आईटी केंद्रों पर मिलेगी 10 दिन की राशन सामग्री

Nagour News - कोरोना वायरस के खतरे के बीच ग्रामीण क्षेत्र के लिए राहत भरी खबर है कि भारत निर्माण राजीव गांधी सेवा केंद्र पर...

Mar 27, 2020, 08:56 AM IST

कोरोना वायरस के खतरे के बीच ग्रामीण क्षेत्र के लिए राहत भरी खबर है कि भारत निर्माण राजीव गांधी सेवा केंद्र पर असहाय गरीब के लिए हर समय राशन सामग्री उपलब्ध रहेगी।

सरकार का मानना है कि लॉक डाउन होने से गरीब, भीख मांगने वाले, दिहाड़ी मजदूर व असहाय लोगों को भोजन की समस्या उत्पन्न हो गई है। इसके लिए जिले की सभी पंचायत समितियों को कलेक्टर ने निर्देश जारी किया है। वीडिया कांफ्रेस के जरिए जारी किए निर्देशों में कोरोना वायरस के कारण आपातकाल जैसी स्थिति बताई गई है। कलेक्टर के निर्देशों की पालना में समस्त पंचायत समिति के विकास अधिकारियों ने ग्राम पंचायतों को जारी की निर्देश जारी किए हैं जिसकी पालना शुरू कर दी गई है। जिले की हर आईटी केंद्र पर 5 क्विंटल आटा 50 किलो दाल पांच तेल के टीम 50 किलो नमक आदि हर समय उपलब्ध रखने के निर्देश दिए हैं।

जानकारी अनुसार कलेक्टर दिनेश कुमार यादव ने राज्य सरकार के निर्देश पर हुई वीसी में समस्त विकास अधिकारियों को बताया कि कोरोना वायरस कोविड-19 के संक्रमण से बचने के लिए लाॅक डाउन करने का निर्णय लिया हुआ है। अपना भारत आपातकाल जैसी स्थितियों से गुजर रहा है लॉक डाउन के कारण प्रत्येक राजस्व ग्राम में निवास कर रहे गरीब तबके के लोगों के लिए भोजन की समस्या उत्पन्न हो गई है। जब तक राज्य सरकार इस संबंध में विस्तृत दिशानिर्देश आगे जारी नहीं करती है तब तक समस्त ग्रामों में यह व्यवस्था की जानी है। गरीबों के लिए यह व्यवस्था समस्त ग्रामों में मौजूद ग्राम के प्रतिष्ठित, भामाशाह, धनी व समाजसेवी वर्ग के जरिए व्यवस्था होगी। ग्राम पंचायतों की निवेदन पर कई गांवों में भामाशाह और समाजसेवी वर्ग ने बैठक करके भोजन की व्यवस्था करने की हामी भरी है। उल्लेखनीय है कि जिले भर में जरूरतमंदों की मदद को लोग आगे आ रहे हैं।

सभी जरूरतमंद परिवारों को पांच किलो आटा, एक किलो दाल, आधा किलो नमक अाैर तेल मिलेगा

कलेक्टर के निर्देश पर वीडीओ ने आदेश दिए हैं कि आईटी केंद्र पर कोई व्यक्ति आपसे मदद मांगता है तो उसे 10 दिन का राशन 5 किलो आटा, 1 किलो दाल, अाधा किलाे नमक व तेल आदि राशन सामग्री एक साथ उपलब्ध कराएं वहीं वितरण का आवश्यक रिकॉर्ड रखने को कहा गया है। आदेश में ग्राम पंचायतों को कड़े निर्देश दिए हैं कि यदि कोई व्यक्ति भूखा रहता है तो यह आपकी व्यक्तिगत जिम्मेदारी होगी। गांव की गरीब जनता ने अपनी सुरक्षा के लिए आपको गांव का मुखिया बनाया है। आपातकाल की स्थिति में यदि कोई भूखा साेता है तो यह पंचायती राज के प्रयासों की विफलता होगी।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना