--Advertisement--

जिसे खिलौना समझ खेल रहे थे बच्चे, सच जानने पर उड़ गए होश

समुद्र किनारे घूमने आई फैमिली को अंदाजा भी नहीं था कि बच्चे जिसे गेंद समझ खेल रहे थे, वो कितना घातक है।

Dainik Bhaskar

Apr 19, 2018, 12:18 AM IST
बच्चे ऐसे कर रहे थे मस्ती बच्चे ऐसे कर रहे थे मस्ती

हटके डेस्क. समुद्र किनारे घूमने गई एक फैमिली को इस बात का जरा भी अंदाजा नहीं था कि उनके बच्चे जिस चीज के साथ खेल रहे हैं, वह एक बम है। उन्हें इस बात का पता तब लगा जब अखबारों में उसी बम की फोटो और खबर छपी।

- यह घटना ब्रिटेन के वेल्स में रहने केलि ग्रेवल के साथ घटी। वो अपने पति और दो बच्चों के साथ बर्री पोर्ट घूमने गई थीं। उसी समय उनके बच्चों की नजर एक अजीब-सी चीज पर पड़ी। उसका आकार गोल था। इसलिए बच्चे उसे एक बड़ी सी गेंद समझकर उसके साथ खेलने लगे। हालांकि बहुत भारी होने के कारण वह चीज अपनी जगह से हिली नहीं। केलि ने उस चीज के साथ बच्चों की फोटोज भी खींची।

अखबार से हुआ खुलासा...
इस घटना के कुछ दिनों बाद केलि ने अखबार में पढ़ा कि जिस बीच पर वह परिवार के साथ घूमने गई थी, वहां सेकंड वर्ल्ड वॉर के दौरान यूज होने वाला बम (समुद्री माइंस) मिला है। पहले तो उन्हें लगा कि ये बम उनके आने के बाद मिला होगा। लेकिन तसल्ली के लिए केलि ने अपने बच्चों की फोटोज दोबारा देखी तो पला चला कि जिस चीज के साथ उसके बच्चे खेल रहे थे, वो बम था। केलि ने इस घटना का जिक्र एक इंटरव्यू में किया था।

समुद्र में मौजूद हैं कई बम...
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सेकंड वर्ल्ड वॉर में गिराए गए कई बम फूट नहीं पाए। वे जमीन या समुद्र के भीतर ही दफन हो गए। यूरोपीय समुद्र में आज भी ऐसे कई बम हैं। कभी-कभार इनमें से कोई बम लहरों के साथ किनारे तक भी आ जाता है। एक्सपर्ट्स के अनुसार ये बम आज भी घातक साबित हो सकते हैं।

आगे की स्लाइड्स में देखें, घटना से जुड़ी अन्य फोटोज...

बम से अनजान पैरेंट्स ने भी बच्चों की फोटोज ली। बम से अनजान पैरेंट्स ने भी बच्चों की फोटोज ली।
अखबार के जरिए पता चला कि यह सेकंड वर्ल्ड वॉर के समय का बम (माइन्स) था जो फट नहीं पाया था। अखबार के जरिए पता चला कि यह सेकंड वर्ल्ड वॉर के समय का बम (माइन्स) था जो फट नहीं पाया था।
सेकंड वर्ल्ड वॉर के दौरान इस्तेमाल होते थे ऐसे बम (समुद्री माइंस)। सेकंड वर्ल्ड वॉर के दौरान इस्तेमाल होते थे ऐसे बम (समुद्री माइंस)।
X
बच्चे ऐसे कर रहे थे मस्तीबच्चे ऐसे कर रहे थे मस्ती
बम से अनजान पैरेंट्स ने भी बच्चों की फोटोज ली।बम से अनजान पैरेंट्स ने भी बच्चों की फोटोज ली।
अखबार के जरिए पता चला कि यह सेकंड वर्ल्ड वॉर के समय का बम (माइन्स) था जो फट नहीं पाया था।अखबार के जरिए पता चला कि यह सेकंड वर्ल्ड वॉर के समय का बम (माइन्स) था जो फट नहीं पाया था।
सेकंड वर्ल्ड वॉर के दौरान इस्तेमाल होते थे ऐसे बम (समुद्री माइंस)।सेकंड वर्ल्ड वॉर के दौरान इस्तेमाल होते थे ऐसे बम (समुद्री माइंस)।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..