरस्कृत करतीं प्राचार्या।

इन्हें मिला सम्मान : शील्ड भेंटकर सम्मानित किया

कक्षा में सार्वाधिक उपस्थिति के आधार पर कक्षा 6वीं के प्रणय लीलाधर, अर्शिता व प्रियंका को सम्मानित किया। जबकि सातवीं कक्षा में चहक, आरजू और कौशिकी सम्मानित हुई। कक्षा आठवीं में रिमझिम, आंचल व काजल को सम्मानित किया गया। इसके अलावा इन कक्षाओं की शिक्षक- शिक्षिकाओं को भी सम्मानित किया गया। नवंबर में कक्षा छटवीं की कक्षा शिक्षिका आलोचना मांगरोल को शील्ड देकर पुरस्कृत किया। इस उपलब्धि पर संस्था की शिक्षिका मधुबाला जायसवाल, भावना चौहान, निधि देवधर ने हर्ष व्यक्त किया।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना