उप्र से मप्र के बाजारों में शकर की आवक शुरू

News - कमजोर आवक के बाद अरसीकेरा का टेंडर 112 रुपए में गया इंदौर | उप्र में कोटा अधिक होने से भावों में करीब 100 रुपए की...

Dec 04, 2019, 08:50 AM IST
कमजोर आवक के बाद अरसीकेरा का टेंडर 112 रुपए में गया

इंदौर | उप्र में कोटा अधिक होने से भावों में करीब 100 रुपए की गिरावट आ गई है। उप्र का माल रतलाम, जावरा, मंदसौर तक आने लगा है। महाराष्ट्र में कोटा कम होने से भाव 10-20 रुपए घटे हैं। शकर में मांग सामान्य से अधिक नहीं है। अरसीकेरा का टेंडर 112 रुपए में गया। आवक 2000 बोरी की रही। संभवत: भाव कम होने से किसान बेचवाली में रूचि कम ले रहे हो, सकते हैं किंतु इसे लंबे समय तक रोककर रख भी नहीं सकते हैं। आगे- पीछे बेचना ही पड़ेगा। मौसम में परिवर्तन नहीं आने की वजह से मांग कम है। तमिलनाडु में तूफानी वर्षा होने के बाद नारियल की आवक इंदौर में प्रभावित हो सकती है। वर्तमान में ग्राहकी कम है। बेसन के भावों में सुधार आ सकता है। खोपरा बूरा में ग्राहकी के अभाव में भाव अटके हुए हैं। ग्राहकी निकलने पर तेजी आ सकती है।

किसानों को लाभकारी मूल्य मिले: ई-टेंडर की सुविधा होने के बावजूद आंध्र प्रदेश के कडप्पा जिले के किसानों को इस वर्ष लाभकारी मूल्य नहीं मिलने से आर्थिक परेशानी में पड़ गए हैं। किसानों को आशा थी कि राज्य सरकार हल्दी का समर्थन मूल्य घोषित करेगी, किंतु सरकार ने अभी तक ऐसा नहीं किया। किसानों का कहना है कि एक एकड़ पर 1.25 लाख रुपए का खर्च आता है। प्रति एकड़ 30 क्विंटल हल्दी प्राप्त होती है। हल्दी उत्पादक 10 हजार रुपए प्रति क्विंटल का भाव चाहते हैं जबकि वर्तमान में 2 हजार रुपए क्विंटल बिक रही है। व्यापारी हल्की क्वालिटी के माल में तो हाथ ही नहीं डाल रही है। इससे अलग से परेशानी खड़ी हो गई है। उल्लेखनीय है कि वर्ष 2016-17 में 4512 रुपए 2017-18 में 4499 रुपए एवं 2018-19 में 3799 रुपए क्विंटल के भाव प्राप्त हुए। कुछ व्यापारी चुनिंदा खेरची व्यापारियों को माल बेचना चाहने लगे हैं, क्योंकि माल बेचकर रुपए की आस कब तक लगाते रहे।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना