कोरोना से डरना नहीं, बल्कि सावधान रहना है : गोपाल सिंह

News - गांधी नगर समेत सभी हॉस्पिटल्स को कोरोना के लिए अपडेट किया जा रहा है सिटी रिपोर्टर । रांची सीसीएल के सीएमडी...

Mar 27, 2020, 07:15 AM IST

गांधी नगर समेत सभी हॉस्पिटल्स को कोरोना के लिए अपडेट किया जा रहा है

सिटी रिपोर्टर । रांची

सीसीएल के सीएमडी गोपाल सिंह का कहना है कि केंद्र और राज्य सरकार ने कोरोना वायरस की महामारी से निपटने के लिए 21 दिनों का लॉक डाउन कर दिया है। कोरोना को रोकने और बचाव के लिए इससे बेहतर कोई दूसरा उपाए नहीं है। उन्होंने केंद्रीय कोयला, खान और संसदीय कार्य मंत्री प्रल्हाद जोशी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि कोविद -19 के खिलाफ लड़ाई को मजबूत करने के लिए प्रधानमंत्री राष्ट्रीय राहत कोष में कोयला परिवार का हर सदस्य एक महीने का वेतन देने के लिए तैयार है। सीएमडी ने कहा कि इन हालात में किसी को अनावश्यक रूप से घबराना नहीं है। लोग घरों से न निकलें और खांसी या छींकने वालों से दूरी बनाए रखें। कोरोना से डरना नहीं, बल्कि सावधान रहना है। यदि किसी में कोरोना के लक्षण हों, तो उसका दायित्व है कि वो अपने परिवार और समाज को संक्रमण से बचाए। इसके लिए सीसीएल ने भी हेल्पलाइन नंबर 0651-2365999/998 जारी किया है। इससे सीसीएल के चिकित्सकों से कोविद-19 से संबंधित जानकारी प्राप्त कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि सीसीएल ने कोरोना वायरस का मुकाबला करने और कोविंद-19 से होने वाली आपात स्थितियों से निपटने के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं। गांधीनगर अस्पताल रांची, रामगढ़ अस्पताल, डकरा अस्पताल और ढोरी अस्पताल में 38 कंवारेंटाइन सुरक्षित वार्ड बना दिए हैं। गांधीनगर सेंट्रल हॉस्पिटल में कोरोना पॉजिटिव केस के लिए वेंटिलेटर सपोर्ट सहित इंटेंसिव केयर यूनिट बनाई गई है। झारखंड में कोरोना महामारी के संकट से निबटने के लिए केंद्रीय अस्पतालों और एक क्षेत्रीय अस्पताल करगली की मौजूदा बेड क्षमता को कोरोना आइसोलेशन बेड में परिवर्तित किया जाएगा। इससे 140 आइसोलेशन बेड हो जाएंगे। लगभग 80 लाख की चिकित्सा वस्तुओं की खरीद के लिए आदेश दिया जा रहा है। लगभग 8 लाख की आवश्यक दवाओं की खरीद की प्रक्रिया प्रधानमंत्री जनऔषधि केंद्र से की जा रही है। चार वेंटिलेटर खरीद का आदेश दिया जा चुका है। गांधीनगर अस्पताल के लिए एक वेंटीलेटर स्थानीय बाजार से खरीदा जा रहा है। चारों केंद्रीय अस्पतालों में कोरोना संक्रमण के लिए एक-एक एंबुलेंस की व्यवस्था की जा रही है, जिससे संक्रमित मरीज़ को रिम्स लाया जा सके। कोरोना वार्ड और महामारी नियंत्रण के लिए प्रतिनियुक्त डॉक्टरों को संक्रमण की रोकथाम और नियंत्रण के लिए विभागीय प्रशिक्षण दिया जा रहा है। वेंटिलेटर प्रशिक्षण के लिए एनेस्थेटिस्ट और सीसीयू डॉक्टरों को रिम्स, रांची भेजा जा रहा है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना