• Home
  • Business
  • Nirav Modi last seen in Britain in March went to paris
--Advertisement--

नीरव मोदी को आखिरी बार मार्च में ब्रिटेन में देखा गया था, वह हीथ्रो एयरपोर्ट से पेरिस रवाना हुआ था

नीरव मोदी का पासपोर्ट रद्द होने की सूचना 24 फरवरी से इंटरपोल के सेंट्रल डेटाबेस में दर्ज थी।

Danik Bhaskar | Jun 19, 2018, 12:58 PM IST
भारत ने जिस पासपोर्ट को रद्द कर दिया था, नीरव मोदी उसी पर विदेश यात्राएं करता रहा। -फाइल भारत ने जिस पासपोर्ट को रद्द कर दिया था, नीरव मोदी उसी पर विदेश यात्राएं करता रहा। -फाइल

  • भारत ने छह देशों को पत्र भेजे थे, सिर्फ ब्रिटेन ने जवाब देकर नीरव मोदी के बारे में पुष्टि की
  • इससे पहले खबरें आई थीं कि नीरव मोदी बेल्जियम में है

लंदन. करीब 13 हजार करोड़ रुपए के पीएनबी घोटाले में आरोपी हीरा कारोबारी नीरव मोदी को आखिरी बार मार्च में ब्रिटेन में देखा गया था। दरअसल, भारत ने छह देशों अमेरिका, फ्रांस, सिंगापुर, ब्रसेल्स, यूएई और ब्रिटेन को नीरव मोदी के बारे में जानकारी देने के लिए पत्र लिखे थे।

द गार्डियन के मुताबिक, सिर्फ ब्रिटेन ने पत्र का जवाब दिया और कहा कि नीरव 31 मार्च तक उसके देश में मौजूद था। सीबीआई ने भी सोमवार को कहा था कि भारत के 85वें सबसे अमीर शख्स नीरव मोदी का पासपोर्ट रद्द होने की सूचना 24 फरवरी से इंटरपोल के सेंट्रल डेटाबेस में दर्ज थी। इसके बावजूद वह कई देशों की यात्रा करने में कामयाब रहा।

नीरव मोदी ने इन देशों की यात्राएं की

तारीख यात्रा किस एयरपोर्ट से
10 फरवरी अमेरिका से ब्रिटेन न्यूयॉर्क के जॉन एफ कैनेडी एयरपोर्ट से लंदन के हीथ्रो एयरपोर्ट
15 फरवरी क्यूबा से ब्रिटेन होलगुइन के फ्रैंक पैस एयरपोर्ट से लंदन के हीथ्रो एयरपोर्ट
15 मार्च ब्रिटेन से हॉन्गकॉन्ग लंदन के हीथ्रो एयरपोर्ट से हॉन्गकॉन्ग इंटरनेशनल एयरपोर्ट
28 मार्च हॉन्गकॉन्ग से ब्रिटेन हॉन्गकॉन्ग इंटरनेशनल एयरपोर्ट से लंदन के हीथ्रो एयरपोर्ट
31 मार्च ब्रिटेन से फ्रांस लंदन के हीथ्रो एयरपोर्ट से पेरिस के चार्ल्स डी गॉल एयरपोर्ट

नीरव मोदी के पास छह पासपोर्ट : भगोड़े हीरा कारोबारी नीरव मोदी के खिलाफ 6 भारतीय पासपोर्ट रखने पर एफआईआर दर्ज की गई है। भारत ने जिस पासपोर्ट को रद्द कर दिया था, नीरव मोदी उसी पर विदेश यात्राएं करता रहा। नीरव के छह में से दो पासपोर्ट अभी एक्टिव हैं। एक में उसका नाम नीरव मोदी लिखा था, जिसे घोटाले का खुलासा होने पर रद्द कर दिया गया था। दूसरे में उसका नाम सिर्फ नीरव दर्ज है, इस पासपोर्ट पर उसे 40 महीने का ब्रिटेन का वीजा मिला है।

सात पहले शुरू हुआ था घोटाला : घोटाले की शुरुआत पीएनबी की मुंबई की ब्रेडी हाउस ब्रांच में 2011 से हुई। फ्रॉड फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग्स (एलओयू) के जरिए किया गया। फर्जी एलओयू तैयार कर 2011 से 2018 तक हजारों करोड़ की रकम विदेशी अकाउंट्स में ट्रांसफर की गई। घोटाले का खुलासा फरवरी के पहले हफ्ते में हुआ। पंजाब नेशनल बैंक ने सेबी और बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज को 11,356 करोड़ रुपए के घोटाले की जानकारी दी। बाद में पीएनबी ने सीबीआई को बैंक में 1300 करोड़ के नए फ्रॉड की जानकारी दी। इस तरह घोटाला करीब 13 हजार करोड़ तक जा पहुंचा।

पीएनबी घोटाले में आरोप लगने के बाद नीरव का हीरा कारोबार पूरी तरह चौपट हो गया। -फाइल पीएनबी घोटाले में आरोप लगने के बाद नीरव का हीरा कारोबार पूरी तरह चौपट हो गया। -फाइल
पीएनबी घोटाले में नीरव के साथ मेहुल चोकसी भी आरोपी है। -फाइल पीएनबी घोटाले में नीरव के साथ मेहुल चोकसी भी आरोपी है। -फाइल