Hindi News »Business» PNB Fraud Case: Interpol Washington Said Mehul Choksi, Nirav Modi's Uncle Not In US

पीएनबी घोटाला: जांच के लिए ईडी की टीम सिंगापुर पहुंची; इंटरपोल ने कहा- मेहुल चौकसी अमेरिका में नहीं

ईडी, सीबीआई समेत कई एजेंसियां पीएनबी घोटाले की जांच कर रही हैं

DainikBhaskar.com | Last Modified - Jul 16, 2018, 06:49 PM IST

पीएनबी घोटाला: जांच के लिए ईडी की टीम सिंगापुर पहुंची; इंटरपोल ने कहा- मेहुल चौकसी अमेरिका में नहीं

नई दिल्ली. नीरव मोदी पर शिकंजा कसने के लिए प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की टीम सिंगापुर पहुंची है। न्यूज एजेंसी के सूत्रों के मुताबिक ईडी के अधिकारी वहां के अफसरों से मुलाकात करेंगे। सीबीआई ने इस साल की शुरुआत में नीरव मोदी के खिलाफ तीन मामले दर्ज किए थे, जिसके तहत ईडी सिंगापुर पहुंचा है। उधर इंटरपोल ने बताया है कि नीरव का मामा मेहुल चौकसी अमेरिका में नहीं है। न्यूज एजेंसी के सरकारी सूत्रों के मुताबिक भारत ने इंटरपोल से चौकसी के बारे में जानकारी मांगी थी। इंटरपोल ने पिछले बुधवार को उसका जवाब भेज दिया। बताया जा रहा है कि भारत ने मेहुल के संभावित ठिकानों के बारे में फिर से जानकारी मांगी है। मेहुल चौकसी नीरव मोदी का मामा है। इन दोनों ने पीएनबी के अधिकारियों के साथ मिलकर 13,000 करोड़ रुपए से ज्यादा का घोटाला किया। साल 2011 से 2017 के बीच फर्जी लेटर ऑफ अंडरटेकिंग जारी कर यह धोखाधड़ी की गई।

प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने 11 जून को नीरव मोदी और मेहुल चौकसी के खिलाफ भगोड़ा आर्थिक अपराध अधिनियम 2018 के तहत मनी लॉन्ड्रिंग मामले में मुंबई की विशेष अदालत में अर्जी दाखिल की थी। ईडी ने भारत, यूके और यूएई में दोनों की संपत्ति जब्त करने की इजाजत भी मांगी थी। सूत्रों के मुताबिक नीरव मोदी इंग्लैंड में है। भारत में उसके खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी हो चुका है। इंटरपोल 2 जुलाई को उसके खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस भी जारी कर चुका है। नीरव के साथ ही उसके भाई निशाल और नीरव की कंपनी के अधिकारी सुभाष परब के खिलाफ भी रेड कॉर्नर नोटिस जारी किया गया। 28 जून को विदेश मंत्रालय ने बताया कि कई देशों से अपील की गई है कि वो नीरव मोदी को अपने यहां एंट्री नहीं दें। फ्रांस, यूके और बेल्जियम से नीरव के बारे में जानकारी हासिल करने के लिए मदद की अपील की गई।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Business

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×