• Hindi News
  • Local
  • Rajasthan
  • Jaipur
  • Jaipur News rajasthan news bhu assistant professor39s suggestion to railways how railway coaches can be made into hospitals in different categories

बीएचयू के सहायक प्रोफेसर का रेलवे को सुझाव- कैसे रेलवे कोच को अलग-अलग कैटेगरी में अस्पताल बना सकते हैं

Jaipur News - देशभर में 7 हजार ट्रेनें हैं। 7566 लोको इंजन हैं। 37840 पैसेंजर कोच हैं। 6853 रेलवे स्टेशन हैं। 300 यार्ड हैं। 2300 गुड्स शेड...

Mar 27, 2020, 07:56 AM IST
Jaipur News - rajasthan news bhu assistant professor39s suggestion to railways how railway coaches can be made into hospitals in different categories

}देशभर में 7 हजार ट्रेनें हैं। 7566 लोको इंजन हैं। 37840 पैसेंजर कोच हैं। 6853 रेलवे स्टेशन हैं। 300 यार्ड हैं। 2300 गुड्स शेड हैं और 700 वर्क शॉप हैं।

जयपुर। रेलवे के पहिये थमे हैं, ट्रेनें यार्ड में खड़ी है। इससे अब कोरोना प्रकोप कम करने के लिए जहां भास्कर ने गुरुवार को ट्रेनों को अस्पताल में बदले जाने से जुड़ी एक खबर प्रकाशित की थी। अब बनारस हिंदू विश्वविद्यालय के सहायक प्रोफेसर अभिषेक जादौन ने भी रेलवे को एक 6 पेज का सुझाव दिया है। ट्रेनों में विद्युत की हाई वोल्टेज सप्लाई है, जिससे हेल्थ केयर मेडिकल इक्विपमेंट का आसानी से इस्तेमाल करना संभव होगा। ट्रेन को एक स्थान से दूसरे स्थान आसानी से ले जाया जा सकेगा। ट्रेन के पैंट्री कोच का इस्तेमाल मरीजों के कैंटीन बन जाए तो अच्छा। एसी कोच में एक निश्चित तापमान पर तमाम प्रकार के लेबोरेट्री टेस्ट और रिसर्च किए जा सकेंगे। ट्रेन में कोच के सीट का 200 मरीजों के लिए आसानी से आइसोलेशन वार्ड बना सकते हैं। स्लीपर कोच में मरीजों का वार्ड, हेल्थ केयर वर्कर्स के लिए रूम हो सकता है। जनरल कोच का इस्तेमाल दवाओं को स्टोर करने के लिए किया जा सकेगा। रेलवे की एक्सीडेंट रिलीफ और मेडिकल रिलीफ ट्रेन को कोच के सहायक के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।

X
Jaipur News - rajasthan news bhu assistant professor39s suggestion to railways how railway coaches can be made into hospitals in different categories

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना