तमाड़ में चिकित्सा व्यवस्था में की जा रही लापरवाही के कारण लोगों में आक्रोश

News - पीएम नरेंद्र मोदी के इक्कीस दिनों की लॉक डाउन की घोषणा के बाद चेन्नई, बंगलोर, पुणे, गोवा, महाराष्ट्र आदि राज्यों...

Mar 27, 2020, 07:50 AM IST

पीएम नरेंद्र मोदी के इक्कीस दिनों की लॉक डाउन की घोषणा के बाद चेन्नई, बंगलोर, पुणे, गोवा, महाराष्ट्र आदि राज्यों में मजदूरी करने वालों की वापसी की संख्या तमाड़ में बढ़ने लगी है। इनमें कई मजदूरों की कोरोना वायरस से संक्रमित होने के लक्षण दिखाई देने लगे हैं । इनमें लोण्डरा-बांडवा, खखसीडीह, एडेलडीह, परासी, चालाडीह, बोधडीह, पांडरानी आदि गांव के मजदूर शामिल हैं । उक्त मजदूरों के आने से सम्बंधित गांव के ग्रामीण भी उन्हें शक की निगाहों से देखने लगे हैं। आश्चर्य की बात है कि सरकार की घोषणा के बाद भी ऐसे संदिग्धों की स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र में जांच की कोई सुविधा नहीं हैं। अस्पताल में सेनेटाइजिंग करना तो दूर कर्मियों और मरीजों को एक मॉक्स भी उपलब्ध नही कराया जा रहा। बताया जाता है कि जांच कराने गये कई संदिग्ध मजदूरों की जांच भी नही की जा रही और जिला अस्पताल को जाकर जांच कराने की हिदायत दी जा रही है। इसके लिए उन्हें एम्बुलेंस की व्यवस्था भी नही दी जा रही। खास बात यह है कि वैसे लोगों के साथ-साथ जाँच करने रांची जाने के लिए अपने परिजन भी साथ जाना नहीं चाहते। इसे गांवो में कभी भी कोरोना वायरस से विस्फोटक स्थिति उत्पन्न हो सकती है ।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना