मुर्गी में बर्ड फ्लू की पुष्टि, एक किमी एरिया के सभी मुर्गी-बत्तख मिट्टी में दफनाए जाएंगे

Palamu News - पटना के अशोकनगर और नालंदा के कतरीसराय में मुर्गी में बर्ड फ्लू पॉजिटिव पुष्टि की फाइनल रिपोर्ट केंद्र ने...

Mar 27, 2020, 07:35 AM IST

पटना के अशोकनगर और नालंदा के कतरीसराय में मुर्गी में बर्ड फ्लू पॉजिटिव पुष्टि की फाइनल रिपोर्ट केंद्र ने गुरुवार को बिहार को भेज दी। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ हाई सिक्युरिटी एनिमल डिजीज (एनआईएचएसएडी) भोपाल की फाइनल रिपोर्ट मिलने के बाद अब इन दोनों स्थानों के आसपास के एक किलोमीटर के अंदर के सभी मुर्गी फार्म के मुर्गे-मुर्गियों के साथ अन्य पक्षियों बत्तख को कलिंग कर मिट्टी में दफनाया जाएगा। इस संबंध में पशु व मत्स्य संसाधन विभाग ने दोनों जिलों को निर्देश दिया। इधर कोरोना के कारण लॉकडाउन से राज्य के विभिन्न जिलों के मुर्गी फार्म से मुर्गे-मुर्गियों में बर्ड फ्लू जांच के लिए सीरम सैंपल कलेक्ट कर आरडीडीएल कोलकाता और एनआईएचएसएडी भोपाल नहीं भेजा जा पा रहा है। इससे अन्य जिलों में भी मुर्गे-मुर्गियों में बर्ड फ्लू जांच प्रभावित है। पशु व मत्स्य संसाधन मंत्री डॉ. प्रेम कुमार ने कोरोना और बर्ड फ्लू मामले पर गुरुवार को आपात बैठक कर अधिकारियों को आवश्यक कार्रवाई के निर्देश दिए। जहां बर्ड फ्लू की पुष्टि हुई है, उस क्षेत्र के एक किलोमीटर एरिया के मुर्गी व बत्तख पालकों को सरकार मुआवजा देकर कलिंग कराएगी। प्रति वयस्क मुर्गी व बत्तख के लिए 90 से 130 रुपए तक मुआवजा दिए जाते रहे हैं।

कैसे होती है पक्षियों की कलिंग

बर्ड फ्लू प्रभावित क्षेत्र के एक किलोमीटर एरिया के सभी मुर्गी, मुर्गे, बत्तख और अन्य पक्षियों को विशेषज्ञ पशु चिकित्सक द्वारा सुरक्षित तरीके से मार कर 5 से 6 फीट गड्डा बना कर इसे ब्लीचिंग पाउडर, चूना और सोडियम हाइपो क्लोराइट के डालकर दफनाया जाता है। पूरे एरिया को सेनेटाइज किया जाता है।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना