Hindi News »Business» NCLAT Suggests RCom And Ericsson May Settle Payment Dispute By Tomorrow

आरकॉम ने एरिक्सन को दिया 500 करोड़ रुपए के अग्रिम भुगतान का ऑफर, कंपनी पर 1600 करोड़ रुपए हैं बकाया

एनसीएलएटी ने दी सेटलमेंट की इजाजत, कहा- बुधवार तक सुलझाएं विवाद

DainikBhaskar.com | Last Modified - May 29, 2018, 03:41 PM IST

  • आरकॉम ने एरिक्सन को दिया 500 करोड़ रुपए के अग्रिम भुगतान का ऑफर, कंपनी पर 1600 करोड़ रुपए हैं बकाया
    +1और स्लाइड देखें
    आरकॉम का शेयर मंगलवार को 10% तक चढ़ा।- फाइल
    • 2014 में एरिक्सन ने आरकॉम का नेटवर्क संभालने के लिए 7 साल की डील की थी
    • एरिक्सन के मुताबिक आरकॉम पर उसके 1,600 करोड़ रुपए बकाया हैं

    मुंबई. एरिक्सन के साथ भुगतान विवाद पर रिलायंस कम्युनिकेशंस (आरकॉम) ने 500 करोड़ रुपए के अग्रिम भुगतान का ऑफर दिया है। उधर, अपीलेट ट्रिब्यूनल ने भी इजाजत देते हुए कहा कि बुधवार तक दोनों कंपनियां विवाद सुलझा सकती हैं। आरकॉम की याचिका पर नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल (एनसीएलएटी) बुधवार को अंतरिम आदेश जारी करेगाा।

    आरकॉम ने दिया 500 करोड़ के भुगतान का प्रस्ताव
    आरकॉम के वकील कपिल सिब्बल ने एनसीएलएटी की सुनवाई के दौरान अग्रिम भुगतान का सुझाव दिया। इस पर अपीलेट ट्रिब्यूनल ने दोनों कंपनियों को सेटलमेंट की इजाजत दे दी। ट्रिब्यूनल ने कहा कि अगर आप चाहते हैं तो हम सेटलमेंट की इजाजत दे सकते हैं। इस मुद्दे के समाधान के रास्ते तलाशिए।

    एरिक्सन ने दिवालिया प्रक्रिया शुरू करने की अपील की थी
    - आरकॉम ने नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) के फैसले को अपीलेट ट्रिब्यूनल में चुनौती दी है। स्वीडन की टेलीकॉम उपकरण निर्माता कंपनी एरिक्सन ने आरकॉम के खिलाफ दिवालिया प्रक्रिया शुरू करने की याचिका दायर की थी जिसे एनसीएलटी ने मंजूरी कर लिया। इस फैसले के खिलाफ रिलायंस कम्युनिकेशंस ने अपनी दो सहयोगी कंपनियों रिलायंस टेलीकॉम लिमिटेड (आरटीएल) और रिलायंस इंफ्राटेल लिमिटेड (आरआईटीएल) के साथ मिलकर अपील दायर की। आरकॉम की याचिका में अपील की गई कि मामले की तुरंत सुनवाई की जाए।

    क्या है पूरा मामला
    - 2014 में एरिक्सन ने आरकॉम के नेटवर्क को संभालने के लिए 7 साल की डील की थी। एरिक्सन का आरोप है कि आरकॉम ने उसका 1,600 करोड़ रुपए बकाया नहीं चुकाया है। पिछले साल सितंबर में एरिक्सन ने बकाया वसूली के लिए एनसीएलटी में याचिका दायर की थी।

    8,000 करोड़ रुपए जुटाने की राह हुई आसान

    आरकॉम की सब्सिडियरी रिलायंस इंफ्राटेल ने जानककारी दी कि टावर और फाइबर संपत्तियां बेचने के मुद्दे पर अल्पमत निवेशकों के साथ भी समझौता हो गया है। इसके बाद कंपनी के लिए संपत्तियां बेचकर 8,000 करोड़ का फंड जुटाना आसान हो जाएगा। एनसीएलटी ने संपत्तियां बेचने पर रोक लगा दी थी लेकिन निवेशकों के साथ समझौते के तहत बीच का रास्ता निकाल लिया गया है। इस खबर के बाद आरकॉम के शेयरों में 9% से भी ज्यादा तेजी दर्ज की गई।

  • आरकॉम ने एरिक्सन को दिया 500 करोड़ रुपए के अग्रिम भुगतान का ऑफर, कंपनी पर 1600 करोड़ रुपए हैं बकाया
    +1और स्लाइड देखें
    स्वीडन की कंपनी एरिक्सन ने आरकॉम के खिलाफ दिवालिया प्रक्रिया शुरू करने की अपील की थी।- फाइल
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: NCLAT Suggests RCom And Ericsson May Settle Payment Dispute By Tomorrow
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Business

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×