विज्ञापन

सूजन मिटाने का नायाब आदिवासी नुस्खा है नागरमोथा

Dainik Bhaskar

Nov 10, 2014, 05:52 PM IST

बडी सी घास की तरह दिखने वाला नागरमोथा आदिवासी अंचलों में अनेक नुस्खों के इस्तमाल किया जाता है। भुमका (हर्बल जानकार) नागरमोथा को एक महत्वपूर्ण औषधि के रूप में देखते हैं, लेकिन खेत खलिहानों में अक्सर उग आने वाला यह पौधा खरपतवार माना जाता है।

Nut grass in tribal areas is the use of multiple prescriptions.
  • comment
बडी सी घास की तरह दिखने वाला 'नागरमोथा' आदिवासी अंचलों में अनेक नुस्खों के इस्तमाल किया जाता है। भुमका (हर्बल जानकार) 'नागरमोथा' को एक महत्वपूर्ण औषधि के रूप में देखते हैं, लेकिन खेत खलिहानों में अक्सर उग आने वाला यह पौधा खरपतवार माना जाता है। इसके औषधीय गुणों का बखान अनेक पौराणिक ग्रंथों में भी देखने को मिलता है। आधुनिक विज्ञान में भी अनेक शोधों के जरिए भी इसके औषधीय गुणों की प्रामाणिक सिद्ध की जाती रही है। आज हम आपको इसी पौधे से जुड़ी कुछ जानकारियों से अवगत कराने जा रहे हैं

'नागरमोथा'​ के संदर्भ में रोचक जानकारियों और परंपरागत हर्बल ज्ञान का जिक्र कर रहे हैं डॉ. दीपक आचार्य (डायरेक्टर-अभुमका हर्बल प्रा. लि. अहमदाबाद)। डॉ. आचार्य पिछले 15 सालों से अधिक समय से भारत के सुदूर आदिवासी अंचलों जैसे पातालकोट (मध्यप्रदेश), डांग (गुजरात) और अरावली (राजस्थान) से आदिवासियों के पारंपरिक ज्ञान को एकत्रित कर उन्हें आधुनिक विज्ञान की मदद से प्रमाणित करने का कार्य कर रहे हैं।

यह पौधा संपूर्ण भारत में नमी तथा जलीय भू-भागों में प्रचुरता से दिखाई देता है, आमतौर से घास की तरह दिखाई देने वाले इस पौधे को मोथा या मुस्तक के नाम से भी जाना जाता है। नागरमोथा में प्रोटीन, स्टार्च के अलावा कई कार्बोहाड्रेट पाए जाते है। ऐसा माना जाता है कि संपूर्ण पौधे का लेप शरीर पर लगाने से सूजन मिट जाती है।

इसके कंद को कुचलकर सूजन वाले हिस्सों पर लगाने पर आराम मिलता है। आदिवासी इसके पूरे पौधे को कुचलकर पेस्ट तैयार करते हैं और स्केबीस और त्वचा रोगों से ग्रस्त रोगियों की त्वचा पर इस पेस्ट को लगाकर आराम दिलाया जाता है।

आदिवासी क्षेत्रों में इसकी जड़ों का रस तैयार किया जाता है और रस की २ चम्मच मात्रा प्रतिदिन बच्चों को देने से उनकी याददाश्त बेहतर होने में मदद मिलती है।

इसकी जड़ों के रस की 2- 2 बूंद की मात्रा आंखों में डालने से कंजक्टीवायटिस की समस्या में आराम मिलता है। आखों से पानी गिरने की समस्या हो या आंखों में लालपन, इन सभी समस्याओं में नागरमोथा की जड़ों के रस का इस्तमाल किया जाता है।

चुटकी भर नागरमोथा का चूर्ण शहद के साथ चाटने से हिचकियों के लगातार आने का क्रम रूक जाता है। छोटे बच्चों को अक्सर तेजी से हिचकियाँ आने पर आदिवासी महिलाएं नागरमोथा को कुचलकर कुछ बूँदें बच्चों को चटा देती हैं।

किसी वजह से जीभ सुन्न हो जाए तो नागरमोथा का लगभग ५ ग्राम चूर्ण दूध के साथ दिन में दो बार लेने से आराम मिलता है। बच्चों में स्मरण शक्ति बढाने के लिए देहातों में लोग इस पौधे के रस की २ चम्मच मात्रा प्रतिदिन बच्चों के देते हैं।

नागरमोथा को कुचलकर लेप कर लिया जाए और जननांगों के इर्दगिर्द लगाया जाए तो खुजली होना बंद हो जाती है, माना जाता है कि इसमें एण्टी-बैक्टेरियल गुण होते है। किसी तरह के इंफेक्शन होने की दशा में भी राहत मिल जाती है।

पातालकोट के आदिवासियों के अनुसार इसके कंद का चूर्ण तैयार कर प्रतिदिन एक चम्मच खाना खाने से पहले लिया जाए तो यह भूख बढाता है। वैसे यही फार्मुला ताकत और ऊर्जा बढाने के लिए भी दिया जाता है।

नागरमोथा के ताजे पौधे को पानी में उबालकर काढा तैयार कर प्रसुता महिलाओं के पिलाने से स्तनों का दूध शुद्ध होता है और दूध बढ़ता है, जिन्हे दूध कम आने की शिकायत हो, उन्हें भी काफ़ी फ़ायदा होता है।

गुजरात के आदिवासियों के अनुसार नागरमोथा की जड़ का काढ़ा बनाकर सेवन करने से शरीर से पसीना आना शुरू हो जाता है और पेशाब खुलकर आती है, जिन्हें मुँह से लार गिरने की शिकायत हो, उन्हे भी आराम मिल जाता है। इसे कई जगहों पर नेचुरल डेटाक्स की तरह इस्तमाल भी किया जाता है।
आगे की स्लाइड में देखें इस हर्बल औषधि के विभिन्न रूप...

Nut grass in tribal areas is the use of multiple prescriptions.
  • comment
Nut grass in tribal areas is the use of multiple prescriptions.
  • comment
Nut grass in tribal areas is the use of multiple prescriptions.
  • comment
Nut grass in tribal areas is the use of multiple prescriptions.
  • comment
X
Nut grass in tribal areas is the use of multiple prescriptions.
Nut grass in tribal areas is the use of multiple prescriptions.
Nut grass in tribal areas is the use of multiple prescriptions.
Nut grass in tribal areas is the use of multiple prescriptions.
Nut grass in tribal areas is the use of multiple prescriptions.
COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन
एप में पढ़ें