हंसदास मठ में नानीबाई रो मायरो की कथा का समापन

News - भगवान को सब कुछ मंजूर है, पर भक्त के दु:ख और आंसू नहीं। हमें अपने प्रत्येक कर्म उन्हें समर्पित कर शुरू करना चाहिए...

Nov 11, 2019, 08:26 AM IST
भगवान को सब कुछ मंजूर है, पर भक्त के दु:ख और आंसू नहीं। हमें अपने प्रत्येक कर्म उन्हें समर्पित कर शुरू करना चाहिए तभी हमारे पुरुषार्थ सफल हो सकते हैं। भक्ति निश्छल हो तो भगवान कृपा करने स्वयं आ जाते हैं। यह बात हंसदास मठ में ओंकारेश्वर के पं. विवेक कृष्ण शास्त्री ने रविवार को मठ के महामंडलेश्वर स्वामी रामचरणदास महाराज के सान्निध्य में चल रही नानीबाई रो मायरो की कथा के समापन पर रविवार को कही। कथा में मायरे का जीवंत उत्सव मनाया गया। भगवान स्वयं नानीबाई के लिए अपने साथियों सहित मायरा लेकर पहुंचे, तो भक्तों ने उनका स्वागत किया। पुजारी अमित दास महाराज, पं. पवन शर्मा एवं अन्य भक्तों ने पं. शास्त्री का स्वागत किया।

X
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना