गौरी शंकर महादेव मंदिर में सार्वजनिक पूजा स्थगित की गई

Ara News - कोरोना महामारी को लेकर गड़हनी गौरीशंकर महादेव मंदिर में बृहस्पतिवार से सार्वजनिक पूजा पाठ बंद कर दिया गया। इसकी...

Mar 27, 2020, 06:15 AM IST
Ara News - public worship postponed at gauri shankar mahadev temple

कोरोना महामारी को लेकर गड़हनी गौरीशंकर महादेव मंदिर में बृहस्पतिवार से सार्वजनिक पूजा पाठ बंद कर दिया गया। इसकी जानकारी गौरीशंकर महादेव न्यास समिति के सचिव बैजनाथ प्रसाद ठाकुर द्वारा दी गई वही सिर्फ मंदिर का पूजा पाठ मंदिर के पुजारी के द्वारा किया जाएगा। साथ ही मंदिर न्यास समिति के सदस्यों द्वारा मंदिर के चारो तरफ साफ सफाई कर लोगों को जागरूक किया गया और गांव मे घूम कर लोगो को मास्क लगाकर व घर मे सेनेटाइज कर रहने को सलाह दी गई। इस मौके पर न्यास समिति के अध्यक्ष बबलू सिंह, उपेन्द्र केशरी, भगवान प्रसाद, अक्षयवट ओझा, दीनेश गुप्ता, टुन्ना सिंह, दीपक ओझा सहित कई लोग शामिल थे।

चैत नवरात्रि के दूसरे दिन मां ब्रह्मचारिणी की पूजा हुई, आज होगी मां चंद्रघंटा की पूजा

आरा | चैत नवरात्र के तीसरे दिन शुक्रवार को मां चंद्रघंटा की पूजा की जाएगी। कोरोना वायरस को देखते हुए सभी मंदिर का पट बंद रहेगा। इसके लिए भक्त मां की पूजा घर मे ही करे। मां आरण्य देवी मंदिर के पुजारी मनोज बाबा ने बताया कि गुरुवार को के शाम 5:53 से तृतीय तिथि शुरू हो जाएगा जो शुक्रवार के शाम 7:00 बजे तक रहेगा। श्रद्धालु मां चंद्रघंटा की पूजा क्रीम कलर या लाल कलर का वस्त्र पहन कर ही पूजा करें। भोग में अनार, काजू, अखरोट, लोंग व तांबूल लगाएं। साथ ही मां से प्रार्थना कि मेरे साथ साथ इस विश्व का भी कल्याण करें। बाबा ने बताया कि मां के इस रूप की सच्चे मन से पूजा करने से रोग दूर होते हैं, शत्रुओं से भय नहीं होता और लंबी आयु का वरदान मिलता है। इसके साथ ही मां आध्यात्मिक शक्ति, आत्मविश्वास और मन पर नियंत्रण भी बढ़ाती हैं। मां चंद्रघंटा शेर पर सवारी करती हैं और इनके दसों हाथों में अस्त्र-शस्त्र हैं। मां के माथे पर चंद्रमा विराजमान है जो उनका रूप और सुंदर बनाता है। मन, कर्म, वचन शुद्ध करके पूजा करने वालों के सब पाप खत्म हो जाते हैं।

बिहिया नगर स्थित मनौतियों की देवी माँ महथिन माई।

X
Ara News - public worship postponed at gauri shankar mahadev temple

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना