• Home
  • Jeevan Mantra
  • Jeene Ki Rah
  • Dharm
  • quotes of gautam buddha in hindi, life management tips in hindi, गौतम बुद्ध की 10 बातें- हजारों खोखले शब्दों से वह एक शब्द अच्छा है जो शांति लेकर आए
--Advertisement--

गौतम बुद्ध की 10 बातें- हजारों खोखले शब्दों से वह एक शब्द अच्छा है जो शांति लेकर आए

गौतम बुद्ध की ये बातें ध्यान रखेंगे तो आपकी सभी परेशानियां दूर हो सकती हैं।

Danik Bhaskar | Apr 30, 2018, 09:52 AM IST

रिलिजन डेस्क। सोमवार, 30 अप्रैल 2018 को बुद्ध जयंती है। गौतम बुद्ध बौद्ध धर्म के संस्थापक थे। उनका जन्म लुंबिनी में 563 ईसा पूर्व शाक्य कुल के राजा शुद्धोधन के घर हुआ था। उनकी माता का नाम महामाया था। बुद्ध के बचपन का नाम सिद्धार्थ था। सिद्धार्थ ने शादी के बाद अपने नवजात शिशु राहुल और पत्नी यशोधरा को त्याग दिया था। संसार को दुखों से मुक्ति दिलाने के लिए वे दिव्य ज्ञान की खोज में जंगल चले गए। वर्षों की कठोर तपस्या के बाद बोध गया (बिहार) में बोधी वृक्ष के नीचे उन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई और वे सिद्धार्थ गौतम से बुद्ध बन गए। यहां जानिए बुद्ध के 10 ऐसे प्रचलित विचार, जिनसे सुखी और सफल जीवन के सूत्र छिपे हैं।

1. हजारों खोखले शब्दों से वह एक शब्द अच्छा है जो शांति हमारे जीवन में लेकर आए।

2. जिसे जान-बूझकर झूठ बोलने में शर्म नहीं आती, वह कोई भी पाप कर सकता है। इसीलिए हमें ये तय कर लेना चाहिए कि हम हंसी-मजाक में भी कभी झूठ नहीं बोलेंगे।

3. सत्यवाणी ही अमृतवाणी है। सत्यवाणी ही सनातन धर्म है। असत्यवादी नरकगामी होते हैं। वे लोग भी नरक में जाते हैं, जो करके 'नहीं किया' ऐसा कहते हैं।

4. सभा में, परिषद में या एकांत में भी झूठ न बोलें। झूठ बोलने के लिए दूसरों को प्रेरित न करें और न झूठ बोलने वाले को प्रोत्साहन देना चाहिए।

5. जीवन में हजारों लड़ाइयां जीतने से अच्छा है कि तुम स्वयं पर विजय प्राप्त कर लो। फिर जीत हमेशा तुम्हारी ही होगी। इसे तुमसे कोई नहीं छीन सकता।

6. अतीत पर ध्यान मत दो और भविष्य के बारे में मत सोचो। अपने मन को वर्तमान पर केंद्रित करो।

7. संतोष सबसे बड़ा धन है, वफादारी सबसे बड़ा संबंध है और अच्छा स्वास्थ्य सबसे बड़ा उपहार है।

8. शक करने की आदत सबसे खतरनाक है। शक लोगों को अलग कर देता है। यह दो अच्छे दोस्तों को और किसी भी अच्छे रिश्ते को बर्बाद कर सकता है।

9. अज्ञानी आदमी एक बैल के समान है। वह ज्ञान में नहीं, आकार में बढ़ता है।

10. क्रोध को पाले रखना गर्म कोयले को किसी और पर फेंकने की नीयत से पकड़े रहने के सामान है, इसमें आप ही जलते हैं।