--Advertisement--

शॉकिंग: अक्सर प्रेग्नेंसी के बाद महिलाओं का वजन बढ़ जाता है, लेकिन इस महिला के साथ जो हुआ, वो डॉक्टर्स के लिए पहेली बन गया

मौत के करीब पहुंच गई महिला, बड़ी मुश्किल से जान बचा पाए डॉक्टर

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2018, 05:22 PM IST

(ये कहानी 'मेडिकल साइंस' सीरीज पर आधारित है। दुनियाभर में मेडिकल साइंस से जुड़ी ऐसी कई रियल लाइफ शॉकिंग स्टाेरीज हैं, जिन्हें जानने के बाद हम अवेयर हो सकते हैं।)

ब्रिटेन. आमतौर पर प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं को मोटापे की शिकायत रहती है पर इस महिला के साथ जो हुआ वो डॉक्टर्स के लिए भी पहेली बन गया है। इंग्लैंड के डेवॉन शहर में रहने वाली 20 साल की सिनेड टेनर ने एक बच्चे को जन्म दिया। बच्चे के जन्म के बाद वो एक अजीबोगरीब बुखार की चपेट में आ गईं। सुबह होते ही उन्हें बदन तोड़ देने वाला बुखार होता और शाम तक ठीक हो जाता। हद तो ये हो गई कि सिनेड जैसे ही खाना खातीं, वो उनके शरीर से बाहर निकल जाता। अचानक कम हुआ 25 किलो वजन...

- प्रेग्नेंसी के बाद जनवरी 2017 से ये सिलसिला शुरू हुआ और सिनेड का वजन किलो तक कम हो गया। वो दिन में कम से कम 20 बार उल्टी करती। डॉक्टर्स को समझ नहीं आ रहा था कि आखिर उन्हें ऐसा क्यों हो रहा है।

लोगों को लगा एनोरेक्सिया का शिकार है सिनेड

- सिनेड के जान पहचान वाले लोगों को लगा कि वो एनोरेक्सिया का शिकार हैं। एनोरेक्सिया एक ऐसी बीमारी है, जिसमें व्यक्ति खाना-खाने से डरने लगता है। उसे लगता है कि उसने जरा भी खाना खाया तो मोटापे का शिकार हो जाएगा। इस मानीसिक बीमारी की वजह से वो इतना डरा हुआ होता है कि खाना खाना ही छोड़ देता है और शरीर का वजन खतरनाक रूप से कम हो जाता है। हालांकि, सिनेड को ये बीमारी नहीं थी। डॉक्टर्स पता लगाने में लगे थे कि आखिर उन्हें क्या हुआ है।

मौत के करीब पहुंची सिनेट

- सिनेड के वजन घटने का सिलसिला इतना तेज था मानो कि वो गायब हो रही हों। जनवरी 2018 तक वो इतनी कमजोर हो गई कि उनके भीतरी अंग फेल होने की कगार पर आ गए। वो मौत के बेहद करीब जा चुकी थी। उन्हें हॉस्पिटल में एडमिट किया गया, जहां उनका लंबा इलाज चला। उनका शरीर ने मानो खाने को अंदर लेने से मना कर दिया था। इसलिए उन्हें इंजेक्शन और सप्लीमेंट्स के जरिए जिंदा रखा गया। जैसे-तैसे सिनेड की जान बची।

मेरी जिंदगी पूरी तरह बदल गई

- अपनी बीमारी के बारे में सिनेड ने कहा, मुझे पता नहीं ये क्या हुआ है। मैं पहले स्विमर और डांसर थी। अब मैं चलने में भी घबराती हूं। दोस्तों के बीच किसी पार्टी में भी नहीं जाती क्योंकि लोग मुझे अजीब ढ़ंग से देखते हैं। चली भी जाऊं या कुछ खा भी लूं तो मुझे तुरंत टॉयलेट भागना पड़ता है। मेरे शरीर कि जैसे खाने से दुश्मनी हो गई हो।

जिंदा रहने के लिए खानी पड़ रही पोटेशियम की गोलियां

- डॉक्टर्स ने बताया कि उनके शरीर ने अभी-अभी ठीक होना शुरू नहीं किया है। उनके शरीर में पोटेशियम की कमी से उन्हें बेहोशी के दौरे आते हैं। ऐसी स्थिति में जिंदा रहने के लिए उन्हें दवाईयां लेनी पड़ रही हैं। सिनेड ने कहा, हर रात मुझे 13 टेबलेट खानी पड़ती है, जिससे मैं अगली सुबह देख सकूं। डॉक्टर्स अभी भी सिनेड की बीमारी समझने की कोशिश में लगे हुए हैं।

Mum's mystery 'reverse morning sickness That Sheded Her 25 Kg Weight After Baby Was Born. She was Getting Invisible
Mum's mystery 'reverse morning sickness That Sheded Her 25 Kg Weight After Baby Was Born. She was Getting Invisible
Mum's mystery 'reverse morning sickness That Sheded Her 25 Kg Weight After Baby Was Born. She was Getting Invisible
Mum's mystery 'reverse morning sickness That Sheded Her 25 Kg Weight After Baby Was Born. She was Getting Invisible
X
Mum's mystery 'reverse morning sickness That Sheded Her 25 Kg Weight After Baby Was Born. She was Getting Invisible
Mum's mystery 'reverse morning sickness That Sheded Her 25 Kg Weight After Baby Was Born. She was Getting Invisible
Mum's mystery 'reverse morning sickness That Sheded Her 25 Kg Weight After Baby Was Born. She was Getting Invisible
Mum's mystery 'reverse morning sickness That Sheded Her 25 Kg Weight After Baby Was Born. She was Getting Invisible
Bhaskar Whatsapp

Recommended