राजनीतिक सिल्वर जुबली पर नई पार्टी का ऐलान करेंगे राजा भैया

3 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया - Dainik Bhaskar
रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया
  • शनिवार को विधायक विनोद कुमार ने प्रेस वार्ता में दी जानकारी
  • यूपी के कई क्षत्रिय नेता राजा भैया के संपर्क में, राजनीतिक हलचलें बढ़ीं

लखनऊ. यूपी के बाहुबली नेता व पूर्व मंत्री रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया राजनीतिक जीवन के  25 साल पूरे होने पर 30 नवंबर को अपनी नई पार्टी का ऐलान करेंगे। शनिवार को इस बाबत लखनऊ में राजा भैया के करीबी नेताओं ने प्रेस वार्ता की और राजनीतिक दल के गठन पर सवालों केे जवाब दिए। निर्दलीय विधायक विनोद कुमार सरोज ने बताया कि 30 नवंबर को रजत जयंती समारोह आयोजित होगा। तमाम वरिष्ठों को सम्मानित किया जाएगा। उसी मौके पर राजा भैया अपनी पार्टी का ऐलान करेंगे। आयोजन के लिए रजत जयंती समारोह समिति बनाई गई है।

\"लखनऊ

दरअसल, अब तक निर्दलीय विधायक के तौर पर सियासी दलों को समर्थन देते आए राजा भैया अब राजनीतिक पारी की को और विस्तार देना चाहते हैं। राजा भैया के राजनीतिक दल के गठन की चर्चा तब से शुरू हुई है, जब से प्रतापगढ़ और आसपास के जिलों में उनके सर्वे वाले पोस्टर लगाए गए। यह पोस्टर प्रतापगढ़ ग्राम प्रधानसंघ की ओर से लगाए गए थे। इसमें लिखा गया था कि क्या राजा भैया को अब नई सियासी पार्टी बना लेनी चाहिए? विधायक विनोद कुमार का कहना है कि ज्यादातर लोगों का मानना है कि राजा भैया को अपनी पार्टी बनानी चाहिए। इसीलिए उन्होंने यह कदम बढ़ाया है।

 

यह हैं समिति के बड़े चेहरे: समिति के संयोजक का दायित्व कौशांबी से सपा के पूर्व सांसद शैलेंद्र कुमार के पास है। परीसिमन के बाद प्रतापगढ़ जिले का बड़ा इलाका कौशांबी संसदीय में आता है। यह इलाका राजा भैया के वर्चस्व वाला है। 2009 के लोकसभा चुनाव में शैलेंद्र कुमार की जीत में राजा भैया का काफी अहम भूमिका रही। वहीं प्रतापगढ़ के बाबागंज से निर्दलीय विधायक विनोद कुमार सरोज को समिति का अध्यक्ष बनाया गया है। विनोद, राजा भैया के खास माने जाते हैं। राजा भैया के सियासी रुतबे के दम पर ही विनोद सरोज के सिर 1996 से लगातार जीत का सेहरा बंध रहा है। इनके अलावा सुल्तानपुर, इलाहाबाद, जौनपुर, गाजीपुर, फैजाबाद आदि जिलों के कई क्षत्रिय नेता राजा भैया के संपर्क में हैं।  


समिति में जितेंद्र विजय सिंह मुन्ना और केएन ओझा को वरिष्ठ उपाध्यक्ष, अब्दुल सलाम मुन्ना हाजी को उपाध्यक्ष, दीपक सिंह और उमाशंकर यादव को महासचिव बनाया गया है। बलबीर सिंह चौहान व नफीस चौधरी सचिव बने हैं। कोषाध्यक्ष पद की जिम्मेदारी ज्ञानेंद्र प्रताप सिंह को मिली। राम अचल वर्मा संगठन सचिव और शीतला मिश्रा और अश्वनी सिंह को मीडिया प्रभारी बनाया गया।

 

26 साल की उम्र में बने थे विधायक: रघुराज प्रताप सिंह ने 26 साल की उम्र में 1993 में पहली बार कुंडा विधानसभा सीट से निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर जीत हासिल की थी। इसके बाद से वह लगातार इसी सीट से निर्दलीय प्रत्याशी के तौर पर जीत हासिल करते आ रहे हैं। राजा भैया 30 नवंबर को अपने राजनीतिक जीवन के 25 साल पूरे करने जा रहे हैं। इसीलिए 30 नवंबर को लखनऊ में रजत जयंती समारोह आयोजित किया जा रहा है। इसी कार्यक्रम में वह अपनी नई पार्टी की घोषणा करेंगे।