--Advertisement--

शादी के सालों बाद प्रेग्नेंट हुई थी महिला, लेकिन कुछ ही दिनों बाद डॉक्टर्स ने दी ऐसी खबर की झटके में खत्म हो गई खुशी

प्रेग्नेंट महिला को पता था कि चमत्कार से कम नहीं है ये बच्चा और उसने ले लिया बड़ा रिस्क

Dainik Bhaskar

Oct 12, 2018, 04:32 PM IST
Pregnant woman who refused cancer treatment to save unborn baby makes miraculous recovery

(ये कहानी 'सोशल वायरल सीरीज' के तहत है। दुनियाभर में सोशल मीडिया पर ऐसी स्टोरीज वायरल हुईं हैं, जिसे आपको जानना चाहिए।)

नेवार्क. इंग्लैंड में रहने वाले एक कपल को शादी के कई सालों बाद भी बच्चा नहीं हुआ था। फिर एक दिन डॉक्टर्स ने बताया कि महिला प्रेग्नेंट है और वे जल्द ही पेरेंट बनने वाले हैं। ये खबर इस कपल के लिए चमत्कार से कम नहीं थी और वे अपने बच्चे को यही मान रहे थे। हालांकि कुछ ही दिनों बाद इस कपल की ये खुशी उसी वक्त खत्म हो गई, जब महिला को कैंसर होने की बात पता चली। जिसके बाद डॉक्टर्स ने उसे बच्चा गिराने की सलाह दी, ताकि उसका ट्रीटमेंट शुरू किया जा सके। लेकिन महिला ने बच्चे को बचाने के लिए अपना ट्रीटमेंट कराने से इनकार कर दिया।

कुछ ही दिन की रही खुशियां

- ये स्टोरी इंग्लैंड के नॉटिंघमशायर में रहने वाले कपल जो पॉवेल और उसके हसबैंड रिचर्ड की है। शादी के कई साल बाद भी ये कपल बच्चा नहीं होने की परेशानी से जूझ रहा था।
- साल 2010 में इस कपल का सालों का इंतजार खत्म हो गया और जो का प्रेग्नेंसी टेस्ट पॉजिटिव आया। इस खबर को सुनने के बाद कपल की खुशी का ठिकाना ही नहीं रहा लेकिन उनकी ये खुशी कुछ ही वक्त की थी।
- प्रेग्नेंट होने की खबर मिलने के कुछ ही दिनों बाद डॉक्टर्स ने इस कपल को एक ऐसी खबर बताई जिसे सुनने के बाद उनकी खुशियां सदमे में बदल गईं। डॉक्टर्स ने बताया कि महिला ब्रेस्ट कैंसर से जूझ रही है। उसके ब्रेस्ट में कैंसर की गठान मिली।
- इसके बाद नॉटिंघम सिटी हॉस्पिटल के डॉक्टर्स ने महिला को बताया कि प्रेग्नेंसी के शुरुआती स्टेज में होने की वजह से उसकी कीमोथैरेपी नहीं की जा सकती। ऐसे में उन्होंने जो को बच्चा गिराने की सलाह दी। उनका कहना था इस हालत में थैरेपी देने से बच्चे के अपंग होने का खतरा था।
- डॉक्टर्स ने मिसेस पॉवेल को दूसरा ऑप्शन देते हुए कहा कि अगर वो बच्चे को बचाना चाहती हैं तो फिर उन्हें कीमोथैरेपी करवाने के लिए इंतजार करना होगा। ताकि गर्भ में मौजूद बच्चा थोड़ा बड़ा और स्ट्रॉन्ग हो जाए। हालांकि इलाज में देरी होने से महिला की जान खतरे में पड़ रही थी।

महिला ने जान लगा दी दांव पर

- डॉक्टर्स ने महिला को ये भी बता दिया कि अगर वो कीमोथैरेपी नहीं कराएगी तो प्रेग्नेंसी हार्मोन्स उसके कैंसर सेल्स को और भी ज्यादा तेजी से बढ़ने का मौका देंगे। लेकिन फिर भी महिला तैयार नहीं हुई।
- अपनी जान को खतरा होने के बाद भी जो को सबसे पहले अपने बच्चे की ही चिंता हुई। उसका कहना था, 'जब मैंने कैंसर शब्द सुना, तो मुझे लगा कि मैं अपना बच्चा खोने जा रही हूं।'
- 'ये ऐसा था जैसे मैं कोई बुरा सपना देख रही हूं। हम पिछले कई सालों से बच्चे की कोशिश कर रहे थे और हमें लगने लगा था कि शायद अब ये नहीं होगा। इसलिए जैक हमारे लिए बहुत खास था। हम अपने बच्चे को यूं ही नहीं छोड़ सकते थे। मैं खुद को बचाने के लिए उसका सौदा करने के बारे में सोच भी नहीं सकती थी।'
- डॉक्टर्स की तमाम वॉर्निंग्स के बाद भी लेडी पॉवेल ने तब तक कैंसर का ट्रीटमेंट नहीं लिया, जब तक कि गर्भ में मौजूद उसका बच्चा सरवाइव करने जितना बड़ा नहीं हो गया। इसके बाद उसकी कीमोथैरेपी की गई। आश्चर्यजनक रूप से इसका कोई साइड इफेक्ट जैक के शरीर पर नहीं पड़ा।
- नौ महीने पूरे होने के बाद उसने एक स्वस्थ बच्चे को जन्म दिया, जिसका नाम उन्होंने जैक रखा। हालांकि इस दौरान डिलीवरी के बाद लेडी पॉवेल को मैस्टेक्टमी सर्जरी कराते हुए अपने एक ब्रेस्ट को हटवाना पड़ा।

Pregnant woman who refused cancer treatment to save unborn baby makes miraculous recovery
Pregnant woman who refused cancer treatment to save unborn baby makes miraculous recovery
Pregnant woman who refused cancer treatment to save unborn baby makes miraculous recovery
X
Pregnant woman who refused cancer treatment to save unborn baby makes miraculous recovery
Pregnant woman who refused cancer treatment to save unborn baby makes miraculous recovery
Pregnant woman who refused cancer treatment to save unborn baby makes miraculous recovery
Pregnant woman who refused cancer treatment to save unborn baby makes miraculous recovery
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..