• Hindi News
  • Bihar
  • Saharsa
  • Saharsa News no time limit set for purchase of essential commodities compulsion of milk vegetables and medicine

आवश्यक वस्तुओं की खरीददारी के लिए समय-सीमा का निर्धारण नहीं, दूध , सब्जी व दवा की बनी मजबूरी

Saharsa News - शहरवासियों को बच्चों के दूध, सब्जी एवं दवा आदि आवश्यक सामग्रियों की खरीददारी के लिए लोगों को लॉकडाउन की स्थिति...

Mar 27, 2020, 08:16 AM IST
Saharsa News - no time limit set for purchase of essential commodities compulsion of milk vegetables and medicine

शहरवासियों को बच्चों के दूध, सब्जी एवं दवा आदि आवश्यक सामग्रियों की खरीददारी के लिए लोगों को लॉकडाउन की स्थिति में भी बाहर निकलने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है। लॉकडाउन में कोरोना जैसी महामारी से सुरक्षित रहने के लिए हर कोई घर के अंदर रहना चाहते हैं। लेकिन परिवार के एक न एक किसी सदस्यों को आवश्यक-आवश्यकताओं में दूध व दवा के लिए बाहर निकलना ही पड़ जाता है। जब ऐसे आवश्यक कार्यों के लिए लोग निकले हैं तो नियम उल्लंघन को लेकर लोगों को पुलिस की बर्बरता का शिकार होना पड़ता है। पुलिस लोगों को एहतियात से ज्यादा लाठी चलाना ज्यादा मुनासिब समझते हैं।

केन्द्र व राज्य सरकार के साथ प्रशासनिक अमला कोरोना वायरस से बचाव के लिए युद्ध स्तर पर व्यवस्था करने में जुटा है। लेकिन दिन-रात के लॉकडाउन के बीच आखिर कौन-सा ऐसा टाईम होगा, जिसमें लोग सोशल डिस्टेंश
बनाते हुए आवश्यक-आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए मार्केटिंग कर सके। टाईम का निर्धारण नहीं होने या फिर समानों की होम डिलवरी व्यवस्था नहीं रहने के कारण चौक-चौराहों पर तैनात पुलिस बलों की अमानवीयता का शिकार होना पड़ता है।

सोशल डिस्टेंस एवं एक मीटर की दूरी बनाए रखना सबके लिए है जरूरी


सहरसा | कोरोना वायरस से बचाव के लिए एवं सरकार के निर्देश पर सोशल डिस्टेंश का अनुपालन लोग स्वयं सख्ती से कर रहे हैं। लेकिन गांव-गली, मोहल्ला में चल रही किराना दुकान के समक्ष सोशल डिस्टेंश एवं एक मीटर की दूरी बनाए रखने के नियम का अनुपालन फेल हो जा रहा है। किराना दुकानों में उमड़ने वाली भीड़ से ही सोशल डिस्टेंश का खतरा बना रहता है।

नगर परिषद क्षेत्र के 40 वार्डों के प्रत्येक गली-मुहल्लों में सैकड़ों किराना की दुकानें चल रही है। इन दुकानों में समुचित रूप से आवश्यक खाद्य पदार्थों की उपलब्धता नहीं रहती है। इस कारण ऐसे दुकानों में लोगों की भीड़ सामान खरीदने के लिए पहुंचती है तो भीड़ हो जाती है और सोशल डिस्टेंश एवं एक मीटर की दूरी बनाए रखने के नियम का अनुपालन भूल जाते हैं। इसके लिए जरूरी है कि दुकानदार भी अपनी दुकान के आगे एक मीटर पर घेरा बनाएं जिससे इसका अनुपालन हो। हालांकि शहर में सामाजिक कार्यक्रर्ता अमर ज्योति सहित कई दवा और किराना दुकानदारों ने गुरूवार को एक मीटर पर चूना और ब्लिचिंग पाउडर का घेरा बनाया ।

सिमरी बख्तियारपुर में लॉकडाउन के तीसरे दिन सुनसान रही सड़क, सड़क पर घूमने वालों के खिलाफ कार्रवाई

भास्कर न्यूज| सिमरी बख्तियारपुर

लोकडॉन के तीसरे दिन सिमरी बख्तियारपुर पर एक्का-दुक्का लोग एवं बाइक छोड़कर सड़क सुनसान रहा। एसडीओ बीरेन्द्र कुमार, डीएसपी मृदुला कुमारी, एएसडीएम अश्वनी कुमार ने सड़क पर वाहन दौरा रहे कुछ लोगों को जमकर फटकार लगाया। इतना ही नही चेतावनी दिया कि अगर दोबारा कोई सड़क पर नजर आया तो अब सिर्फ एफआईआर किया जाएगा। सिर्फ अतिआवश्यक कार्य हो तभी ही सड़क पर निकले।

एसडीओ ने कहा कि लोगो की जागरूकता के लिए लगभग तीन वाहन द्वारा क्षेत्र में जागरूकता के लिए प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। वही सभी पंचयात के एक स्कूल में अाईसोलेशन वार्ड बनाया गया है। सभी अाईसोलेशन वार्ड में कर्मी को प्रतिनियुक्त किया गया है। लोगो से कहा गया है कि बाहर से आने वाले लोगों की सूचना अवश्य दें। सभी पदाधिकारियों द्वारा मुख्य बाजार, रानीहाट, पहाड़पुर एवं बनमा इटहरी क्षेत्र का दौरा कर लॉकडाउन की स्थिति का जायजा लिया।

लॉकडाउन में है सोशल डिस्टेंश को करना है मेंटेन


नगर परिषद सहित गांव-घरों की गली-गली है किराना की दुकान

नगर परिषद सहरसा शहर के विभिन्न 40 वार्डों एवं नगर पंचायत सिमरी बख्तियारपुर के 15 वार्डों में हर मोहल्ला एवं गली में किराना दुकान है। इन दुकानों में दूध व दवा छोड़कर सब कुछ मिल जाती है। लेकिन दूध, दवा एवं सब्जी के लिए बाजार निकलना पड़ जाता है। प्रशासन का कहना है कि भंडारण नहीं करें।

आवश्यक वस्तुओं की खरीदारी के लिए हो रहा है लॉकडाउन के नियम का उल्लंघन


लॉकडाउन के दौरान शहर के शंकर चौक पर तैनात पुलिस बल।

X
Saharsa News - no time limit set for purchase of essential commodities compulsion of milk vegetables and medicine

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना